http://blogsiteslist.com

मंगलवार, 31 दिसंबर 2013

नये साल आना ही है तुझको मुझसे बुलाया नहीं जा रहा है

सोच कुछ और है
लिखा कुछ अलग
ही जा रहा है
हिम्मत ही नहीं
हो रही है कुछ भी
नहीं कहा जा रहा है
केजरीवाल बनने की
कोशिश करना
बहुत महंगा
पड़ता जा रहा है
आम आदमी की
टोपी वाला कोई
भी साथ देने
नहीं आ रहा है
ऐसा ही कुछ अंदाज
पता नहीं क्यों
आ रहा है
ऐसा नहीं है
मैं एक
चोर नहीं हूँ
कह देना
मान लेना
बस इतनी ही
हिम्मत जुटाना
नहीं हो
पा रहा है
कह दिया जाये
यहाँ क्या
हो रहा है
और क्या
बताया
जा रहा है
किसी को
क्या नजर
आ रहा है
कहाँ पता
चल पा रहा है
मुझे जो
दिख रहा है
उसे कैसे नजर
नहीं आ रहा है
बस यही
समझ में
नहीं आ
पा रहा है
कुत्ते की
फोटो दिखा
दिखा कर
शेर कह दिया
जा रहा है
कुत्ता ही है
जो जंगल को
चला रहा है
बस मुझे ही
दिख रहा है
किसी और को
नजर नहीं आ
पा रहा है
हो सकता है
मोतिया बिंद
मेरी आँख में
होने जा रहा है
सफेद पोश होने
का सुना है एक
परमिट अब
दिया जा रहा है
कुछ ले दे के
ले ले अभी भी
नहीं तो अंदर
कर दिया
जा रहा है
है बहुत कुछ
उबलता हुआ
सा कुछ
लिखना भी
चाह कर
नहीं लिखा
जा रहा है
नये साल में
नया एक
करिश्मा
दिखे कुछ
कहीं पर
सोचना चाह
कर भी
नहीं सोच
पा रहा है
साल के
अंतिम दिन
'उलूक'
लगता है
खुद शिव
बनना चाह
रहा है
थर्टी फर्स्ट
के दिन
बस दो पैग
पी कर ही
जो लुढ़क
जा रहा है ।

सोमवार, 30 दिसंबर 2013

बस एक सलाम और तुझे ऐ साल जाते जाते

लाजमी है उनका
भड़क उठना
एक मरी हुई
लाश को देखते
ही कहीं भी
कुछ शाकाहारी
लोगों को
पसंद नहीं आता
किसी लाश का
यूँ ही मर जाना
उनकी सोच में
बोटियाँ नोच कर
खाने वालों के लिये
तिरस्कार और घृणा
भरी हुई बहुत
साफ नजर आती है
बहुत माहिर होते हैं
इस तरह के
कुछ लोग
और शातिर भी
जो कबूतरों को
सिखाते हैं
जिंदा गिद्धों के
माँस को नोच
नोच कर
इक्ट्ठा करना
उन्हें मालूम है
मौत का कष्ट
कहते हैं कुछ
क्षण का होता है
पर साथ में
उनको ये
वहम भी होता है
इस बात का
कहीं मौत बहुत
सुकून ना
दे देती हो
मारना चाहते हैं
वो इसीलिये
आत्मा को नोच
खसोट कर
एक बकरी
की गर्दन
एक ही झटके में
हलाल कर देना
किसी भी तरह की
बहादुरी नहीं होती
बात तो तब है
जब रोज सुबह
और शाम
एक तेज धार
के ब्लेड से
उनकी पीठ पर
बना लिया जाये
अपने आने वाले
दिन का कार्यक्रम
ताकि साल
पूरा होते होते
तैयार हो सके
जाने वाले साल
की एक सुंदर
सी डायरी
जिसे फ्रेम कर
टाँक दिया जाये
समय की दीवार
पर ही कहीं
मजा और बढ़ जाये
अगर हर दिन के
निशान की गिनती
घाव में नमक मिर्च
मल कर की जाये
जब मन आये
और इसके लिये
बकरी की माँ को
बाँध दिया जाये
बकरी के सामने
मत कहना कि
ये क्या लिख दिया
क्योंकि समय के
निशान बहुत ही
गहरे होते हैं
सर्फ ऐक्सल
काफी नहीं है
हर दाग के लिये
उतना ही अच्छा
सोचिये मत
बस मनाइये
इकतीस दिसम्बर
थ्री चियर्ज के साथ
साल तो अगले
साल का भी जायेगा
एक साल के बाद
इसी तरह
नये साल की
शुभकामनाओं
के साथ ।

रविवार, 29 दिसंबर 2013

पिछला साल गया थैला भर गया मुट्ठी भर यहाँ कह दिया

पता नहीं
कितना
अपनापन है
इस खाली
जगह पर
फिर भी
जब तक
महसूस
नहीं होता
परायापन
तब तक
ऐसा ही सही
दफन करने
से पहले
एक नजर
देख ही
लिया जाये
जाते हुऐ
साल को
यूँ ही कुछ
इस तरह
हिसाब की
किताब ‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌पर
ऊपर ही
ऊपर से
एक नजर
डालते हुऐ
वाकई हर
नये साल
के पूरा हो
जाने का
कुछ अलग
अंदाज होता है
इस साल
भी हुआ
पहली बार
दिखे शतरंज
के मोहरे
सफेद और काले
डाले हाथों
में हाथ
बिसात
के बाहर
देखते हुऐ
ऐसे जैसे
कह रहे हो
बेवकूफ
'उलूक'
खुद खेल
खुद चल
ढाई या टेढ़ा
अब यही
सब होने
वाला है
आगे भी
बस बोलते
चलना
ऑल इज वैल
पाँच और
सात को
जोड़कर
दो लिख देना
आगे ले जाना
सात को
किसी ने
नहीं देखना है
इस हिसाब
किताब को
सब जोड़ने
घटाने में
लगे होंगे
इस समय
क्या खोया
क्या पाया
और वो
सामने तौलिया
लपेटे हुऐ
जो दिख रहा है
उसके देखने
के अंदाज से
परेशान मत होना
उसे आदत है
किसी के उधड़े
पायजामें के अंदर
झाँक कर
उसी तरह से
खुश होने की
जिस तरह
एक मरी हुई
भैंस को
पाकर किसी
गिद्ध की बाँछे
खिल जाती है
संतुष्ट होने के
आनन्द को
महसूस करना
भी सीख ही
लेना चाहिये
वैसे भी अब सिर्फ
धन ही नहीं
जिंदगी के
मूल्य भी
उस लिये गये
अग्रिम की
तरह हो गये हैं
जिसके
समायोजन में
पाप पुण्य
उधार नकद
सब जोड़े घटाये
जा सकते हैं
जितना बचे
किसी मंदिर
में जाकर
फूलों के
साथ चढ़ाये
जा सकते हैं
ऊपर वाले
के यहाँ भी
मॉल खुल
चुके हैं
एक पाप
करने पर
दो पुण्य फ्री
कुछ नहीं
कर पाये
इस वर्ष
घालमेल
तो चिंता
करने की
कोई जरूरत
भी नहीं
नये साल में
नये जोश से
उतार लेना
कहीं भी
किसी के
भी कपड़े
जो हो गया
सो हो गया
वो सब मत
लिख देना
जो झेल
लिया है
उसे दफना
कर देखना
जब सड़ेगा
क्या पता
सुरा ही
बन जाये
कुछ नशा
हो पाये
इस तरह का
जिस से
तुम में भी
कुछ हिम्मत
पैदा हो सके
और तुम भी
उधाड़ कर
देख सको
सामने वालों
के घाव और
छिड़क सको
कुछ नमक
और कुछ मिर्च
महसूस कर सको
उस परम
आनंद को
जो आजकल
बहुत से चेहरों से
टपकता हुआ
नजर आने लगा है
सुर्ख लाल
रक्त की तरह
और कह सको
मुस्कुराहट
छिपा कर
नया वर्ष शुभ हो
और मंगलमय हो ।

शनिवार, 28 दिसंबर 2013

ऐसा भी तो होता है या नहीं होता है

जाने अंजाने में
खुद या सामूहिक
रूप से किये गये
अपराधों के
दंश को
मन के किसी
कोने में दबा कर
उसके ऊपर
रंगबिरंगी
फूल पत्तियाँ
कुछ बनाकर
ढक देने से
अपराधबोध छिप
कहाँ पाता है
सहमति के साथ
तोड़ मरोड़कर
काँटों के जाल का
एक फूल बना
देने से ना तो
उसमें खुश्बू
आ पाती है
ना ही ऐसा कोई
सुंदर सा रंग जो
भ्रमित कर सके
किसी को भी
कुछ देर के
लिये ही सही
सदियां हो गई
इस तरह की
प्रक्रिया को
चलते आते हुऐ
पता नहीं कब से
आगे भी चलनी हैं
बस तरीके बदले हैं
समय के साथ
जुड़ते चले जा रहे हैं
इस तरह एक साथ
अपराध दर अपराध
जिसकी ना किसी
अदालत में सुनवाई
ही होनी है ना ही
कोई फैसला किसी
को ले लेना है
सजा के लिये
बस शूल की तरह
उठती हुई चुभन को
दैनिक जीवन का
एक नित्यकर्म
मानकर सहते
चले जाना है
और मौका मिलते ही
संलग्न हो जाना है
कहीं खुद या कहीं
किसी समूह के साथ
उसके दबाव में
करने के लिये एक
मान्यता प्राप्त अपराध | 

शुक्रवार, 27 दिसंबर 2013

उसके जैसा ही क्यों नहीं सोचता शायद बहुत कुछ बचता

हर आदमी
सोच नहीं रहा
अगर तेरी तरह
तो सोचता
क्यों नहीं
जरुर ही कहीं
खोट होगा
तेरी ही सोच में
सोचने की
कोशिश तो
करके देख
जरा सा
सुना है
कोशिश
करने से
भगवान
भी मिले हैं
किसी किसी
को तो
सोच मिलना
तो बहुत
ही छोटी
सी बात है
कभी कहीं
लिखा हुआ
देखा था
किसी ने
सुनाया था
या पढ़ाया था
याद नहीं है
 पर होता
होगा पक्का
क्योंकी हकीम
लुकमान की
सोचने की दवा
बनाने की विधि
में भी कुछ
ऐसा ही लिखा
हुआ साफ
नजर आता है
विश्वास नहीं होता है
तो थोड़ी देर के लिये
पुस्तकालय में जाकर
पढ़ देख कर क्यों
नहीं आ जाता है
बैठा रहता है
फालतू में
जब देखो कहीं भी
कभी भी किसी
बात पर भी
कुछ भी लिख
देने के लिये
कभी तो कुछ
सोच ही लिया कर
जैसा लोग सोचते हैं
देख तो जरा
किसी और की
तरह सोच कर
फिर पता
चलेगा तुझे भी
सोच और सोच
का फरक
क्या पता इसी
सोच की सोच
को अपना
कर कुछ
तू भी कुछ
सुधर जाये
तेरी सोच को कुछ
उनकी सोच
का जैसा ही
कुछ हो जाये
बहुत कुछ बचेगा
जब हर कोई
एक जैसा
ही सोचेगा
उसी सोच
को लेकर
हर कोई कुछ
कुछ करेगा
अच्छा नहीं
होगा क्या
एक के सोचने
के बाद किसी
और को कुछ
भी नहीं
सोचना पड़ेगा
क्योंकि लिख दिया
जायेगा कहीं पर
कि ये सोचा
जा चुका है
कृपया इस पर
सोचने की अब
कोशिश ना करें
कुछ और सोचने से
पहले भी पता करलें
और पूछ लें
कुछ सोचना
है कि नहीं ।

