http://blogsiteslist.com

मंगलवार, 14 नवंबर 2017

चौदह नवम्बर को क्या होता है आखिर क्यों और किस से क्या छुपा रहा है ?

सुबह से कुछ
याद जैसा
आ रहा है

नवम्बर
का महीना
चौदहवाँ दिन
धीरे धीरे
रोज की तरह
खिसकता
जा रहा है
याद करते
करते भी
जैसे कुछ भूला
जा रहा है

गूगल
का डूडल
एक सौ
इकतीसवीं
साल गिरह
कागज में छेद
करने वाले
उपकरण की
मना रहा है

सब कुछ
छूटता
चला गया
हो जैसे
बचपन अब
बच्चों में भी
जब नजर
नहीं आ
रहा है

अखबार
समाचार
टी वी
पत्रकार
कहीं भी
कोई जल्सा
मनाने की
खबर का
पुतला
जलाता हुआ
नजर नहीं
आ रहा है

‘उलूक’
की समझ में
बड़ी देर से
घुस रही है हवा
धुऐं कोहरे धूल
से तैयार की गयी

अँधेरा दिन में
करने का पूरा तंत्र
मंत्र जाप कर
साँस लेने का
सरकारी आदेश
ध्वनिमत से पास
करवाने का प्रपंच
करवा रहा है

इतना लम्बा
खींच कर
समझाने की
जरूरत वैसे
नहीं होनी चाहिये

सीधे साधे
शब्दों में
जिन्दा ताऊ को
मरे चाचा के
चौदह नवम्बर
के बहाने ताबूत
से जिन्दा निकल
आने का डर
सता रहा है

ट्रम्प का पत्ता
ताश के पत्ते के
डब्बे से बाहर
झाँक कर
जीभ निकाल कर
अपनी ही नाक को
छूने का करतब
दिखा रहा है ।

चित्र साभार: RF clipart

रविवार, 12 नवंबर 2017

बकवास ही कर कभी अच्छी भी कर लिया कर

किसी दिन तो
सब सच्चा
सोचना छोड़
दिया कर

कभी किसी
एक दिन
कुछ अच्छा
भी सोच
लिया कर

रोज की बात
कुछ अलग
बात होती है
मान लेते हैं

छुट्टी के
दिन ही सही
एक दिन
का तो
पुण्य कर
लिया कर

बिना पढ़े
बस देखे देखे
रोज लिख देना
ठीक नहीं

कभी किसी दिन
थोड़ा सा
लिखने के लिये
कुछ पढ़ भी
लिया कर

सभी
लिख रहे हैं
सफेद पर
काले से काला

किसी दिन
कुछ अलग
करने के लिये
अलग सा
कुछ कर
लिया कर

लिखा पढ़ने में
आ जाये बहुत है
समझ में नहीं
आने का जुगाड़
भी साथ में
कर लिया कर

काले को
काले के लिये
छोड़ दिया कर
किसी दिन
सफेद को
सफेद पर ही
लिख लिया कर

‘उलूक’
बकवास
करने
के नियम
जब तक
बना कर
नहीं थोप
देता है
सरदार
सब कुछ
थोपने वाला

तब तक
ही सही
बिना सर पैर
की ही सही
कभी अच्छी भी
कुछ बकवास
कर लिया कर ।

चित्र साभार: BrianSense - WordPress.com

गुरुवार, 9 नवंबर 2017

शरीफ लिखने नहीं आते हैं काम करते हैं करते चले जाते हैं एक नंगा होता है रोज बस लिखने चला आ रहा होता है

सौ में से
निनानवे
शरीफ
होते हैं

उनको
होना ही
होता है

होता वही है
जो वो चाहते हैं

बचा हुआ बस
एक ही होता है
जो नंगा होता है

उसे नंगा
होना ही
होता है

उसके
बारे में
निनानवे ने
सबको
बताया
होता है
समझाया
होता है
बस वो ही
होता है
जो उनका
जैसा नहीं
होता है

निनानवे
सब कुछ
सम्भाल
रहे होते हैं
सब कुछ
सारा कुछ
उन के
हिसाब से
हो रहा
होता है
शराफत
के साथ

नंगा
देख रहा
होता है
सब कुछ
कोशिश कर
रहा होता है
समझने की

मन्द बुद्धि
होना पाप
नहीं होता है

नहीं समझ
पाता है
होते हुऐ
सब कुछ को
जिसे सौ में
से निनानवे
कर रहे होते हैं

कुछ
कर पाना
नंगे के
बस में
नहीं हो
रहा होता है

नंगा हम्माम
में ही होता है
नहा भी
रहा होता है

निनानवे
को कोई
फर्क नहीं
पड़ रहा
होता है
अगर
एक कहानी
बना कर
उनकी अपने
साथ कहीं
कोई चिपका
रहा होता है

