http://blogsiteslist.com
गंध लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
गंध लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मंगलवार, 23 सितंबर 2014

सब कुछ सब की समझ में आना जरूरी नहीं पर एक भोगा हुआ छाँछ को फूँकने के लिये हवा जरूर बनाता है

मकड़ी की फितरत है
क्या करे
पेट भरने के लिये
खून चूस लेती है
उतना ही खून
जितनी उसकी
भूख होती है
मकड़ियाँ मिल कर
जाल नहीं बुनती हैं
ना ही शिकार को
घेरने के लिये कोई
षडयंत्र करने की
उनको कोई
जरूरत होती है
हर आदमी मकड़ी
नहीं होता है
ना ही कभी होने
की ही सोचता है
कुछ आदमी जरूर
मकड़ी हो जाते हैं
खून चूसते नहीं है
खून सुखाते हैं
शायद ये सब उन्हे
उनके पूर्वजों के
खून से ही
मिल जाता है
विज्ञान का सूत्र भी
कुछ ऐसा ही
समझाता है
खून सुखाने के लिये
कहीं कोई यंत्र
नहीं पाया जाता है
एक खून सुखाने वाला
दूसरे खून सुखाने वाले
की हरकतों से उसे
पहचान जाता है
सारे खून सुखाने वाले
एक दूसरे के साथ
मिल जुल कर
भाई चारा निभाते हैं
हजारों की भीड़ भी हो
कोई फर्क नहीं पड़ता है
अपने बिछुड़े हुऐ
खून की गंध बहुत
दूर से ही पा जाते हैं
अकेले काम करना
इनकी फितरत में
नहीं होता है
किसी साफ खून वाले
को सूँघते ही जागरूक
हो कर शुरु हो जाते हैं
यंत्र उनका एक
षडयंत्र होता है
पता ही नहीं चलता है
खून सूखता चलता है
क्या ये एक गजब
की बात नहीं है
‘उलूक’ भी ये सब
देख सुन कर
सोचना शुरु करता है
ऐसा कारनामा जिसमें
ना जाल होता है
ना मक्खी फंसती है
ना खून निकलता है
मकड़ी और मक्खी
आमने सामने होते हैं
मकड़ी मुस्कुराती है
मक्खी के साथ बैठी
भी नजर आती है
खून बस सूख जाता है
किसी को कुछ भी
पता नहीं चल पाता है
मकड़ियाँ कब से
पकड़ रही हैं
मक्खियों को
और इससे ज्यादा
उनसे कई जमानों तक
और कुछ नया
जैसा नहीं हो पाता है
पर उनका सिखाया
पाठ आदमी के लिये
वरदान हो जाता है
होता हुआ कहीं कुछ
नजर नहीं आता है
लाठी भी नहीं टूटती है
और साँप भी मर जाता है ।

चित्र साभार: http://faredlisovzmesy.blogspot.in

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...