गुरुवार, 26 दिसंबर 2013

आज कुत्ते का ही दिन है समझ में आ रहा था

सियार को
खेत से
निकलता
हुआ देखते ही

घरेलू कुत्ता
होश खो बैठा

जैसे
थोड़ा नहीं
पूरा ही
पागल हो गया

भौंकना शुरु
हुआ और
भौंकता ही
चला गया

बहुत देर तक
इंतजार किया
कहीं कुछ
नहीं हुआ

इधर बाहर
से किसी
ने आवाज
लगाई

सुनकर
श्रीमती जी
रसोई से ही
चिल्लाई

देख भी दो
बाहर कोई
बुला रहा है

कितनी देर से
बाबू जी बाबू जी
चिल्ला रहा है

उधर बंदरों
की टोली
ने लड़ना
शुरु किया
एक के
बाद दूसरे ने
खौं खौं
चीं चीं पीं पीं
करना शुरु किया

छत से पेड़ पर
पेड़ से छत पर
एक दूसरे
के पीछे
लड़ते मरते
कूदते फाँदते
भागना शुरु किया

उसी समय
बिजली ने
बाय बाय
कर अंधेरा
करते हुऐ
एक और
झटका दे दिया

इंवर्टर
चला कर
वापस
लौटा ही था
फोन तुरंत
घनघना उठा

बगल के
घर से ही
कोई बोल
रहा था
दो कदम
चलने से भी
परहेज कर
रहा था

टेलीफोन
डायरेक्टरी
देख किसी
का नम्बर
बताने को
बोल रहा था

झुंझुलाहट
शुरु हो
चुकी थी
मन ही मन
खीजना
मुँह के अंदर
बड़बड़ाने को
उकसा चुका था

बीस मिनट
दिमाग खपाने
के बाद भी
माँगे गये
नंबर का
अता पता
नहीं था

फोन पर
माफी मांग
थोड़ा चैन से
बैठा ही था

इंवर्टर ने
लाल बत्ती
जला कर
बैटरी डिसचार्ज
होने का
ऐलार्म बजाना
शुरु कर दिया था

कुत्ता अभी भी
पूरे जोश से
गला फाड़ कर
भौंके जा रहा था

श्रीमती जी
का
सुन्दर काण्ड
पढ़ना शुरु
हो चुका था

घंटी
बीच बीच में
कोई बजा
ले रहा था

लिखना शुरु
करते ही
जैसे पूरा
हो जा रहा था

आज इतने
में ही
सब कुछ
जैसे कह दिया
जा रहा था

बाकी सोचने
के लिये
कौन सा
कल फिर
नहीं आ
रहा था

कुत्ता
अभी भी
बिल्कुल
नहीं थका था

उसी अंदाज
में भौंकता
ही चला
जा रहा था ।

बुधवार, 25 दिसंबर 2013

आओ मित्र आह्वान करें तुम हम और सब ईसा का आज ध्यान करें

तुम्हारी शुद्ध आत्मा
से निकली भावनाओं
से मैं भी इत्तेफाक
रखता हूँ इसी कारण
तरह तरह के इत्र भी
अपने आस पास रखता हूँ
अच्छा है अगर चल गया
उद्गार किसी झूठ
को छिपाने के लिये
नहीं तो क्या बुरा है
कुछ इत्र छिड़क कर
चारों तरफ फैलाने में
वाकई आज का दिन
बहुत बड़ा दिन है
अवतरण होना है
ईसा को फिर से
एक बार यहां
आज ही के दिन
इस खबर की खबर
भी एक बड़ी खबर है
बड़ा दिन बड़ी आत्माऐं
बड़ी दीवार बड़ा चित्र
और कुछ बड़ी ही नहीं
बहुत बड़ी बातों को
सुनहरे फ्रेम में
मढ़ देने का दिन है
आप सर्व समावेशी
उदगारों की आवश्यकता
की बात करते हो
आज के जैसे दिनो
में ही तो उदगारों को
महिमा मण्डित कर
लेने का दिन है
साल भर के अंदर
कुछ कुछ दिनों के
अंतर में बहुत से
बड़े बड़े दिन
आते ही रहते हैं
मौके होते हैं यही
कुछ पल के ही सही
आत्ममंथन खुद का
करवाते ही रहते हैं
बहुत छोटी यादाश्त
हो चली हो जहाँ
दूसरे दिन से कहीं
आग लगाने को
माचिस खोजने को भी
हम जाते ही रहते हैं
फिर भी चलो
और कोई नहीं
तुम और मैं ही सही
उद्गारों को आत्मकेंद्रित
करें आज के दिन बस
उदगारों का व्यापार करें
सर्वज्ञ सर्वव्यापी सर्वशक्तिमान
से प्रार्थना करें
अवतरित होकर
वो आज
सारी मानवजाति
का कल्याँण करें
फिर कल से कुछ
भूलें कुछ याद करें
शुरु हो जायें हम तुम
और सब फिर से
किसी दूसरे बड़े दिन के
आने का इंतजार करें ।

मंगलवार, 24 दिसंबर 2013

पानी से अच्छा होता अगर दारू पर कुछ लिखवाता

हर कोई तो पानी
पर लिख रहा है
अभी अभी का
लिखा हुआ पानी पर
अभी का अभी उसी
समय जब मिट रहा है
तुझे ही पड़ी है
ना जाने क्यों
कहता जा रहा है
पानी सिमट रहा है
जमीन के नीचे
बहुत नीचे को
चला जा रहा है
पानी की बूंदे
तक शरमा रही हैं
अभी दिख रही हैं
अभी विलुप्त
हो जा रही हैं
उनको पता है
किसी को ना
मतलब है ना
ही शरम आनी है
सुबह सुबह की
ओस की फोटो
तू भी कहीं लगा
होगा खींचने में
मुझे नहीं लगता
किसी और को
पानी की कहीं भी
याद कोई आनी है
इधर आदमी लगा है
ईजाद करने में
कुछ ऐसी पाईप लाइने
जो घर घर में जा कर
पैसा ही पैसा बहाने
को बस रह जानी हैं
तू भी देख ना कहीं
पैसे की ही धार को
हर जगह आजकल
वही बात काम में
बस किसी के आनी है
पानी को भी कहाँ
पड़ी है पानी की
अब कोई जरूरत
आँखे भी आँखो में
पानी लाने से
आँखो को ही परहेज
करने को जब कहके
यहाँ अब जानी हैं
नल में आता तो है
कभी कभी पानी
घर पर नहीं आता है
तो कौन सा गजब
ही हो जाना है
बस लाईनमैन की
जेब को गरम
ही तो करवाना है
तुरंत पानी ने
दौड़ कर आ जाना है
मत लिया कर इतनी
गम्भीरता से किसी
भी चीज को
आज की दुनियाँ में
हर बात नई सी
जब हो जा रही है
हवा पानी आग
जमीन पेड़ पौंधे
जैसी बातें सोचने
वाले लोगों के कारण
ही आज की पीढ़ी
अपनी अलग पहचान
नहीं बना पा रही है
पानी मिल रहा है पी
कुछ मिलाना है मिला
खुश रह
बेकार की बातें
मत सोच
कुछ कमा धमा
होगा कभी
युद्ध भी
अगर पानी को
लेकर कहीं
वही मरेगा
सबसे पहले
जो पैसे का नल
नहीं लगा पायेगा
पैसा होगा तो वैसे भी
प्यास नहीं लगेगी
पानी नहीं भी
होगा कहीं
तब भी कुछ अजब
गजब नहीं हो जायेगा
ज्यादा से ज्यादा
शरम से जमीन के
थोड़ा और नीचे
की ओर चला जायेगा
और फिर एक बेशरम
चीर हरण करेगा
किसी को भी
कुछ नहीं होगा बस
पानी ही खुद में
पानी पानी हो जायेगा ।

सोमवार, 23 दिसंबर 2013

आम में खास खास में आम समझ में नहीं आ पा रहा है

आज का नुस्खा
दिमाग में आम
को घुमा रहा है
आम की सोचना
शुरु करते ही
खास सामने से
आता हुआ नजर
आ जा रहा है
कल जब से
शहर वालों को
खबर मिली कि
आम आज जमघट
बस आमों में आम
का लगा रहा है
आम के कुछ खासों
को बोलने समझाने
दिखाने का एक मंच
दिया जा रहा है
खासों के खासों का
जमघट भी जगह
जगह दिख जा रहा है
जोर से बोलता हुआ
खासों का एक खास
आम को देखते ही
फुसफुसाना शुरु
हो जा रहा है
आम के खासों में
खासों का आम भी
नजर आ रहा है
टोपी सफेद कुर्ता सफेद
पायजामा सफेद झंडा
तिरंगा हाथ में एक
नजर आ रहा है
वंदे भी है मातरम भी है
अंतर बस टोपी में
लिखे हुऐ से ही
हो जा रहा है
“उलूक” तो बस
इतना पता करना
चाह रहा है
खास कभी भी
नहीं हो पाया जो
उसे क्या आम में
अब गिना जा रहा है ।

रविवार, 22 दिसंबर 2013

किताब पढ़ना जरुरी है बाकी सब अपने ही हिसाब से होता है

किताबों तक
पहुँच ही

जाते हैं
बहुत से लोग

कुछ नहीं भी
पहुँच पाते हैं

होता कुछ
भी नहीं है

किताबों को
पढ़ते पढ़ते
सब सीख
ही जाते हैं

किताबें
चीज कितने
काम की होती हैं

किताबों को
साथ रखना
पढ़ना ही
सिखाता है

अपनी
खुद की एक
किताब का
होना भी
कितना जरूरी
हो जाता है

एक
आदमी के
कुछ कहने
का कोई
अर्थ नहीं
होता है

क्या फरक
पड़ता है
अगर वो
गाँधी या
उसकी
तरह का ही
कोई और
भी होता है

लिखना पढ़ना
पाठ्यक्रम के
हिसाब से एक
परीक्षा दे देना

पास होना
या फेल होना
किताबों के
होने या
ना होने
का बस
एक सबूत
होता है

बाकी
जिंदगी के
सारे फैसले
किताबों से
कौन और
कब कहाँ
कभी ले लेता है

जो भी होता है
किसी की अपनी
खुद की किताब
में लिखा होता है

समय के साथ
चलता है
एक एक पन्ना
हर किसी की
अपनी किताब का

कोई जल्दी
और
कोई देर में
कभी ना कभी
तो अपने
लिये भी
लिख ही
लेता है

पढ़ता है
एक किताब
कोई भी
कहीं भी
और कभी भी

करने पर
आता है
तो उसकी
अपनी ही
किताब का
एक पन्ना
खुला होता है ।

शनिवार, 21 दिसंबर 2013

जब भी कुछ संजीदा लिखने का मन होता है कोई राकेट उड़ गया की खबर दे देता है

राकेट बना के उड़ा
देना एक बात है
राकेट की खबर
बना के उड़ाना
कुछ अलग बात है
धरातल पर जो
कभी नहीं होने
दिया जाता है
वो सब कहीं ना
कहीं को भिजवा
दिया गया एक
राकेट हो जाता है
अब उड़ चुका
राकेट होता है
किसी को नजर
भी कहीं नहीं
आ पाता है
हर तरफ होती है
खबर राकेट के
कहीं होने की
अखबार वाला भी
खबर लेने राकेट के
उड़ने के बाद ही
पहुंच पाता है
राकेट बनाने वाला
राकेट के बारे में
बताते हुऐ जगह
जगह पर नजर
आ जाता है
जहाँ खुद नहीं
पहुँच पाता है
राकेट बनाने वाली
टीम के सदस्य को
भिजवा दिया जाता है
जिसे राकेट के बारे में
पता नहीं होता है
उसे कुछ नहीं आता है
कह कर बदनाम
कर दिया जाता है
अब राकेट तो
राकेट होता है
धरातल में कहीं
भी नहीं होता है
बस खबर उड़
रही होती है
राकेट का कहीं
भी अता पता
नहीं होता है
समझने की थोड़ी
सी कोशिश तो
करिये जनाब
कितना अजब और
कितना गजब होता है
राकेट बनाने वाला
बहुत चालाक
भी होता है
राकेट के लौट के
आने का कहीं
इंतजाम नहीं होता है
कितने कितने राकेट
उड़ते चले जाते हैं
बातें होती ही रहती हैं
वो कभी भी कहीं भी
लौट के नहीं आते हैं ।

