http://blogsiteslist.com
इश्क लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
इश्क लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बुधवार, 6 दिसंबर 2017

समय ही इश्क हो लेता है समय से जब इश्क होता है

ऐसा नहीं है कि
नहीं लिखे गये
कभी कुछ शब्द
इश्क पर भी

ऐसा भी नहीं है
कि इश्क अब
लिखने का मौजू
रहा ही नहीं है

इश्क बुढ़ाता है
कहा जाना भी
ठीक नहीं है

हाँ बदल लेता है
इश्क नजरिया अपना

उम्र ढलने के साथ
कमजोर होती
जाती है जैसे आँख

दिखता नहीं है
चाँद भी
उतना सुन्दर
तारे गिने भी
नहीं जाते हैं जब
बैठे हुऐ छत पर
रात के समय
अन्धेरे से
बातें करते करते

बहुत कुछ होता है
आस पास ही अपने
फैला हुआ
समेटने के लिये

खुद 
अपने लिये
कुछ कौढ़ियाँ
जमा कर
गिनते गिनते
गिनना भूल जाना
भी इश्क होता है

उम्र बदलती है
नजर बदलती है
इश्क भी
बदल लेता है

तितलियों
फूल पत्तियों
इंद्रधनुष
बादल कोहरे
पहाड़ बर्फ
नदी नालों
से होते हुऐ
इश्क
मुड़ जाता है

कब किस समय
पहाड़ी पगडंडियों
से अचानक उतर कर
बियाबान भीड़ में
अपने जैसे कई
मुखौटों से खेलते
चेहरों के बीच

पता चलता है तब
जब कहने लगती हैं
हवायें भी
फुसफुसाती हुई
इश्क इश्क
और
याद आने शुरु होते हैं
फिर से ‘उलूक’ को

जलाये गये
किसी जमाने में
इश्क से भरे
दिवाने से मुढ़े तुढ़े
ढेरी बने कुछ कागज

कुछ डायरियाँ
थोड़े से सूखे हुऐ
कुछ फूल
कुछ पत्तियाँ

और धुँधली सी
नजर आना
शुरु होती है
उसी समय
इश्क के कागज
से बनी एक नाव

तैरते हुऐ
निकल लेती है
जो बरसाती नाले में
और
बचा रह जाता है
गंदला सा
मिट्टी मिट्टी पानी

लिखने के लिये
बहता हुआ
थोड़ा सा
कुछ इश्क
समय के साथ ।

चित्र साभार: business2community.com

बुधवार, 20 अगस्त 2014

होते होते कुछ हो गये का अहसास ही काफी हो जाता है

उम्र के साथ ही
हो जरूरी नहीं
समय के साथ
भी हो सकती है
इश्को मुहब्बत
की बात तुक में हो
या अतुकाँत हो
अंदर कही उबल
रही हो या फिर
कहीं चुपचाप
बैठी शांत हो
खड़ी पहाड़ी के
ऊपर उँचाई पर
बैठ कर नीचे से
आती हुई
सरसराती हवा जब
बात करना शुरु
कर देती है
उसके बाद कहाँ
पता चल पाता है
आभास भी
नहीं होता है
कुछ देर के लिये
समय जैसे पानी में
घुलती हुई सफेद
दूध की एक
धार हो जाता है
सारा जहर धीरे धीरे
निकलता हुआ
आत्मा का जैसे
आत्मा के नीले
पड़े हुऐ शरीर से
निकल कर
सामने से होता हुआ
दूर घाटी में बहती हुई
नदी में समा जाता है
शिव नहीं हो सकता
आदमी कभी भी
नहीं सह सकता है
आस पास फैले हुऐ
जहर की जरा सा
आँच को भी जरा सी
जानते बूझते तैरता है
डूबता उतराता है
जहर और जहरीला
हो जाता है
नीलकंठ की कथा
दोहराने कलियुग में
वैसे भी कोई
बहरूपिया ही
नाटक के एक पात्र के
रूप में ही आ पाता है
कुछ भी हो शहर से दूर
पहाड़ी के नीचे से ऊपर
की ओर बहती हवा में
कुछ देर के लिये ही सही
थोड़ा बहुत ही सही
बैठा या खड़ा हुआ
पत्थर पर एक भीड़ से
निकला हुआ पत्थर
पिघल नहीं भी पाता है
पर कहीं कुछ मुलायम
सा हो जाने का अहसास
ही बस अनमोल हो जाता है ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...