http://blogsiteslist.com
गंगा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
गंगा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सोमवार, 13 जुलाई 2015

कह दिया सो कह दिया पवित्र है है तो है दिखा मत कह देना कहाँ से दिखायेगा

वो भरा है
गंदगी से
और
पवित्र भी है

जैसे आज
गंगाजल में
गंदगी तो है
फिर भी पवित्र है

गंदगी होने से
कुछ नहीं होता है
इस देश की
विरासत पवित्रता है

सारे गंदगी से
भरे लोग जो
सभी पवित्र हैं
ने आज उसे
प्रमाण पत्र
दे दिया है

पवित्रों में
पवित्र है
कह दिया है

मेरे आस पास
भी बहुत सारी
गंदगी है
मैं भी कोशिश
कर रहा हूँ
गंदगी की
आदत डालने की

क्योंकि गंदगी ही
निकालेगी समस्या
का समाधान

मुझे भी गिना
जाने लगेगा
गंदगी में डूबे हुऐ
महानों में से
एक महान

क्योंकि जब तक
गंदगी नहीं
जमा हो पायेगी
पवित्रता कहाँ से
आकर किधर
को जायेगी

जमाने के साथ
चलना चाहता
है ‘उलूक’
तो आज से
और अभी से
शुरु हो जा
इधर उधर
जहाँ दिखे गंदगी
उठा कर ला

जल्दी कर
जल्दी ही गंदगी
सारे देश में
फैल जायेगी
हर किसी को
गंगा की तरह
पवित्र कर
ले जायेगी

तेरे लिये
कुछ भी बचा
नहीं रह पायेगा
कोई भी तेरी
पवित्रता सिद्ध
करने के लिये
तेरा साथ तब
नहीं दे पायेगा ।

चित्र साभार: www.canstockphoto.com

शुक्रवार, 3 जुलाई 2015

लिखना कुछ कुछ दिखने के इंतजार के बाद कुछ पूरा कुछ आधा आधा

अपना कुछ लिखा होता
कभी अपनी सोच से
उतार कर किसी
कागज पर जमीन पर
दीवार पर या कहीं भी
तो पता भी रहता
क्या लिखा जायेगा
किसी दिन की सुबह
दोपहर में या शाम
के समय चढ़ती धूप
उतरते सूरज
निकलते चाँद तारे
अंधेरे अंधेरे के समय
के सामने से होते हैं
सजीव ऐसे जैसे को
बहुत से लोग
उतार देते हैं हूबहू
दिखता है लिखा हुआ
किसी के एक चेहरे
का अक्स आईने के
पार से देखता हो
जैसे खुद को ही
कोशिश नहीं की
कभी उस नजरिये
से देखने की
दिखे कुछ ऐसा
लिखे कोई वैसा ही
आदत खराब हो
देखने की
इंतजार हो होने के
कुछ अपने आस पास
अच्छा कम बुरा ज्यादा
उतरता है वही उसी तरह
जैसे निकाल कर
रोज लाता हो गंदला
मिट्टी से सना भूरा
काला सा जल
बोतल में अपारदर्शी
चिपका कर बाहर से
एक सुंदर कागज में
सजा कर लिख कर
गंगाजल ताजा ताजा ।

चित्र साभार: www.fotosearch.com

शुक्रवार, 4 जुलाई 2014

अकेले अपनी बातें अपने मुँह के अंदर ही बड़बड़ाते रह जाते हैं

परेशानी खुद
को भी होती है
परेशानी सब
को भी होती है
जब कोई खुद
अपने जैसा
होने की ही
कोशिश करता है
और सबका
जैसा होने से
बचता रहता है
बकरी की माँ
बहुत ज्यादा दिन
खैर नहीं मना पाती है
खुद के द्वारा
खुद ही हलाल
कर दी जाती है
सब के द्वारा
तैयार किया गया
रास्ता हमेशा ही
सीधा होता है
कोई खड़पेंच
उसमें कहीं भी
नहीं होता है
सब एक दूसरे के
सहारे पार हो जाते हैं
गँगा नहाये बिना ही
बैकुँठ पहुँचा
दिये जाते है
अपनी मर्जी से
अपने टेढ़े मेढ़े
रास्ते में जाने वाले
बस चलते ही
रह जाते हैं
रास्ता होता है
बस उनके साथ
रास्ते के साथ
ही रह जाते हैं
चलना शुरु
जरूर करते हैं
लेकिन पहुँच
कहीं भी
नहीं पाते हैं
‘उलूक’ किसी को
कहीं भी पहुँचाने
के लिये अकेले
चलने वाले
कभी भी
काम में नहीं
लाये जाते हैं
सब के साथ
सब की
मर्जी के बिना
ईश्वर भी मंदिर
में बैठे रह जाते हैं ।

सोमवार, 18 जनवरी 2010

मन प्रदूषण

मेरे मन
के ग्लेशियर
से निकलने
वाली गंगा
तेरे प्रदूषण
को
घटते बढ़ते
हर पल
हर क्षण
महसूस किया
है मैंने
भोगा है
तेरे गंगाजल
के काले भूरे
होते हुवे
रंग को
विकराल
होते हुवे
तेरी शांत
लहरों को
बदलते हुवे
सड़ांध में
तेरी
भीनी भीनी
खुश्बू को
और ऎसे
में अब
मेरी
सांस्कृ्तिक
धरोहर
मैं खुद
ही चाहूंगा
ये ग्लेशियर
खुद बा खुद
सूख जाये
ताकि मेरे
मन से
बहने वाली
पवित्र गंगे
तू मैली
ना कहलाये ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...