शुक्रवार, 20 दिसंबर 2013

सब को आता है कुछ ना कुछ तुझे क्यों नहीं आता है

लिख देने के बाद
भी यहीं पर पड़ा
हुआ नजर आता है
इतनी सी भी मदद
नहीं करता कहीं को
चला भी नहीं जाता है
अखबार से ही सीख
लेता कुछ कभी
कितनो का लिखा
अपने सिर पर उठा
उठा कर लाता है
खुद ही जाकर हर
किसी के घर भी
रोज हो ही आता है
अपनी अपनी खबर
पढ़ लेने का मौका
हर कोई समानता से
पा भी जाता है
बहुत कम होते हैं ऐसे
जिन्हे है फुरसत यहाँ
जमाने भर की और
वो यहाँ आ कर पढ़
क्या गया तुझको
तू तो बहुत ही मजे
मजे में आ जाता है
कुछ तो सऊर
सीख भी ले अब
इधर उधर के
पन्नों से कभी
जिसमें लिखा हुआ
कुछ भी कहीं भी
बहुत सी जगह
पर जा जा कर
कुछ ना कुछ
लिखवा ही लाता है
एक तू है पता नहीं
किस चीज का बना हुआ
ना खुद लिख पाता है
ना ही कुछ किसी से
लिखवा ही पाता है
जब देखो जिस समय देखो
यहीं पर पड़ा रह रह कर
बेकार में सारी जगह
घेरता चला जाता है
अरे ओ बेवकूफ पन्ने
किसी की समझ में
बात आये ना आये
तेरी समझ में
कभी भी कुछ
क्यों नहीं आता है
“उलूक” के बारे में
भी कुछ सोच
लिया कर कभी
उससे भी आँखिर
कब तक और
कहाँ तक सब
लिखा जाता है ।

गुरुवार, 19 दिसंबर 2013

उधर ना जाने की कसम खाने से क्या हो वो जब इधर को ही अब आने में लगे हैं

जंगल के
सियार
तेंदुऐ
जब से
शहर की
तरफ
अपने पेट
की भूख
मिटाने
के लिये
भाग आने
लगे हैं

किसी
बहुत दूर
के शहर
के शेर का
मुखौटा लगा

मेरे शहर
के कुत्ते
दहाड़ने का
टेप बजाने
लगे हैं

सारे
बिना पूँछ
के कुत्ते
अब एक
ही जगह
पर खेलते
नजर आने
लगे हैं

पूँछ वाले
पूँछ वालों
के लिये ही
बस अब
पूँछ हिलाने
डुलाने लगे हैं

चलने लगे हैं
जब से कुछ
इस तरीके के
अजब गजब
से रिवाज

जरा सी बात
पर अपने ही
अपनों से दूरी
बनाने लगे हैं

कहाँ से चल
कर मिले थे
कई सालों
में कुछ
हम खयाल

कारवाँ बनने
से पहले ही
रास्ते बदल
बिखर
जाने लगे हैं

आँखो में आँखे
डाल कर बात
करने की
हिम्मत नहीं
पैदा कर सके
आज तक भी

चश्मे के ऊपर
एक और
चश्मा लगा
दिन ही नहीं
रात में तक
आने लगे हैं

अपने ही
घर को
आबाद
करने की
सोच पैदा
क्यों नहीं
कर पा
रहे हो
'उलूक'

कुछ आबाद
खुद की ही
बगिया के
फूलों को
रौँदने के
तरीके

अपनो को
ही सिखाने
लगे हैं ।

बुधवार, 18 दिसंबर 2013

परेशान ना हो देख समय अभी आगे और क्या क्या दिखाता है

भय मुक्त समाज
शेर और बकरी
के एक साथ पानी
पीने वाली बात
ना जाने कब कौन
सुना पढ़ा गया
किसी जमाने से
दिमाग में जैसे
मार रही हों
कितनी ही लात
पता नहीं कब से
अचानक ऐसे एक
नाटक का पर्दा
सामने से
उठा हुआ सा
नजर आता है
भय निर्भय होकर
खुले आम गली
मौहल्ले में
चक्कर लगाता है
और समझाता है
बस हिम्मत
होनी चाहिये
कुछ भी
किसी तरह भी
कभी भी कहीं भी
कर ले जाने की
डरना क्यों
और किससे है
जब ऐसा
महसूस होता है
जैसे सभी का ध्यान
बस भगवान की 
तरफ चला जाता है
हर कोई मोह माया
के बंधन से
बहुत दूर जा कर
खुद की आत्मा के
बहुत पास चला आता है
और वैसे भी डर
उस समय क्यों
जब कुछ ही देर में
आने वाला अवतार
खुद आकर
पर्दा गिराता है
और जब सब
के मन के
हिसाब से होता है
हैड या टेल
यहां तक किसी का
मन ना भी होने की
स्थिति में उसके लिये
सिक्का टेड़े मेड़े रास्ते
पर खुद ही जा कर
खड़ा हो जाता है
कहावत है भी
होनहार बिरवान के
होत चीकने पात
जब दिखनी
शुरु हो जायें
बिल्लियाँ खुद
अपनी घंटियाँ
हाथ में लिये अपने
और खूँखार कुत्ता
निकल कर उनके
बगल से ही उनको
सलाम ठोकते हुऐ
मुस्कुरा कर
चला जाता है
ऐसे मौके पर कोई
फिर क्यों चकराता है
और फिर
समझ में तेरे
ये क्यों नहीं आता है
क्या गलत है
जब कुछ भी
ऐसा वैसा नहीं
कर पाने वाला
उसकी ईमानदारी
कर्तव्यनिष्ठा और
सच्चाई के लिये
सरे आम किसी
चौराहे पर टाँक
दिया जाता है ।

मंगलवार, 17 दिसंबर 2013

कभी कभी अनुवाद करने से मामला गंभीर हो जाता है

बायोडाटा
या
क्यूरिक्यूलम विटे

नजदीकी
और
जाने पहचाने
शब्द

अर्थ
आज तक
कभी
सोचा नहीं

हाँ बनाये
एक नहीं
कई बार हैं

कई जगह
जा कर
बहुत से
कागज
बहुत से
लोगों को
दिखाते
भी आये हैं

कोई नयी
बात नहीं है

पर आज
अचानक
हिंदी में
सोच बैठा

पता चला
अर्थ नहीं
हमेशा
अनर्थ ही
करते चले
आये हैं

व्यक्तिवृत
या
जीवनवृतांत
होता हो
जिनका मतलब

उसके अंदर
बहुत कुछ
ऊल जलूल
बस
बताते चले
आये हैं

डेटा तक
सब कुछ
ठीक ठाक
नजर आता है

बहुत से
लोगों के पास
बहुत
ज्यादा ज्यादा
भी पाया जाता है

कुछ
खुद ही
बना लिया
जाता है

कुछ
सौ पचास बार
जनता से
कहलवा कर
जुड़वा
दिया जाता है

पर वृतांत
कहते ही
डेटा खुद
ही पल्टी
मार ले
जाता है

अपने बारे
में सभी कुछ
सच सच
बता देने
का इशारा
करना शुरु
हो जाता है

और
जैसे ही बात
शुरु होती है
कुछ
सोचने की
वृतांत की

उसके बारे
में फिर
कहाँ कुछ भी
किसी से भी
कहा जाता है

अपने अंदर
की सच्चाई
से लड़ता
भिड़ता
ही कोई
अपने बारे में
कुछ सोच
पाता है

रखता है
जिस जगह
पर अपने
आप को
उस जगह
को पहले से
ही किसी
और से
घिरा हुआ
पाता है

आसान
ही नहीं
बहुत
मुश्किल
होता है

जहां अपने
सारे सचों को
बिना किसी
झूठ का
सहारा लिये
किसी के
सामने से
रख देना

वहीं बायोडेटा
किसी का
किसी को
कहाँ से कहाँ
रख के
आ जाता है

इस सब
के बीच
बेचारा
जीवनवृतांत
कब खुद से ही
उलझ जाता है
पता ही नहीं
चल पाता है ।

सोमवार, 16 दिसंबर 2013

कुत्ते का भौंकना भी सब की समझ में नहीं आता है पुत्र

कल दूरभाष पर
हो रही बात पर
पुत्र पूछ बैठा
पिताजी आपकी
लम्बी लम्बी बातें तो
बहुत हो जा रही हैं
मुझे समझ में ही
नहीं आ रहा है
ये क्या सोच कर
लिखी जा रही हैं
मैं हिसाब
लगा रहा हूँ
ऐसा ही अगर
चलता चला जायेगा
तो किसी दिन
कुछ साल के बाद
ये इतना हो जायेगा
ना आगे का दिखेगा
ना पीछे का छोर ही
कहीं नजर आयेगा
इतना सब लिखकर
वैसे भी आपका
क्या कर ले जाने
का इरादा है या
ऐसा ही लिखते रहने
का आप किसी से
कर चुके कोई वादा है
सच पूछिये तो
मेरी समझ में
आपकी लिखी
कोई बात
कभी भी
नहीं आती है
उस समय
जो लोग
आपके लिखे
की तारीफ
कर रहे होते हैं
उनकी पढ़ाई लिखाई
मेरी पढ़ाई लिखाई से
बहुत ही ज्यादा
आगे नजर आती है
ये सब को सुन कर
पुत्र को बताना
जरूरी हो गया
लिखने विखने का
मतलब समझाना
मजबूरी हो गया
मैंने बच्चे को अपने
कुत्ते का उदाहरण
देकर बताया
क्यों भौंकता रहता है
बहुत बहुत देर तक
कभी कभी इस पर
क्या उसने कभी
अपना दिमाग लगाया है
क्या उसका भौंकना
कभी किसी के समझ में
थोड़ा सा भी आ पाया है
फिर भी चौकन्ना
करने की कोशिश
उसकी अभी भी जारी है
रात रात जाग जाग कर
भौंकना नहीं लगता
उसे कभी भी भारी है
मै और मेरे जैसे दो चार
कुछ और इसी तरह
भौंकते जा रहे हैं
कोई सुने ना सुने
इस बात को हम भी
कहाँ सोच पा रहे हैं
क्या पता किसी दिन
सियारों की
टोली की तरह
हमारी संख्या
भी बढ़ जायेगी
फिर सारी टोली
एक साथ मिलकर
हुआ हुआ की
आवाज लगायेगी
बदलेगा कुछ ना कुछ
कहीं ना कहीं कभी तो
और यही आशा
बहुत कुछ
बहुत दिनों तक
लिखवाती ही
चली जायेगी
शायद अब मेरी बात
कुछ कुछ तेरी भी
समझ में आ जायेगी ।

रविवार, 15 दिसंबर 2013

मुझ गधे को छोड़ हर गधा एक घोड़ा होता है

कोई भी समझदार
पुराना हो जाने पर
कभी भी भरोसा
नहीं करता है
इसी लिये हमेशा
लम्बी रेस का
एक घोड़ा होता है
पुराना होने से
बचने का तरीका
भी बहुत ही
आसान होता है
परसों तक माना कि
बना रहा कहीं एक
मकान होता है
आज के दिन एक
बहुत माना हुआ
बड़ा किसान होता है
किसी को नजर भर
अपने को देखने का
मौका नहीं देता है
जब तक समझने
में आता है किसी को
जरा सा भी कुछ कुछ
आज के काम को छोड़
कल के किसी दूसरे
काम को पकड़ लेता है
एक ही काम से
चिपके रहने वाला
उसके हिसाब से
एक गधा होता है
धोबी दर धोबी के
हाथों में होते होते
पुराने से पुराना
होता ही रहता है
धोबी बदल देने
वाला गधा ही बस
खुश्किस्मत होता है
होता होगा गधा कभी
किसी जमाने में
पर आज के जमाने
का सबसे मजबूत
घोड़ा बस वही होता है
रोज का रोज एक
नये काम को नये
सिरे से जो कर लेता है
किसी के पास इतना
बड़ा दिमाग ही
कहाँ होता है जो
ऐसों के किये गये
काम को समझ लेता है
एक ही आयाम में
जिंदगी काटने वालों
के लिये वही तो
एक बहुआयामी
व्यक्तित्व होता है
जिसने कुछ भी
कभी भी कहीं भी
पूरा ही नहीं
किया होता है ।

