http://blogsiteslist.com
कार लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
कार लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 24 अप्रैल 2014

कुछ दिन और चलना है ये बुखार

चुनावी बसंतों की
ताजिंदगी
रही है भरमार
जीवन को तो
चलना ही है
इस प्रकार
या उस प्रकार
वोट कभी दे
कर के आया
एक दो बार
नाम वोटर लिस्ट
से गायब
हुआ भी पाया
सीटियाँ बजाते हुऐ
लौट उस बार आया
कभी इसकी बनी
और कभी उसकी बनी
अपने देश की सरकार
अपना मौका मगर
अभी तक भी
नहीं आ पाया
शायद ऊपर वाला
बना ही रहा हो
बस मेरी और
केवल मेरी
सरकार इस बार
हैड और टेल ने
पहले भी बहुत
बार है छकाया
सिक्का उछ्ल चुका है
आसमान की ओर
ताकत लगा कर
ही गया है उड़ाया
इधर गिराने को
इसने जोर
है लगाया
उधर गिराने को
उस ने है एक
पँखा चलवाया
लग रहा है देखेंगे
लोग कुछ ऐसा
जैसा इस बार
जैसा पहले कभी
भी नहीं हो पाया
सिक्का होने वाला
है खड़ा जमीन
पर आकर
बता गया है
कान में
धीरे से कोई
आकर फुसफुसाया
उसे मिल
गया था घोड़ा
जब उसकी
बनी थी सरकार
इसकी बार
इसको मिली थी
लाल बत्ती लगी
हुई एक कार
झंडे टोपी वाले
हर चुनाव में
वहीं दिखे
आगे पीछे ही
लगे डौलते हर बार
किस्मत अपनी
चमकने का
उनको भी
हो रहा है
बड़ी बेसब्री
से इंतजार
इसी बार बनेगी
जरूर बनेगी उनकी
अपनी सी सरकार
दूल्हा जायेगा
लम्बे समय को
दिल्ली की दरबार
खास ज्यादा
नहीं होते हैं
बस होते हैं
दो चार
उनके हाथ में
आ ही जायेगा
कोई ना
कोई कारोबार
झंडे टोपी वाले
संतोषी होते हैं
खुश होंगे जैसे
होते हैं हर बार
सपने देखेंगे
खरीदेंगे बेचेंगे
इस बार नहीं
तो अगली बार
कोई रोक नहीं
कोई टोक नहीं
जब होता है
अपने पास
अपना ही एक
सपनों का व्यापार ।

शनिवार, 15 मार्च 2014

होली को होना होता है बस एक दिन का सनीमा होता है

मित्रों के
लिये कम
दुश्मनों से
गले मिलने
के लिये
कुछ ज्यादा
होनी होती है
होली कई 
कई सालों
के गिले शिकवे
दूर करने की
एक मीठी सी
गोली होती है
बस एक दिन
के लिये
“आप” होते हैं
एक “हाथ”
में “कमल”
एक हाथ
में “लालटेन”
भी होनी होती है
“हाथी” की सूँड
से रंगों की बरसात
हरे सफेद नारंगी
रंग के “तिरंगे”
को “लाल” रंग
से सलामी
लेनी होती है
सफेद टोपी
किसी की भी हो
रंग भरी हो
आड़ी तिरछी हो
सभी के सिर पर
होनी होती है
“साईकिल” के
सवारों की
मेजबानी “कार”
वालों को
लेनी होती है
कहीं “गैससिलेण्डर”
कहीं “पतंग”
कहीं कहीं
जेब काटने
की “कैंची”
एक होनी
होती है
एक दिन
ही होता है
बिना पिये
जिस दिन
हर किसी
को भाँग
चढ़ी होनी
होती है
नेता कौन
अभिनेता कौन
मतलब ही नहीं
होना होता है
जनता हूँ
जनता को
एसा कुछ भी
कहीं भी नहीं
कहना होता है
बस एक ही दिन
प्यार मनुहार और
गिले शिकवे दूर
करने के लिये
होना होता है
जिसके होने को
हर कोई “होली”
होना कहता है
ना हरा होना
होता है ना
लाल होना होता है
जो होना होता है
बस काला और
सफेद होना होता है
एक दिन के
कन्फ्यूजन से
करोड़ों को
हजारों दिन
आगे के लिये
रोना होता है
होली हो लेती
है हर बार
चढ़े हुए रंगों
को उतरना
ही होता है
बाकी के
पाँच साल
का हर दिन
“उलूक”
देश की
खाल खीँचना
और
निचोड़ना
होता है
बुरा होता
भी है तो
बुरा नहीं
लगना होता है
होली की
शुभकामनाऐं
ले दे कर
सबको सब से
"बुरा ना मानो होली है"
बस कहना
होता है ।

सोमवार, 30 जुलाई 2012

बेकार तो बेकार होता है

किसी के पास
होती है कार
कोई बिना
कार के होता है
किसी का
आकार होता है
कोई कोई
निराकार होता है
और एक
ऎसा होता है जो
होता तो है
पर बेकार होता है
ये बेकार
होना भी कई
कई प्रकार
का होता है
नौकरी नहीं
मिल पाती
तो बेकार
हो जाता है
छोकरी पाकर
भी कोई कोई
बेकार हो जाता है
कुछ नहीं
आता है और
बेकार कहलाता है
कभी कभी
बहुत कुछ
जानते हुऎ
भी कोई
बेकार हो जाता है
ज्यादातर
एक बेकार
बहुत दिनों
तक बेकार
नहीं रह पाता है
मौका मिलते ही
सरकार
बना ले जाता है
एक बेकार आपको
साकार
पर लिखता
हुआ मिल जाता है
दूसरा
निराकार को
आकार अपनी
कलम से ही
दे जाता है
बहुत सारा
बेकार बेकार
के द्वारा
बेकार पर ही
लिखा हुआ
मिल जाता है
खुद ही देख
लीजिये जा कर 
आप ही अपने आप
ज्यादा कारों
को एक बेकार
बेकार पर ही
खड़ा पाता है
पर जो है
सो है
वो तो है
एक बात सौ
आने पक्की है
कि बेकार
है क्या और
क्या नहीं है
बेकार
एक बेकार
से अच्छा
कोई नहीं
किसी को
कभी बता
पाता है ।

