http://blogsiteslist.com
जुगत लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
जुगत लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शनिवार, 8 मार्च 2014

आचार संहिता है हमेशा नहीं रहती है कुछ दिन के लिये मायके आती है

आचार
संहिता
कुछ दिन
के लिये
ही सही

विकराल
रूप
दिखाती है

बहुत कुछ
कर लेती है
नहीं कहा
जा रहा है
पर
कुछ चीजों
के लिये
जैसे सुरसा
हो जाती है

डर वर
किसी को
होने लगता
है किसी
चीज से
ऐसी बात
कहीं भी
ऊपर से
नजर कहीं
नहीं आती है
 


शहर के
मकानों
गलियों
पेड़ पौंधों
को कुछ
मोहलत
साँस लेने
की जरूर
मिल जाती है

कई सालों
से लगातार
लटकते आ
रहे चेहरों को
गाड़ी भर भर
कर कहीं
फेंकने को
ले जाती हुई
दूर से
जब नजर
आने लग
जाती है

आदमी के
दिमाग में
लटके हुऐ
चेहरों और
पोस्टरों को
छूने और
पकड़ने की
जुगत लगानी
उसे नहीं
आती है

बहुत शाँति
का अहसास
'उलूक'
को होता है
हमेशा ही
ऐसी ही
कुछ बेवजह
हरकतों
पर किसी की

उसकी बाँछे
पता नहीं
क्यों खिल
जाती हैं

आने वाले
एक तूफान
का संदेश
जरूर देते हैं
शहर से
चेहरों के
पोस्टर
और झंडे
जब धीरे धीरे
बेमौसम में
गायब होते हुऐ
नजर आते हैं

पटके गये
होते हैं
इसी तरह
कई बार के
तूफानो में
इस देश
के लोग
आदत हो
जाती है

कुछ नहीं
होने वाला
होता है
आँधियों
को भी
ये पता
होता है

जनता
ही जब
एक
चिकना
घड़ा हो
जाती है ।

मंगलवार, 10 दिसंबर 2013

बावन पत्ते कुछ इधर कुछ उधर हंस रहा है बस एक जोकर

चिड़ी ईट पान हुकुम
बस काले और लाल
तेरह गुणा चार
इक्के से लेकर
गुलाम बेगम बादशाह
पल पल हर पल
सुबह दिन शाम
आज कल परसों
दिन महीने
साल दर साल
फिर बरसों
बस और बस
बावन तरीकों से
कुछ इधर और
कुछ उधर से
हुई उंच नीच को
बराबर करने की
जुगत में लगे लगे
बहुत कुछ बटोर कर
अंगुलियों के पोरों के
बीच छुपा लेने की
एक भरपूर कोशिश के
बावजूद सब कुछ का
छिर जाना सब कुछ
साफ साफ नजर
आते हुऐ भी
फिर से जुट जाना
भरने के लिये
अंधेरे के लिफाफे में
जैसे कुछ रोशनी
एक नहीं कई बार
ये सोच कर
कभी तो कुछ रुकेगा
कहीं जाकर रास्ते के
किसी मोड़ पर
थोड़ी देर के लिये
सुस्ताते समय ही सही
बस नहीं दिखता है
तो केवल
ताश के पत्तों के
पट्ठे के डिब्बे में से
आधा बाहर निकला
हुआ त्रेपनवां पत्ता
बहुत बेशर्मी से
मुस्कुराता हुआ ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...