शनिवार, 14 दिसंबर 2013

आँख में ही दिखता है पर बाजार में भी बिकता है अब दर्द

आँख में झाँक कर
दिल का दर्द
देख कर आ गया
मुझे पता है तू
अंदर भी बहुत सी
जगहों पर जा कर
बहुत कुछ देख सुन
कर वापस आ गया
कितना तुझे दिखा
कितना तूने समझा
मुझे पता नहीं चला
क्योंकि आने के बाद
तुझसे कुछ भी कहीं भी
ऐसा कुछ नहीं कहा गया
जिससे पता चलता
किसी को कि
तू गया तो
इतने अंदर तक
कैसे चला गया
और बिना डूबे ही
सही सलामत पूरा
वापस आ गया
जमाने के साथ
नहीं चलेगा तो
बहुत पछतायेगा
किसी दिन अंदर गया
वाकई में डूब जायेगा
वैसे किसी की
आँखों तक
नहीं जाना है
जैसी बात
किसी किताब
ने बताई नहीं है
कुऐं के मुडेर से
रस्सी से पानी
निकाल लेने में
कोई बुराई नहीं है
बाल्टी लेकर कुऐं
के अंदर भी जाते थे
किसी जमाने के लोग
पर अब कहीं भी
उस तरह की साफ
सफाई और
सच्चाई नहीं है
आ जाया कर
आने के लिये
किसी ने नहीं रोका है
पर दलदल में उतरने में
तेरी भी भलाई नहीं है
जो दिखता है
वो होता नहीं
जो होता नहीं
उसी को बार बार
दिखाने की रस्म
लगता है अभी तक
तुझे किसी ने भी
समझाई नहीं है
कितने जमाने
गुजर गये और
तुझे अभी तक
जरा सी भी
अक्ल आई
नहीं है ।

शुक्रवार, 13 दिसंबर 2013

बात कोई नई नहीं कह रहा हूँ आज फिर हुई कहीं बस लिख दे रहा हूँ

समय के साथ
समय का मिलना
धीरे धीरे कम
होता चला गया
बच्चों से अपेक्षाओं
का ढेर कहीं
मन के कोने में
लगता चला गया
एक बूढ़ा और
एक बुढ़िया अब
अकले में
एक दूसरे से
बतियाते बतियाते
कहीं खो से जाते हैं
बात करते करते
भूल जाते हैं
बात कहाँ से
शुरु हुई थी
कुछ ही देर पहले
फिर मुस्कुराते हैं
उम्र के आखिरी
पड़ाव पर
दिखता है
कहीं असर
अपेक्षाओं
के भार का
फिर खुद बताना
शुरु हो जाते हैं
किस तरह
काटना होता है
समय को
समय की
ही छुरी से
रोज का रोज
कतरा कतरा
दिखने लगता है
कहीं दूर पर
अकेली
भटकती हुई
खुद की
परछाई भी
जैसे उन्ही
की तरह
ढूँढ रही हो
खुद को
खुद में ही
फिर बूढ़ा
देखता है
बुढ़िया के
चेहरे की
तरफ और
जवाब दे देता है
जैसे बिना कोई
प्रश्न किये हुऐ
किसी से भी
क्या सिखाया था
बच्चों को कभी
कि अ से अदब
भी होता है
नहीं सिखाया ना
मुझे पता है
सब सिखाते हैं
अ से अधिकार
और समझ आते ही
उसकी समझ में
आ जाता है
अपने लिये
अपना अधिकार
और फिर समय
नहीं बचता उसके
पास किसी और
के लिये कभी ।

गुरुवार, 12 दिसंबर 2013

हो ही जाता है ऐसा भी कभी भी किसी के साथ भी

कभी
अचानक
उल्टी चलती
हुई एक
चलचित्र
की रील

अनायास
ही
पता नहीं
कैसे
बहुत पीछे
की ओर
निकल
पड़ती है

जब
सामने से
आता हुआ
कोई तुम्हें
देख कर
थोड़ा सा
ठिठकता
हुआ
आगे की
ओर चल
पड़ता है

बस
दो कदम
फिर
दोनो की
गर्दने
मुड़ती हैं
और
एक ही साथ
निकलता है
मुँह से
अरे आप हैं

इस बीच
दोनो
देखना
शुरु हो
चुके होते हैंं

एक दूसरे
के चेहरों पर
समय के
कुछ निशान

जैसे ढूँढ
रहे होंं
अपना सा
कुछ
जो अपने को
याद आ जाये

ऐसा कुछ
पता चले
या
खबर मिले

किसी की
कहीं से भी
पर
ऐसा होता
नहीं हैं

सारी बातें
इधर उधर
घूमती हैं
बेवजह

कुछ देर
ना वो कुछ
कह पाता है
ना ये ही
कुछ कह
लेना
चाहता है

हाथ
मिलते हैं
कुछ देर
जैसे
महसूस करना
चाह रहे
होते हैं कुछ

फिर हट
जाते हैं
अपनी अपनी
जगह

और
बाकी सब
ठीक ही
होगा पर
बात खत्म
हो जाती है

दोनो निकल
पड़ते हैं
फिर आगे
अपने
सफर पर
जैसे
कोशिश
कर रहे हों
वापस
उसी जगह
लौटने की
जहाँ पर
से पीछे
मुड़ पड़े
थे दोनो
दो दो
कदम ।

बुधवार, 11 दिसंबर 2013

क्या करे कोई गालिब खयाल वो नहीं हैं अब

होते होंगे कुछ कहीं
इस तरह के खयाल
तेरे पास जरूर गालिब
दिल बहल जाता होगा
बहुत ही आसानी से
उन दिनो तेरे जमाने में
अब ना वो दिल
कहीं नजर आता है
ना ही कोई खयाल
सोच में उतरता है कभी
ना ही किसी गालिब की
बात कहीं दूर बहुत दूर
तक सुनाई देती है
ठंडे खून के दौरों से
कहाँ महसूस हो पाती है
कोई गरमाहट
किसी तरह की
चेहरे चेहरे में पुती
हुई नजदीकियां
उथले पानी की गहराई
सी दिखती है जगह जगह
मिलने जुलने उठने बैठने
के तरीकों की नहीं है
कोई कमी कहीं पर भी
वो होती ही नहीं है
कहीं पर भी बस
बहुत दूर से आई
हुई ही दिखती है
जब भी होता है कुछ
लिख देना सोच कर कुछ
तेरे लफ्जों में उतर कर
बारिश ही बारिश होती है
बस आँख ही से नमी
कुछ दूर हो आई सी
लगती है अजनबी सी
कैसे सम्भाले कोई
दिल को अपने
खयाल बहलाने के
नहीं होते हों जहाँ
जब भी सोचो तो
बाढ़ आई हुई सी
लगती है गालिब ।

मंगलवार, 10 दिसंबर 2013

बावन पत्ते कुछ इधर कुछ उधर हंस रहा है बस एक जोकर

चिड़ी ईट पान हुकुम
बस काले और लाल
तेरह गुणा चार
इक्के से लेकर
गुलाम बेगम बादशाह
पल पल हर पल
सुबह दिन शाम
आज कल परसों
दिन महीने
साल दर साल
फिर बरसों
बस और बस
बावन तरीकों से
कुछ इधर और
कुछ उधर से
हुई उंच नीच को
बराबर करने की
जुगत में लगे लगे
बहुत कुछ बटोर कर
अंगुलियों के पोरों के
बीच छुपा लेने की
एक भरपूर कोशिश के
बावजूद सब कुछ का
छिर जाना सब कुछ
साफ साफ नजर
आते हुऐ भी
फिर से जुट जाना
भरने के लिये
अंधेरे के लिफाफे में
जैसे कुछ रोशनी
एक नहीं कई बार
ये सोच कर
कभी तो कुछ रुकेगा
कहीं जाकर रास्ते के
किसी मोड़ पर
थोड़ी देर के लिये
सुस्ताते समय ही सही
बस नहीं दिखता है
तो केवल
ताश के पत्तों के
पट्ठे के डिब्बे में से
आधा बाहर निकला
हुआ त्रेपनवां पत्ता
बहुत बेशर्मी से
मुस्कुराता हुआ ।

सोमवार, 9 दिसंबर 2013

दीमक है इतनी जल्दी हरियाली देख कर कैसे हार जायेगा

सड़े हुऐ पेड‌
की फुनगी
पर कुछ हरे
पत्ते दिखाई
दे रहे हैं का
समाचार लेकर
अखबारी दीमक
दीमकों की
रानी के पास
डरते डरते
जा पहुँचा
उसके मुँह पर
उड़ रही हवा
को देखकर रानी ने
अपने मंत्री दीमक को
इशारा करके पूछा
क्या बात है
क्या हो गया
इस को देख कर
तो लग रहा है
जैसे कहीं कोई बहुत
बड़ा तूफान है आ बैठा
मंत्री मुस्कुराया
थोड़ा उठा रानी जी के
नजदीक पहुँच कर
कान में फुसफुसाया
महारानी जी कुछ भी
कहीं नहीं हुआ है
इसको थोड़ी देर के लिये
कुछ मतिभ्रम सा
कुछ हो गया है
दो चार हरे पत्ते
पेड़ पर देख कर
क्या आ गया है
सारा जंगल हरा
हो जाने वाला है
सोच कर ही फालतू
में चकरा गया है
आप क्यों बेकार में
परेशान होने जा रही हैं
कुछ मजबूत दीमकों को
आज से नई तरह से
काम शुरु करने का
न्योता भेजा गया है
हमारे दीमक इतना
चाट चुके हैं पेड़ की
लकड़ी को वैसे भी
चाटने के लिये कहीं
कुछ बचा क्या है
पुराने दीमकों को छुट्टी
पर इसलिये कल से ही
भेज दिया गया है
नये दीमक नई उर्जा से
चाटेंगे पेड़ के
कण कण को
यही संदेश
हर कोने कोने पर
पहुँचा दिया गया है
पीले दीमक पीछे को
चले जा रहे हैं
लाल दीमक झंडा
अपना अब लहरा रहे हैं
इस बेवकूफ को क्या पता
कहाँ कहाँ इस युग में
क्या से क्या हो गया है
पेड़ को भी पता नहीं
आज ही आज में
ना जाने क्या हो गया है
बुझते हुऐ दिये की जैसे
एक लौ हो गया है
चार हरे पत्तों से
क्या कुछ हो जायेगा
बेवकूफ जानता ही नहीं
नया दीमक लकड़ी के
साथ साथ हरे पत्ते
सलाद समझ कर
स्वाद से खा जायेगा ।

रविवार, 8 दिसंबर 2013

जरूरी जो होता है कहीं जरूर लिखा होता है

क्या ये जरूरी है
कि कोई महसूस करे
एक शाम की उदासी
और पूछ ही ले
बात ही बात में
शाम से कि वो
इतनी उदास क्यों है
क्या ये भी जरूरी है
कि वो अपने हिस्से की
रोशनी की बात कभी
अपने हिस्से के
अंधेरे से कर ही ले
यूं ही कहीं किसी
एक खास अंदाज से
शायद ये भी जरूरी नहीं
कर लेना दिन की धूप को
पकड़ कर अपनी मुट्ठी में
और बांट देना टुकड़े टुकड़े
फिर रात की
बिखरी चाँदनी को बुहारने
की कोशिश में देखना
अपनी खाली हथेली
में रखे हुऐ चंद
अधेरे के निशान
और खुद ही देखना
करीने से सजाने की
जद्दोजहद में कहीं
फटे कोने से निकला हुआ
खुद की जिंदगी का
एक छोटा सा कोना
कहाँ लिखा है
अपनी प्रायिकताओं से
खुद अपने आप जूझना
और अपने हिसाब से
तय करना
अपनी जरूरते
होती रहे शाम उदास
आज की भी और
कल की भी
बहुत कुछ होता है
करने और सोचेने
के लिये बताया हुआ
खाली इन बेकार की
बातों को ही क्यों है
रोज का रोज
कहीं ना कहीं
इसी तरह से नोचना !