नंगे
‘उलूक’
ने सीखी
होती हैं
बहुत सारी
नंगई
लिखने
लिखाने
को
नंगई पर

एक भी
निनानवे
में से
कहीं भी
नहीं आ
रहा होता है

निनानवे का
‘राम’ भी
कुछ नहीं
कर सक
रहा होता है

उस
“बेवकूफ” का
जो जनता
को छोड़ कर
अपनी
बेवकूफी
के साथ
खुद को
नीरो
मान कर
समझ कर
रोम का

अपने
जलते घर में
बाँसुरी बजा
रहा होता है।

चित्र साभार: Wikipedia

रविवार, 5 नवंबर 2017

अन्दाज नहीं आ पाता है हो जाता है कब्ज दिमागी समझ में देर से आ पाता है पर आ जाता है

कई
दिनों तक
एक रोज
लिखने वाला
अपनी कलम
और किताब को
रोज देखता है
रोज छूता है

बस लिखता
कुछ भी नहीं है

लिखने की
सोचने तक
नींद के आगोश
में चला जाता है
सो जाता है

कब्ज होना
शुरु होता है
होता चला
जाता है

बहुत कुछ
होता है
रोज की
जिन्दगी में

बाजार
नहीं होता है
आसपास
कहीं भी
दूर दूर तलक

बेचने की
सोच कर
साथी एक
कुछ भी
बेच देने वाला
मन बना कर
चला आता है

दुकान तैयार
कर देता हैं
मिनटों में
खरीददार
बुझाये
समझाये
हुऐ कुछ
दो चार
साथ में
पहले से ही
लेकर के
आता है

बिकने को
तैयार नहीं
होने से
कुछ नहीं
होता है

कब
घेरा गया
कब
बोली लगी
कब
बिक गया

जब तक
समझता है
बेच दिया
जाता है

सामान
बना दिया
जाने के बाद
दाम अपने आप
तय हो जाता है

शातिराना
अन्दाज के
नायाब तरीके
सीखना सिखाना
जिस किसी
को आता है

भीड़ का
हर शख्स
थोड़ी देर
के लिये
कुछ ना कुछ
सीखने के लिये
आना चाहता है

किताबें
कापियाँ
कक्षाओं के
श्यामपट के
आसपास रहने
दिखने वालों
के दिन कब
का लद गये

भरे हुऐ भरे में
थोड़ा सा ही सही
और भर देने की
कारीगरी सिखाना
फिर मिल बाँट कर
भर देना गले गले तक
खींच कर गले लगाना
जिसे आता है

आज
वही तैयार
करता है फन्दे
आत्म हत्या
करने का
ख्याल
रोज आता है

‘उलूक’
उल्लू का पट्ठा
समझता सब कुछ है
रोज मरता है मगर
रोज जिन्दा भी
हो जाता है ।

चित्र साभार: Clipart Library

शनिवार, 4 नवंबर 2017

बातों से खुद सुलगी होती हैं बातें कहाँ किसी ने जलाई होती हैं


ठीक बात
नहीं होती है

कह देना
अपनी बात
किसी से भी

कुछ बातें
कह देने की
नहीं होती हैं
छुपायी जाती हैं

बात के
निकलने
और
दूर तक
चले जाने
की बात पर
बहुत सी
बातें कही
और
सुनी जाती हैं
सुनाई जाती हैं

कुछ लोग
अपनी बातें
करना
छोड़ कर

बातों बातों
में ही
बहुत सारी
बात
कर लेते हैं

बातों बातों में
किसी की बातें
बाहर
निकलवाकर

उसी से
कर लेने
की निपुणता
यूँ ही हर
किसी को
नहीं आयी
होती है

एक
दो चार दिन के
खेल खेल में
सीख लेना
नहीं होता है
बातों को
लपेट लेना
सामने वालों की


उसकी
अलग से
कई साल 

सालों साल

बातों बातों में
बातों के स्कूलों में
पढ़ाई लिखाई होती है

‘उलूक’
नतमस्तक
होता है
बातों के ऐसे
शहनशाहों के
चरणों में
ठंड रख कर
खुद हिमालयी 

बर्फ की 

हमेशा अपनी
बातों में जिसने
दूसरे की
दिल की
बातों की
नरम आग
सुलगा
सुलगा कर
पानी में
भी आग
लगाई
होती है ।


चित्र साभार: ClipartFest

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...