सोमवार, 25 जून 2012

कार ला दो एक उधार ला दो

सुनो जी
सुनो जी
एक कार
अब तो
ले ही
आते हैं

पैसा
अपना किसी
बैंक में पहले
फिक्स
करवाते है

उसके बाद
किसी से
कुछ उधार
लेने की
योजना एक
बनाते हैं

बैंक से
उधार लेने
पर तो ब्याज
सिर चढ़ता
चला जायेगा

किसी
पड़ोसी या दोस्त
को फसाने
से काम बहुत
आसान हो जायेगा

कुछ लम्बा
समय भी
मिल जायेगा
और
खाली मूलधन
लौटाने से
भी काम
हमारा चल
ही जायेगा

आज से ही
रेकी करना
आप शुरू
कर डालिये

पहले
पैसे वाले
जो पैदल
चला करते हैं
उन पर
नजर डालिये

ऎसे लोग
बड़ी किफायत
के साथ
चला करते हैं
पैसा बर्बाद
बिल्कुल नहीं
कभी करते हैं

बस जरूरत
की चीजें
ही खरीदा
करते हैं

छोटे समय में
इन लोगों
के पास अच्छी
पूंजी जमा
हो जाती है

जो किसी
के भी कहीं
काम में नहीं
आ पाती है

इन लोगों
को अपने
पैसे को
कहीं लगाना
आप सिखलाइये

जमाना
कहाँ से कहाँ
पहुँच गया है
इनको आईना
दिखलाइये

जीने चढ़
उतर कर
ये इधर
उधर पैदल
जाते रहें
कहीं भी

हमें
मतलब नहीं
बस हमारे ऊपर
थोड़ा सा तरस
ये खा सकें
इसके लिये
इनके सामने
गिड़गिड़ाने
में आप बिल्कुल
भी ना शर्माइये

सफाई
कर्मचारी तक
आजकल
झाडू़ लेकर
कार पर
आने लगे हैं

हमें भी
एक कार
दिलवाकर
इज्जत हमारी
नीलाम सरेआम
होने से बचाइये।

शुक्रवार, 20 अप्रैल 2012

नमस्ते हैलो हाय

नमस्ते हैलो हाय
वो जब उधर से आई
इधर की महिलायें भी
जवाब में मुस्कुराई
बहुत दिन से आप
नहीं दी हमको दिखाई
हाँ रे मै ना ज्यादातर
उधर से ही आती हूँ
और इधर से चली जाती हूँ
आप लोग इधर से आते होंगे
उधर से चले जाते होंगे
तभी तो हम सालभर में
कभी कभी टकराते होंगे
वैसे भी मैं तो स्कूटी
से ही आ पाती हूँ
कभी कभी ना उनसे
कार से भी छुड़वाती हूँ
पैदल रास्ते यहां के
और गाड़ी की सड़क
भी यहां कहीं मिलाये
नहीं गये हैं
मोड़ मोड़ कर
रास्तों को रास्ते से
उलझाये से गये हैं
जो जिस रास्ते से
यहां आ पाते है
उसी तरह के लोगो
से मेलमिलाप बढा़ते हैं
अब क्या करें साल में
मजबूरी हो जाती है
परीक्षाओं के बहाने
सब लोगों को एक
दूसरे से नमस्ते
हैलो हाय कह कर
मुस्कुराने की प्रैक्टिस
तो कराती है।

मंगलवार, 8 नवंबर 2011

"Its fashion to walk in hills and not to ride a car"

दो वर्ग
किलोमीटर के
मेरे शहर की
कैन्टोंन्मेंट
की दीवार
उस पर लिखी
ये इबारत

अब मुंह चिढ़ाती है

शहर के लोग
अब
सब्जी खरीदने
कार में
आने लगे हैं

वो
उनके बच्चे
दोपहियों
पर भी
ऎसे उड़ते हैं
जैसे
शहर पर
आने वाली है
कोई आफत

वो नहीं पहुंचे
अन्ना हजारे
और जलूस
दूर निकल जायेंगे
बाबा रामदेव
भाषण खत्म
कर उड़ जायेंगे

जिस दिन
बढ़ जाते हैं
पैट्रोल के दाम
और दौड़ने
लगती हैं
चमकती दमकती
कुछ और
मोटरसाईकिलें
मालरोड पर

थरथराने
लगते हैं
बच्चे बूढ़े
सूखे पत्तों
की तरह

पट्टी बंधवाते
दिखते हैं
कुछ लोग
हस्पताल में

चेहरे पर रौनक
दिखाई देती है
पुलिस वालो के

महसूस होती है
जरूरत
एक सीटर
हैलीकोप्टर की
मेरे शहर के
जांबाज बच्चो,
बच्चियों, मांओं
पिताओं के
हवा में
उड़ने के लिये

गर्व से कहें वो

हम पायलट है
जमीन पर नहीं
रखते कदम

और

जमीन पर
चलने वाले
बच्चे बूढ़े
कर सकें
कुछ देर
मुस्कुराते हुवे
सड़कों पर
कदमताल ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...