शनिवार, 7 दिसंबर 2013

मुझे तो छोड़ दे कम से कम हर किसी को कुछ ना कुछ सुनाता है

कभी कहीं किसी ऐसी
जगह चला चल जहाँ
बात कर सकें खुल के
बहुत से मसले हैं
सुलझाने कई जमाने से
रोज मुलाकात होती है
कभी सुबह कभी शाम
कभी रास्ते खासो आम
इसके उसके बारे में तो
रोज कुछ ना कुछ
सामने से आता है
कुछ कर भी
ना पाये कोई
तब भी लिख
लिखा कर
बराबर कर
लिया जाता है
तेरा क्या है तू तो
कभी कभार ही
बहुत ही कम
समय के लिये
मिल मिला पाता है
जब बाल बना
रहा होता है कोई
या नये कपड़े कैसे
लग रहे हैं पहन कर
देखने चला जाता है
हर मुलाकात में ऐसा
ही कुछ महसूस
किया जाता है
अपने तो हाल ही
बेहाल हो रहे हैं
कोई इधर दौड़ाता है
कोई उधर दौड़ाता है
एक तू है हर बार
उसी जगह पर
उसी उर्जा से ओतप्रोत
बैठा नहीं तो खड़ा
पाया जाता है
जिस जगह पर कोई
पिछली मुलाकात में
तुझे छोड़ के जाता है
बहुत कर लिये मजे तूने
उस पार आईने के
रहकर कई सालों साल
अब देखता हूँ कैसे
बाहर निकल कर के
मिलने नहीं आता है
कुछ तो लिहाज कर ले
फिर नहीं कहना किसी से
दुनियाँ भर में कोई कैसे
अपने खुद के अक्स को
इस तरह से बदनाम
कर ले जाता है ।

शुक्रवार, 6 दिसंबर 2013

करे तो सही कोई समझौता वो करना सिखाना चाहता है

जानवर को पालतू
हो जाने में कोई
परेशानी नहीं होती है
काबू में आसानी
से आ जाता है
कोशिश करता है
सामंजस्य बैठाने की
हर अवस्था में
अगर बांध दिया
जाता है जंजीर से
तब भी मान लेता है
बंधन को और
खुश रहता है
ऐसा लगता है
क्योंकि खुल गया कभी
तो कहीं नहीं जाता है
वापस लौट आता है
लगता है जानवर को
आदमी बहुत अच्छी
तरह से समझ
में आता है
आदमी भी तो आदमी
से हमेशा सामंजस्य
बिठाना चाहता है
बराबरी की बने रहे रिश्तेदारी
इसलिये स्टूल में बैठ कर
सामने वाले को जमीन
में बैठाना चाहता है
स्टूल में बैठना बहुत
ही दुखदायी होता है
हर बात में इसी बात को
समझाना चाहता है
बना रहता है सामंजस्य
हमेशा तब तक जब तक
जमीन पर बैठा आदमी
अपने लिये भी एक
स्टूल नहीं बनवाना चाहता है
कोई स्टूल कोई रस्सी
कोई जंजीर कहीं भी
किसी को नजर
नहीं आती है
हर किसी के लिये
हर कोई एक
अलग ही तरीका
इस सब में
अपनाना चाहता है
दिखती रहे सबको
रेगिस्तान में हरियाली
समझदारी से
सारी बातों को
इशारों में ही समझा
ले जाना चाहता है
आदमी की तरह बना रहे
आदमी की तरह करता रहे
आदमी की तरह दिखता रहे
हर समय हर जगह
बस अपने सामने
अपने आस पास ही
एक जानवर जैसा ही
बना ले जाना चाहता है
इस तरह के समझौते
होते रहे आपस में
वो भी मिल जुल कर
एक का समझौता
दूसरे को कभी भूल कर भी
बताना नहीं चाहता है ।

गुरुवार, 5 दिसंबर 2013

किसी की लकीरों का किसी को समझ में आ जाना

कई दिन से
देख रहा हूँ
उसका एक
खाली दीवार
पर कुछ
आड़ी तिरछी
लकीरें बनाते
चले जाना
उसके चेहरे
के हाव भाव
के अनुसार
उसकी लकीरों
की लम्बाई
का बढ़ जाना
या फिर कुछ
सिकुड़ जाना
रोज निकलना
दीवार के
सामने से
राहगीरों का
कुछ का
रुकना
कुछ का
उसे देखना
कुछ का
बस दीवार
को देखना
कुछ का
उसके चेहरे
को निहारना
फिर मुस्कुराना
उसका किसी
के आने जाने
ठहरने से
प्रभावित
नहीं होना
बिना नागा
जाड़ा गरमी
बरसात
लकीरों को
बस गिनते
चले जाना
हर लकीर
के साथ
कोई ना
कोई अंतरंग
रिश्ता बुनते
चले जाना
उसकी खुशी
उसके गम
उसके
अहसासों का
कुछ लकीरें
हो जाना
सबसे बड़ी बात
मेरा कबूल
कर ले जाना
उसकी हर
लकीर का
मतलब उतना
ही उसकी
समझ के
जितना ही
समझ ले जाना
उसकी लकीरों
का मेरी अपनी
लकीरें हो जाना
महसूस हो जाना
लकीर से
शुरु होना
एक लकीर का
और लकीर पर
जा कर
पूरी हो जाना | 

बुधवार, 4 दिसंबर 2013

अपना अपना देखना अपना अपना समझना हो जाता है

एक चीज मान लो
कलगी वाला एक
मुर्गा ही सही
बहुत से लोगों
के सामने से
मटकता हुआ
निकलता है
कुछ को दिखता है
कुछ को नहीं
भी दिखता है
या कोई देखना
नहीं चाहता है
जिनको देखना ही
पड़ जाता है
उनको पता
नहीं चलता है
मुर्गे में क्या
दिखाई दे जाता है
अब देखने का
कोई नियम भी तो
यहाँ किसी को
नहीं बताया जाता है
जिसकी समझ में
जैसा आता है
वो उसी हिसाब से
हिसाब लगा कर
उतना ही मुर्गा
देख ले जाता है
बात तो तब
बिगड़ती है जब
सब से मुर्गे
की बात को
लिख देने को
कह दिया जाता है
सबसे मजे में
वो आ जाता है
जो कह ले जाता है
मुर्गा क्या होता है
उसको बिल्कुल
भी नहीं आता है
बाकी सब
जिन के लिये
लिखना एक मजबूरी
ही हो जाता है
वो एक दूसरा क्या
लिख रहा है
देख देख कर भी
अलग अलग बात
लिख जाता है
देखे गये मुर्गे को
हर कोई एक मुर्गा
ही बताना चाहता है
इसके बावजूद भी
किसी के लिखे में
वो एक कौआ
किसी में कबूतर
किसी में मोर
हो जाता है
पढ़ने वाला जानता
है अच्छी तरह
कि मुर्गा ही है
जो इधर उधर
आता जाता है
लेकिन पढ़ने के
बावजूद उसकी
समझ में किसी
के लिखे में से
कुछ भी
नहीं आता है
क्या फरक
पड़ना है
'उलूक' बस यही
कह कर चले जाता है
लिखने वाला अपने
लिखे के लिये ही
जिम्मेदार माना जाता है
पढ़ने वाले का उसका
कुछ अलग मतलब
निकाल लेना उसकी
अपनी खुद की
जिम्मेदारी हो जाता है
इसी से पता चल
चल जाता है
मुर्गा देखने
मुर्गा समझने
मुर्गा लिखने
मुर्गा पढ़ने में
कोई सम्बंध
आपस में
कहीं नजर
नहीं आता है ।

मंगलवार, 3 दिसंबर 2013

बदतमीजी कर मगर तमीज से नहीं तो आजादी के मायने बदल जाते हैं

वो करते थे सुना
गुलामी की बात
जो कभी आजाद
भी हो गये थे
कुछ बच गये थे
आज भी हैं
शायद कहीं
इंतजार में
बहुत सारे
मर खप
भी कभी
के गये थे
ऐसे ही
कुछ निशान
आजादी
के कुछ
गुलामी
के कुछ
आज भी
नजर कहीं
आ ही जाते हैं
कुछ खड़ी मूर्तियाँ
शहर दर शहर
चौराहों पर
कुछ बैठे बूढ़े
लाठी लिये
खेतों के लिये
जैसे वजूका
एक हो जाते है
पर कौवे
फिर भी
बैठ ही
कभी जाते हैं
कोई नहीं देखता
उस तरफ
कभी भी
मगर साल
के किसी
एक दिन
रंग रोगन कर
नये कर
दिये जाते हैं
देख सुन
पढ़ रहे होंं
सब कुछ
आज भी
आज को
उसी अंदाज में
देखो उनकी
तरफ तो
नजर से
नजर मिलाते
नजर आ जाते हैं
बदतमीजी
बहुत हो रही है
चारों तरफ
बहुत ही तमीज
और बहुत
आजादी के साथ
बस दिखता
है इन्ही को
समझते भी
ये हैं सब
बाकी तो
आजाद हैं
कुछ इधर से
निकलते हैं उनके
कुछ उधर से
भी निकल जाते हैं ।

सोमवार, 2 दिसंबर 2013

जमीन की सोच है फिर क्यों बार बार हवाबाजों में फंस जाता है

अब बातें
तो बातें है
कुछ भी
कर लो
कहीं भी
कर लो

मुसीबत
तो तब
हो जाती है
जब
बातें दो
अलग अलग
तरह की
सोच रखने
वालों के
बीच हो
जाती हैंं

बातें
सब से
ज्यादा
परेशान
करती हैंं
एक जमीन
से जुड़ने
की कोशिश
करने वाले
आदमी को
जो कभी
गलती से
हवा में
बात करने
वालों मे
जा कर
फंस
जाता है

ना उड़
पाता है
ना ही
जमीन पर
ही आ
पाता है

जो हवा
में होता है
उसे क्या
होता है
खुद हवा
फैलाता है
बातों को
भी हवा में
उड़ाता है

हवा में
बात करने
वाले को
पता होता है
कुछ ऐसा
कह देना है
जो कभी भी
और
कहीं भी
नहीं होना है

जो जमीनी
हकीकत है
उससे किसी
को क्या
लेना होता है

पर
बस एक बात
समझ में
नहीं आती है

हवा में बात
करने वालों
की टोली
हमेशा एक
जमीन से
जुड़े कलाकार
को अपने
कार्यक्रमों का
हीरो बनाती है

बहुत सारी
हवा होती है
इधर भी
होती है
उधर भी
होती है

हर चीज
हवा में
उड़ रही
होती है

जब
सब कुछ
उड़ा दिया
जाता है
हर एक
हवाबाज
अपने अपने
धूरे में जाकर
बैठ जाता है

जमीन से
जुड़ा हुआ
बेचारा एक
जोकर
बन कर
अपना सिर
खुजाता हुआ
वापस जमीन
पर लौट
आता है

