http://blogsiteslist.com
कंकड़ लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
कंकड़ लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 17 जुलाई 2014

सभी के होते हैं रिश्ते सभी बनाना चाहते हैं


कंकड़
पत्थर
की ढेरी के
एक कंकड़
जैसे हो जाते हैं

रिश्ते
साथ रहते हुऐ भी
अलग हो जाते हैं

जब
इच्छा होती है
इस ढेरी से
उस ढेरी में
डाल दिये जाते हैं

पता
चल जाता है
आकार प्रकार
और रंग से

अभी
तक कहीं
और थे
अभी
अभी कहीं
और
पाये जाते हैं

रस्सी
नहीं होते हैं
गांठो में नहीं
बांधे जाते है

खोलने
बांधने के
मौके जबकि
बहुत बार
सामने से आते हैं

मिलने जुलने
से लेकर
बिछोह
होने तक
रिश्ते गरम
से होते हुऐ
कब ठंडे
हो जाते हैं

रिश्ते
आसमान से
गिरते जल की
ऐसी बूँदे भी
हो सकते हैं

गिरते गिरते ही
एक दूसरे में
जो आत्मसात
हो जाते हैं

पानी में से
पानी को
अलग कर पाना
अभी तक यहाँ
कहीं भी नहीं
सिखाते हैं

अपनी अपनी
की धुन में
नाचती अपनी
जिंदगी में

कब
बूँद बन कर
आसमान
से नीचे की ओर
गिरते हुऐ आते हैं

किसी
दूसरी बूंद में
मिलने से पहले ही
कब पत्थर हो जाते हैं

जानते हैं
समझते हैं
पर समझना ही
कहाँ चाहते हैं

एक ढेरी के
कंकड़ो
में गिरकर
इधर से उधर
लुढ़कते लुढ़कते
किसी दूसरी ढेरी
में पहुँच जाते है

रिश्ते
पानी की बूँदें
नहीं हो पाते हैं ।

सोमवार, 24 मार्च 2014

उससे ध्यान हटाने के लिये कभी ऐसा भी लिखना पड़ जाता है

कभी सोचा है
लिखे हुए एक
पन्ने में भी
कुछ दिखता है
केवल पढ़ना
आने से ही
नहीं होता है
पन्ने के आर
पार भी देखना
आना चाहिये
घर के दरवाजे
खिड़कियों की तरह
एक पन्ने में भी
होती हैं झिर्रियाँ
रोशनी भीतर की
बाहर छिरकती है
जब शाम होती है
अँधेरा हो जाता है
सुबह का सूरज
निकलता है
थोड़ा सा उजाला
भी कहीं से
चला ही आता है
लिखा हुआ रेत
का टीला कहीं
कहीं एक रेगिस्तान
तक हो जाता है
मरीचिका बनती
दिखती है कहीं

एक जगह सूखा
पड़ जाता है
नमी लिया
हुआ होता है
तो एक बादल
भी हो जाता है
नदी उमड़ती है कहीं
कहीं ठहरा हुआ
एक तालाब सा
हो जाता है
पानी हवा के
झौंको से
लहरें बनाता है
गलतफहमी भी
होती हैं बहुत सारी
कई पन्नों में
सफेद पर काला
नहीं काले पर
सफेद लिखा
नजर आता है
समय के साथ
बहुत सा समझना
ना चाहते हुए
 भी
समझना पड़ जाता है
हर कोई एक
सा नहीं होता है
किसी का पन्ना
बहुत शोर करता है
कहीं एक पन्ना
खामोशी में ही
खो जाता है
किसी का लिखा
खाद होता है
मिट्टी के साथ
मिलकर एक
पौंधा बनाता है
कोई कंकड़ पत्थर
लिखकर जमीन को
बंजर बनाता है
सब तेरे जैसे
बेवकूफ नहीं
होते हैं “उलूक”
जिसका पन्ना
सिर्फ एक पन्ना
नहीं होता है
रद्दी सफेद कपड़े
की छ: मीटर की
एक धोती जैसा
नजर आता है । 

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...