एक सत्य को
दूसरे सत्य से
मिलाने में
अपना जोड़
घटाना भी
भूल जाता है

पर क्या
किया जाय
आज
हवा बनाने
वालों को ही
ताजो तख्त
दिया जाता है

जमीन
की बात
करने वाला
सोचते सोचते
एक दिन
खुद ही
जमींदोज
हो जाता है ।

रविवार, 1 दिसंबर 2013

घर पर पूछे गये प्रश्न पर यही जवाब दिया जा रहा है

इस पर उस पर
पता नहीं
किस किस पर
क्या क्या
कब से
कहाँ कहाँ
लिखते ही
चले जा रहे हो
क्या इरादा है
करने का
किसी को नहीं
बता रहे हो
रोज कहीं
जा कर
लौट कर
यहाँ वापस जरूर
आ जा रहे हो
बहुत दिन से
देख रहे हैं
बहुत कुछ
लिखा हुआ भी
बहुत जगह
नजर आ रहा है
किसी भी
तरफ निकलो
हर कोई
इस बात को
बातों बातों में
बता रहा है
छोटी मोटी
भी नहीं
पूरी पेज भर
की बात
रोज बनाते
जा रहे हो
सारी दुनिया
का जिक्र
चार लाईनों में
करते हुऐ
साफ साफ
नजर आ रहे हो
घोड़े गधे
उल्लू खच्चर
नेता पागल
जैसे कई और
लिखे हुऐ में
कहीं ना कहीं
टकरा ही
जा रहे है
बस एक
हम पर
कही हो
कभी कहीं
पर कुछ भी
लिखा हुआ
तुम्हारे लिखे में
दूरबीन से
देखने पर भी
देख नहीं
पा रहे है
समझा करो
कितना बड़ा
खतरा कोई
इस सब को
यहाँ लिख कर
उठा रहा है
माना कि
इसे पढ़ने को
उनमें से कोई भी
यहाँ नहीं
आ रहा है
लिखा जरूर
है लेकिन
बिना सबूत
के सच को
कोई नहीं
समझ पा रहा है
तुम पर लिखने
को वैसे तो
हमेशा ही
बहुत कुछ
आसानी से
घर पर ही
मिल जा रहा है
पर जल में रहकर
मगर से बैर करना
'उलूक' के बस से
बाहर हो जा रहा है ।

शनिवार, 30 नवंबर 2013

और ये हो गयी पाँच सौंवी बकवास

इससे पहले
उबलते
उबलते
कुछ
छलक
कर गिरे

और

बिखर जाये
जमीन पर
तिनका
तिनका

छींटे पड़े
कहीं सफेद
दीवार पर

और कुछ

काले पीले
धब्बे बनायें

लिख
लिया कर
मेरी तरह
रोज का रोज
कुछ ना कुछ
कहीं ना कहीं
किसी रद्दी
कागज के
टुकड़े पर
ही सही

कागज
में लिखा
बहुत
आसान
होता है
छिपा लेना
मिटा लेना
आसान
होता है
जला लेना

राख हवा
के साथ
उड़ जाती है
बारिश
के साथ
बह जाती है

बहुत कुछ
हल्का हो
जाता है

बहुत से
लोग
कुछ भी
नहीं कहते
ना ही उनका
लिखा हुआ
कहीं नजर
में आता है

और
एक तू है
जब भी
भीड़ के
सामने
जाता है

बहुत कुछ
लिखा हुआ
तेरे चेहरे
माथे और
आँखों में
साफ नजर
आ जाता है

तुझे पता
भी नहीं
चलता है
हर कोई
तुझे कब
और
किस समय
पढ़ ले
जाता है

मत
हुआ कर
सरे आम
नंगा
इस तरह से

जब कागज
में सब कुछ
लिख लिखा
कर आसानी
से बचा जाता है

कब से
लिख रहा
है “उलूक”
देखता
नहीं क्या
एक था
पन्ना कभी
जो आज
लिखते
लिखते
हजार का
आधा हो
जाता है ।

शुक्रवार, 29 नवंबर 2013

कभी होता है पर ऐसा भी होता है

मुश्किल
हो जाता है
कुछ
कह पाना
उस
अवस्था में
जब सोच
बगावत
पर उतरना
शुरु हो
जाती है
सोच के
ही किसी
एक मोड़ पर

भड़कती
हुई सोच
निकल
पड़ती है
खुले
आकाश
में कहीं
अपनी मर्जी
की मालिक
जैसे एक
बेलगाम घोड़ी
समय को
अपनी
पीठ पर
बैठाये हुऐ
चरना शुरु
हो जाती है
समय के
मैदान में
समय को ही

बस
यहीं
पर जैसे
सब कुछ
फिसल
जाता है
हाथ से

उस समय
जब लिखना
शुरु हो
जाता है
समय
खुले
आकाश में
वही सब
जो सोच
की सीमा
से कहीं
बहुत बाहर
होता है

हमेशा
ही नहीं
पर
कभी कभी
कुछ देर के
लिये ही सही
लेकिन सच
में होता है

मेरे तेरे
उसके साथ

इसी बेबसी
के क्षण में
बहुत चाहने
के बाद भी
जो कुछ
लिखा
जाता है
उसमें
बस
वही सब
नहीं होता है
जो वास्तव में
कहीं जरूर
होता है

और जिसे
बस समय
लिख रहा
होता है
समय पढ़
रहा होता है
समय ही
खुद सब कुछ
समझ रहा
होता है ।

गुरुवार, 28 नवंबर 2013

सबूत होना जरूरी है ताबूत होने से पहले

छोटी हो
या बड़ी
आफत कभी
बता कर
नहीं आती है
और
समझदार लोग
हर चीज के
लिये तैयार
नजर आते है

आफत बाद
में आती है
उससे पहले
निपटने के
हथियार लिये
हजूर
दिख जाते हैं

जिनके लिये
पूरी जिंदगी
प्रायिकता का
एक खेल हो
उनको किस
चीज का डर

पासा फेंकते
ही छ:
हवा में ही
ले आते है

जैसे सब
कुछ बहुत
आसान होता है

एक लूडो
साँप सीढ़ी
या
शतरंज का
कोई खेल

ऐसे में ही
कभी कभी
खुद के अंदर
एक डर सा
बैठने लगता है

जैसे कोई
उससे
उसके होने
का सबूत
मांगने लगता है

पता होता है
सबूत सच का
कभी भी
नहीं होता है

सबूतों से तो
सच बनाया
जाता है

कब कौन कहाँ
किस हालत में
क्या करता हुआ
अखबार के मुख्य
पृष्ठ पर दिख जाये

बहुत से
ज्योतिष हैं यहाँ
जिनको इस
सबकी
गणना करना
बहुत ही सफाई
के साथ आता है

बस एक बात
सब जगह
उभयनिष्ठ
नजर आती है
जो किसी भी
हालत में
एक रक्षा कवच
फंसे हुऐ के लिये
बन जाती है

कहीं ना कहीं
किसी ना किसी
गिरोह से 

जुड़ा होना

नहीं तो क्या
जरूरत है
किसी सी सी
टी वी के
फुटेज की

जब कोई
स्वीकार
कर रहा हो
अपना अपराध
बिना शर्म बिना
किसी लिहाज

ऐसे में ही
महसूस होता है
किसी गिरोह से
ना जुड़ा होना
कितना दुख:दायी
हो सकता है

कभी भी कोई
पूछ सकता है
तेरे होने या ना
होने का सबूत

उससे पहले
कि बने
तेरे लिये भी
कहीं
कोई ताबूत

सोच ले
अभी भी
है कोई
सबूत कहीं
कि तू है
और
सच में है
बेकार
ही सही
पर है
यहीं कहीं ।

बुधवार, 27 नवंबर 2013

उलूक का शोध ऊपर वाले को एक वैज्ञानिक बताता है

ऊपर वाला जरूर
किसी अंजान ग्रह
का प्राणी वैज्ञानिक
और मनुष्य उसके
किसी प्रयोग की
दुर्घटना से उत्पन्न
श्रंखलाबद्ध रासायनिक
क्रिया का एक ऐसा
उत्पाद रहा होगा
जो परखनली से
निकलने के बाद
कभी भी खुद
सर्व शक्तिमान के
काबू में नहीं रहा होगा
और अपने और अपने
ग्रह को बचाने के लिये
वो उस पूरी की पूरी
प्रयोगशाला को उठा के
दूर यहाँ पृथ्वी बना
कर ले आया होगा
वापस लौट के ना
आ जाये फिर से
कहीं उसके पास
इसीलिये अपने होने
या ना होने के भ्रम में
उसने आदमी को
उलझाया होगा
कुछ ऐसा ही आज
शायद उल्लूक की
सोच में हो सकता है
ये देख कर आया होगा
कि मनुष्य कोशिश
कर रहा है आज
खुद से परेशान
होने के बाद
किसी दूसरे ग्रह
में जाकर बसने
का विचार ताकि
बचा सके अपने
कुछ अवशेष
अपनी सभ्यता के
मिटने के देख
देख कर आसार
क्योंकि मनुष्य
आज कुछ भी
ऐसा करता हुआ
नहीं नजर आता है
जिससे महसूस हो सके
कि कहीं ऐसा कोई
ऊपर वाला भी
पाया जाता है
जैसे ऊपर वाले की
बातें और कल्पनाऐं
वो खुद ही यहाँ पर
ला ला कर फैलाता है
अपना जो भी
मन में आये
कैसा भी चाहे
कर ले जाता है
सामने वाले को
ऊपर वाले की
फोटो और बातों
से डराता है
कहीं भी ऐसा
थोड़ा सा 

भी महसूस
नहीं होता है
शक्तिशाली
ऊपर वाला
कहीं कुछ
भी अपनी
चला पाता है
उसी तरह
जिस तरह आज
मनुष्य खुद
अपने विनाशकारी
आविष्कारों को
नियंत्रित करने में
अपने को
असफल पाता है
इस सब से
ऊपर वाले का
एक अनाड़ी
वैज्ञानिक होना
आसानी से क्या
सिद्ध नहीं
हो जाता है ।

मंगलवार, 26 नवंबर 2013

कर कुछ भी कर बात कुछ और ही कर

कुछ इधर
की बात कर
कुछ उधर
की बात कर

करना बहुत
जरूरी है
बेमतलब
की बात कर

समझ में
कुछ आये
कहा कुछ
और ही जाये
बातों की
हो बस बात
कुछ ऐसी ही
बात कर

इससे करे
तो उसकी
बात कर
उससे करे
तो इसकी
बात कर

जब हों
आमने
सामने
ये वो
तो मौसम
की बात कर

कुछ भी
करना
हो कर
जैसे भी
करना
हो कर

बात करनी
ही पड़े तो
कुछ नियम
की बात कर

थोड़ी चोरी
भी कर
कुछ
बे‌ईमानी
भी कर
बात पूरी
की पूरी
ईमानदारी
की कर

इसके पीने
की कर
उसके पीने
की कर
खुद के
बोतल में
गंगाजल
होने की
बात कर

कहीं भी
आग लगा
जो मन में
आये जला
बात
आसमान
से बरसते
हुऐ पानी
की कर

अपनी भूख
को बढ़ा
जितना खा
सकता है खा
बात भूखे
की कर
बात गरीबों
की कर

 बात
करनी है
जितनी भी
चाहे तू कर
बात करने
पर ही
नहीं लगता
है कर
यहां कोई
बात कर
वहां कोई
बात कर
बाकी पूछे
कोई कभी
कहना ऊपर
वाले से डर ।

सोमवार, 25 नवंबर 2013

मत बताना नहीं मानेंगे अगर कहेगा ये सब तू ही कह रहा था

पिछले दो दिन
से यहाँ दिखाई
नही दे रहा था
पता नहीं कहाँ
जा कर किस को
गोली दे रहा था
खण्डहर में उजाला
नहीं हो रहा था
दिये में बाती
दिख रही थी
तेल पता नहीं
कौन आ कर
पी रहा था
आसमान नापने
का ठेका कहीं
हो रहा था
खबर सच है
या झूठ मूठ  
पता करने
के लिये

उछल उछल
कर 
कुँऐ की
मुंडेर 
छू रहा था
बाहर के उजाले
का क्या कहने
हर काला भी
चमकता हुआ
सफेद हो रहा था
किसी के आँखों में
सो रहे थे सपने
कोई सपने सस्ते 
में बेच कर भी
अमीर हो रहा था
सोच क्यों नहीं
लेता पहले से 
कुछ ‘उलूक
अपने कोटर से
बाहर निकलने
से पहले कभी
अपने और अपनो
के अंधेरों में
तैरने के आदी
मंजूर नहीं करेंगे
सुबह होती दिख
रही थी कहीं
बहुत नजदीक से
और वाकई में तू
देख रहा था और
तुझे सब कुछ
साफ और
बहुत साफ
दिन के
उजाले सा
दिखाई भी
दे रहा था ।

शुक्रवार, 22 नवंबर 2013

घबरा सा जाता है गंदगी लिख नहीं पाता है

कितनी अजीब  
सी बात है
अब है तो है
अजीब ही सही
सब की बाते
एक सी भी तो
नहीं हो सकती
हमेशा ही
कोई खुद
अजीब होता है
उसकी बातों में
लेकिन बहुत
सलीका होता है
कोई बहुत
सलीका दिखाता है
बोलना शुरु होता है
तो अजीब पना
साफ साफ चलता
हुआ सा दिख जाता है
किसी के साथ
कई हादसे ऐसे
होते ही रहते हैं
वो नहीं भी
सोचता अजीब
पर बहुत से लोग
उसे कुछ अजीब
सोचने पर
मजबूर कर देते हैं
थोड़ा अजीब ही
सही पर कुछ अजीब
सा सभी के
पास होता ही है
गंदगी भी होती है
सब कुछ साफ
जो क्या होता है
पर साफ सुथरे
कागज पर जब
कोई कुछ टीपने
के लिये बैठता है तो
गंदगी चेपने की
हिम्मत ही
खो देता है
हर तरफ
सब लोगों के
सफाई लिखे हुए
सजे संवरे कागज
जब नजर आते है
लिखने वाले
के दस्ताने
शरमा शरमी
निकल आते है
अपने आस पास
और अपने अंदर
की गंदगी से
बचे खुचे सफाई
के कुछ टुकड़े
ढूंढ लाते है
सब सब की
तरह लिखा
जैसा हो जाता है
रोज सफाई
लिखने वाले को
तो बहुत सफाई से
लिखना आता है
पर ‘उलूक’ के लिखे
के किनारे में कहीं
एक गंदगी का धब्बा
उस पर खुल कर
ठहाके लगाना
शुरू हो जाता है ।

गुरुवार, 21 नवंबर 2013

कभी तो लिख दिया कर यहाँ छुट्टी पे जा रहा है

बटुऐ की चोर जेब में
भरे हुऐ चिल्लर जैसे
कुछ ना कुछ रोज लेकर
चने मूंगफली की
रेहड़ी लगाने में तुझे
पता नहीं क्यों इतना
मजा आता है
कितना कुछ है
लोगों के पास
भरी हुई जेबों में जब
पिस्ते काजू बादाम
दिखाने के लिये
किसे फुरसत है तेरी
मूंगफली के छिक्कल
निकाल कर दो चार दाने
ढूढ निकाल कर खाने की
एक दिन की बात नहीं है
बहुत दिनों से तेरा ये टंटा
यहाँ चला आ रहा है
करते चले जा तू
मदारी के करतब
खुद को खुद
का ही जमूरा
तुझे भी मालूम है
पता नहीं किस के लिये
यूं बनाये जा रहा है
कभी सांस भी
ले लिया कर
थोड़ी सी देर
के लिये ही सही
नहीं दिखायेगा
कभी कुछ तो
कौन यहाँ पर
लुटा या मरा
जा रहा है
कुछ नहीं
होगा कहीं पर
हर जगह खुदा का
कोई ना कोई बंदा
उसी के कहने पर
वो सब किये
जा रहा है
जिसे लेकर रोज
ही तू यहां पर
आ आ कर
टैंट लगा रहा है
आने जाने वालों का
दिमाग खा रहा है
अब भी सुधर जा
नहीं तो किसी दिन
कहने आ पहुंचेगा यहाँ
कि खुदा का कोई बंदा
तेरी इन हरकतों के लिये
खुदा के यहाँ आर टी आई
लगाने जा रहा है और
ऊपर वाला ही अब तेरी
वाट लगाने के लिये
नीचे किसी को
काम पर लगा रहा है ।

बुधवार, 20 नवंबर 2013

कोई तो लिखे कुछ अलग सा लगे

कभी कुछ
अलग सा
कुछ ऐसा
भी लिख
जिसे नहीं
पढ़ने वाला
भी

थोड़ा सा
पढ़ सके
कुछ ऐसा
जो किसी
झूमती हुई
कलम से
रंगबिरंगी
स्याही से
इंद्रधनुष
सा
लिखा हुआ
आसमान
पर दिखे

कुछ देर
के लिये
ही सही

रोज की
चिल्ल पौं से
थोड़ी देर के
लिये सही
आँख कान
नाक हटे

नहीं पीने
वाले को
कुछ पीने
जैसा लगे
नशा सा
लिखा हो
नशा ही
लिखा हो

पढ़े कोई
तो झूमती
हुई कलम
सफेद कागज
के ऊपर
इधर उधर
लहराती
सी दिखे

हर कोई
शराबी हो
ये जरूरी नहीं
नशा पढ़ के
हो जाने में
कोई खराबी नहीं

लिख मगर
ऐसा ही
कुछ
पढ़े कोई
तो पढ़ता
ही रहे

पढ़ के
हटे कुछ
लड़खड़ाये
इतना नही
कि
जा ही गिरे

रोज ही के
लिये नहीं
है गुजारिश
पर लिखे

कभी किसी
दिन ऐसा
कुछ भी हो
कहीं कुछ
अलग
सा दिखे
अलग सा
कुछ लगे

मुझे
ना सही
तुझे
ही लगे ।

मंगलवार, 19 नवंबर 2013

ये तो होना ही था

जो हो रहा था
अच्छा हो रहा था
जो हो रहा है
अच्छा हो रहा है
जो आगे होगा
वो अच्छा ही होगा
बस तुझे एक बात का
ध्यान रखना होगा
बंदर के बारे में
कुछ भी कभी भी
नहीं सोचना होगा
बहुत पुरानी कहावत है
मगर बड़े काम की
कहावत नजर आती है
जब मुझे अपने
दिमाग में घुसी
भैंस नजर आती है
अब माना कि
अपनी ही होती है
पर भैंस तो भैंस होती है
उसपर जब वो किसी के
दिमाग में घुसी होती है
जरा जरा सी बात पर
खाली भड़क जाती है
कब क्या कर बैठे
किसी को बता कर
भी नहीं जाती है
दूसरों को देख
कर लगता है
उनकी भी कोई
ना कोई तो भैंस
जरूर होती होगी
तो मुझे खाली क्यों
चिंता हो जाती है
अपनी अपनी
भैंस होती है
जिधर करेगा मन
उधर को चली जाती है
अब इसमें मुझे
चिढ़ लग भी जाती है
तो कौन सी बड़ी
बात हो जाती है
लाईलाज हो बीमारी तब
हाथ से निकल जाती है
अखबार की खबर से
जब पता चलता है
कोई भी ऐसा नहीं है
मेरे सिवाय यहाँ पर
जिसके साथ इस तरह
की कोई अनहोनी
होती हुई कभी यहां
पर देखी जाती है
होती भी है किसी के
पास एक भैंस
वो हमेशा तबेले में
ही बांधी जाती है
सुबह सुबह से इसी
बात को सुनकर
दुखी हो चुकी मेरे
दिमाग की भैंस
पानी में चली जाती है
तब से भैंस के जाते ही
सारी बात जड़ से
खतम हो जाती है
परेशान होने की
जरूरत नहीं
अगर आपके
समझ में 'उलूक'
की बात बिल्कुल
भी नहीं आती है ।

सोमवार, 18 नवंबर 2013

तारा टूटे कहीं तो भगवान करे उसे बस माँ देखे

ऐसा बहुत
बार हुआ है

आसमान से
टूटता हुआ
एक तारा
नीचे की ओर
उतरता हुआ
जब दिखा है

गूंजे हैं कान में
किसी के कहे
हुऐ कुछ शब्द

तारे को टूटते
हुऐ देखना बहुत
अच्छा होता है

सोच लो
मन ही मन कुछ

कभी ना कभी
जरूर पूरा होता है

बहुत याद
आती है उसकी
और पड़ जाते हैं सोच

क्यों
और किसलिये
उसने ऐसा हमेशा
कहा होता है

तब दुनिया का
एक सब से
खूबसूरत चेहरा
सामने होता है

पुराने
दिनों की बात
आ जाती है
अचानक याद

बहुत से तारे
टूटते हुऐ
एक साथ
आसमान से
गिरते हुऐ
फुलझड़ी
की तरह
देखे थे
किसी एक रात

उसने और
मैंने साथ साथ

इतने सारे
टूटते हुऐ तारे
जैसे बरसात
हो गई हो

जाहिर करनी
है मन ही मन
कोई इच्छा
भी इस समय
जैसे याद ही
नहीं रह गई हो

कब इतना समय
आगे निकल गया
पता ही नहीं चला

कल रात
देख रहा था
आसमान की ओर

एक टूटता
हुआ तारा
आ रहा था
जैसे जैसे
नीचे की ओर

मुझे याद
आ रही थी
उसकी इच्छायें

पता नहीं
कितनी
पूरी हुई होंगी

आज जब वो
पास में नहीं है

जरूर कहीं
ना कहीं से
तारे को
टूटते हुऐ
जरूर देख
रही होंगी

क्योंकि
मेरी इच्छायें
उस समय भी
पूरी हो जाती थी

जब तारे के
टूटते समय
तुम पास
खड़ी होती थी

आज भी
पूरी होती है
तब भी जब
तुमको गये हुऐ
भी बरसों हो गये

पता नहीं
कितनों की
इच्छायें पूरी
हो जाती हैं
एक माँ
जब भी तारे
को टूटते
देखती है

आज भी माँ
जब भी कोई
तारा टूटता है
मुझे कोई इच्छा
नहीं याद आती है

उस समय
बस और बस
मुझे तुम्हारी बहुत
याद आती है ।

रविवार, 17 नवंबर 2013

कंंधा नहीं लगायेगा तो ऊपर क्या है कैसे देख पायेगा

पता ही नहीं चलता
कब कहाँ किसी को
क्या नजर आ जाये
किस हाल में किसी को
किसी के लिये क्या कुछ
करना ही पड़ जाये
समझाता भी कौन है यहां
किताबों से बाहर की बातें
जो समझ में आसानी से
किसी के यूं ही आ जाये
कंंधा लगाये हुऐ
कुछ लोगों के
कंंधे पर चढ़ा हुआ कोई
उँचाई पर कुछ ढूंंढने
के लिये जब चला जाये
क्या दिखा क्या मिला
नीचे उतरने पर भी
कंंधे दिये हुओं को
तक भी ना बताये
कंंधे लगाये हुओं को
इस बात से कोई
मतलब ही ना रह जाये
एक उतरा नहीं नीचे
दूसरा कंंधों पर चढ़ कर
ऊपर देखना शुरु हो जाये
चढ़ना उतरना चल रहा हो
ऊपर जाता हुआ मगर
कोई नजर कभी
कहीं भी नहीं आये
शायद हो
दही की मटकी
ऊपर कहीं हुई लटकी
हिम्मत फोड़ने
की ऐसे में
कोई क्यों और
कैसे कर पाये
इंतजार में हो
सब कन्हैया के
सभी 
कंंधे पै लगे हो
इसीलिये अपना भी 
कंंधा लगाये 'उलूक'
देखे खुद समझे खुद
और खुद को
खुद ही ये समझाये
किसी की समझ में इसमें
कुछ और अगर आ जाये
तो बहुत मेहरबानी होगी
पक्का बताये जरूर बताये ।

शनिवार, 16 नवंबर 2013

बहुत कुछ बहुत जगह पर लिखा पाता है पढ़ा लेकिन किसी से सब कहाँ जाता है !

कुछ ना कहते हुऐ
भी बहुत कुछ
बोलती आँखोंं से
कभी आँखे अचानक
ना चाहते सोचते
मिल जाती हैं
और एक सूनापन
बहुत गहराई से
निकलता हुआ
आँखों से आँखो
तक होता हुआ
दिल में समा जाता है
एक नहीं
कई बार होता है
एक नहीं
कई लोग होते हैं
ना दोस्त होते हैं
ना दुश्मन होते हैं
पता नहीं फिर भी
ना जाने क्यों
महसूस होता है
अपनी खुद की
खुद से नजदीकियों
से भी बहुत
नजदीक होते हैं
बहुत कुछ
लिखा होता है
दिखता है
बहुत कुछ साफ
आँखों में ही
लिखा होता है
महसूस होता है
पानी में लिखना भी
किसी को आता है
ऐसा कुछ लिखा
जैसा पहले कहीं भी
किसी किताब में
लिखा हुआ नजर
नहीं आता है
इतना सब
जहाँ किसी को
एक मुहूरत में ही
पढ़ने को मिल जाता है
कितना कुछ
कहाँ कहाँ
सिमटा हुआ है
इस जहाँ में
कौन जान पाता है
ना लिख
सकता है कोई कहीं
ना ही कहीं वैसा
लिखा सा
नजर आता है
बाहर से
ढोना जिंदगी तो
हर किसी को आना
जीने के लिये फिर भी
जरूरी हो जाता है
अंदर से इतना भी
ढो सकता है कोई
ना सोचा जाता है
ना ही कोई इतना
सोचना ही चाहता है
पढ़ ही लेना शायद
बहुत हो जाता है
लिखना चाह कर भी
वैसा कौन कहाँ कभी
लिख ही पाता है ।

शुक्रवार, 15 नवंबर 2013

जिसके लिये लिखा हो उस तक संदेश जरूर पहुँच जाता है !

पता नहीं क्या क्या और
कितना कितना बदला है
कितना और बदलेगा
और क्या फिर हो जायेगा
सुना था कभी राम थे
सीता जी थी
और रावण भी था
बंदर तब भी
हुआ करते थे
आज भी हैं
ऐसी बहुत से
वाकयों से
वाकिफ होते होते
कहां से कहां आ गये
बस कुछ ही
दिन हुऐ हों जैसे
छोटे शहर में
छोटी सी बाजार
चाय की
दुकानों में जुटना
और बांट लेना बहुत कुछ
यूं ही बातों ही बातों में
आज जैसे
वही सब कुछ
एक पर्दे पर आ गया हो
बहुत कुछ है
कहीं किसी के
पास आग है
किसी के
पास पानी है
कोई
आँसुओं के सैलाब में
भी मुस्कुरा रहा है
कोई
जादू दिखा रहा है
कहीं
झगड़ा है
कहीं
समझौता है
दर्द खुशी
प्यार इजहार
क्या नहीं है
दिखाना बहुत
आसान होता है
इच्छा होनी चाहिये
कुछ ना कुछ
लिखा ही जाता है
अब चाय की वो दुकान
शायद यहाँ आ गयी है
हर एक पात्र
किसी ना किसी में
कहीं ना कहीं
नजर आता है
हर पात्र के पास
है कुछ ना कुछ
कहीं कम
कहीं कहीं तो बहुत कुछ
चाय तो अब
कभी नहीं दिखती
पर सूत्रधार
जरूर दिख जाता है
कहानी कविता
यात्रा घटना दुर्घटना
और पता नहीं क्या क्या
सब कुछ
ऐसे बटोर के ले आता है
जैसे महीन
झाड़ू से एक सुनार
अपने छटके हुऐ
सोने के चूरे को
जमा कर ले जाता है
एक बात को लिखना जहां
बहुत मुश्किल हो जाता है
धन्य हैं आप
कैसे इतना कुछ
आपसे इतनी
आसानी से हो जाता है
आप ही के
लिये हैं ये उदगार
मुझे पता है
आप को सब कुछ
यहां पता चल जाता है ।

गुरुवार, 14 नवंबर 2013

मत कह बैठना कहानी में आज मोड़ है आ रहा

मकड़ी के जाले में फंसी
फड़फड़ाती एक मक्खी
छिपकली के मुँह से
लटकता कॉकरोच
हिलते डुलते
कटे फटे केंचुऐ
खाने के लिये
लटके छिले हुऐ
सांप और मेंढक
गर्दन कटी
खून से सनी
तड़फती हुई मुर्गियाँ
भाले से गोदे जा रहे
सुअर के
चिल्लाने की आवाज
शमशान घाट से आ रही
मांस जलने की बदबू
और भी ऐसा बहुत कुछ
पढ़ लिया ना
अब दिमाग मत लगाना
ये मत सोचना शुरु हो जाना
लिखने वाला आगे
अब शायद है कुछ
नई कहाँनी सुनाने वाला
ऐसा कुछ कहीं नहीं है
सूंई से लेकर हाथी तक पर
बहुत कुछ जगह जगह
यहां है लिखा जा रहा
अपनी अपनी हैसियत से
गधे लोमड़ी पर भी
फिलम एक से एक
कोई है बनाये जा रहा
पढ़ना जो जैसा है चाहता
उसी तरह की गली में
है चक्कर लगा रहा
लेखन की मानसिक
स्थिति को कौन यहां
सही सही पहचान है पा रहा
कभी एक अच्छे दिन
दिखाई दी थी
सुंदर व्यक्तित्व
की मालकिन एक
चाँद से उतरते हुऐ
वही दिख रही थी
झाड़ू पर बैठ कर
चाँद पर उड़ती हुई
एक चुड़ैल जैसे
कुछ करतब करते हुऐ
मूड है बहुत खराब
'उलूक' का बेहिसाब
कुछ ऐसा वैसा ही
है आज जैसा लिखा हुआ
तुझे यहाँ नजर है आ रहा ।

बुधवार, 13 नवंबर 2013

विनती

खाली घूमने
आते हैं
ना आयें
कहीं और
चले जायें
टिप्पणी का
बाजार ना
ही बनायें
लिखा हुआ
पढ़े पूरा
समझ में
नहीं आये
तो लिखें
नहीं समझ पाये
हिम्मत करें
कहें कूड़ा है
जो लिखा है 

खुद कूड़ा
ना फैलायें
ना ही कोई
फैलानें पाये
इतना साहस
पैदा कर
सकते हैं
तो यहाँ आयें
जरूर आयें।

चारा लूटने पर तो नहीं बोला था कि घबराहट सी हो जाती है

बहुत बैचैनी है तुझे
कभी कभी समझ से
बाहर हो जाती है
अपनी अपनी सबकी
हैसियत होती है
दिखानी भी बहुत
जरूरी हो जाती है
जरूरत की
होती हैं चीजें
तभी उधार लेकर
भी खरीदी जाती हैं
कौन सा देना होता है
किसी को
एक साथ वापस
कुछ किश्तें ही तो
बांध दी जाती हैं
गर्व की बात हो जाये
कोई चीज
किसी के लिये
ऐसे वैसे ही बिना
जेब ढीली किये तो
नहीं हो जाती है
जब जा रही हो
बहुत ही दूर कहीं
पगड़ी देश की
क्या होना है
रास्ते में थोड़ा सा
सर से नीचे अगर
खिसक भी जाती है
लाख करोड़ की कई
थैलियां यूं ही इधर से
उधर हो जाती हैं
ध्यान भी
नहीं देता कोई
ऐसे समाचारों पर
जब रोज ही
आना इनका
आम सी बात
हो जाती है
महान है गाय
तक जहां की
करोड़ों की
घास खा जाती है
तीसरी कक्षा
तक पहुंचने
के बाद ही तो
लड़खड़ाया है
वो भी थोड़ा सा
की खबर
देश की धड़कन को
अगर कुछ बढ़ाती है
तेरा कौन सा क्या
चला जाने वाला है
इस पर
यही बात मेरे
बिल्कुल भी
समझ में
नहीं आती है ।

मंगलवार, 12 नवंबर 2013

चेहरे को खुद ही बदलना आखिर क्यों नहीं आ पाता है

घर के चेहरे
की बात करना 
फालतू
हो जाता है
रोज देखने की
आदत जो
पड़ जाती है
याद जैसा
कुछ कुछ
हो ही जाता है
किस समय
बदला हुआ है
थोड़ा सा भी
साफ नजर में
आ जाता है
मोहल्ले से
होते हुऐ
एक चेहरा
शहर की
ओर चला
जाता है
भीड़ के
चेहरों में
कहीं जा
कर खो
भी अगर
जाता है
फिर भी
कभी दिख
जाये कहीं
जोर डालने
से याद
आ जाता है
चेहरे भी
चेहरे
दर चेहरे
होते हुऐ
कहीं से
कहीं तक
चले जाते हैं

कुछ टी वी
कुछ अखबार
कुछ समाचार
हो जाते हैं
उम्र का
असर
भी हो
तब भी
कुछ कुछ
पहचान ही
लिये जाते हैं
समय के
साथ
कुछ चेहरे
बहुत कुछ
नया भी
करना
सीख ही
ले जाते हैं
पहचान
बनाने
के लिये
हर चौराहे
पर
चेहरा अपना
एक टांक
कर आते हैं
कुछ चेहरों
को
चेहरे बदलने
में महारथ
होती है
एक चेहरे
पर
कई कई
चेहरे
तक लगा
ले जाते हैं
'उलूक'
देखता है
रोज ऐसे
कई चेहरे
अपने
आस पास
सीखना
चाहता है
चेहरा
बदलना
कई बार
रोज
बदलता है
इसी क्रम में
घर के
साबुन
बार बार
रगड़ते
रगड़ते
भी कुछ
नहीं हो
पाता है

सालों साल
ढोना एक
ही चेहरे को
वाकई
कई बार
बहुत बहुत
मुश्किल सा
हो जाता है !

सोमवार, 11 नवंबर 2013

उलझन उलझी रहे अपने आप से तो आसानी हो जाती है

उलझाती है
इसीलिये तो
उलझन
कहलाती है
सुलझ गई
किसी तरह
किसी की तो
किसी और
के लिये यही
बात एक
उलझन
हो जाती है
अब उलझन का
क्या किया जाये
कुछ फितरत में
होता है किसी के
उलझना किसी से
कुछ के नहीं होती है
अगर कोई उलझन
पैदा कर दी जाती हैं
उलझने एक नहीं कई
कहीं एक सवाल
से उलझन
कहीं एक बबाल
से उलझन
किसी के लिये
आँखें किसी की
हो जाती हैं उलझन
किसी के लिये
जुल्फें ही बन
जाती हैं उलझन
सुलझा हुआ
है कोई कहीं
तो आँखिर है कैसे
बिना यहां
किसी उलझन
उलझनों का ना होना
किसी के पास ही
एक आफत हो जाती है
अपनो को तक पसंद
नहीं आती है ये बात
इसीलिये पैर
उलझाये जाते है
किसी के किसी से
घर ही के अपने
बनाते हैं कुछ
ऐसी उलझन
सबकी होती है
और जरूर होती है
कुछ ना कुछ उलझन
अपनी अपनी अलग
तरह की उलझन
देश की उलझन
राज्य की उलझन
शहर की उलझन
मौहल्ले घर
गली की उलझन
उलझन होती है
होने से भी
 कुछ नहीं होता है
वो अपनी जगह
अपना काम करती है
उलझाने का
पर उलझने को कौन
कहाँ तैयार होता है
अपनी उलझन से
उसे तो किसी
और की उलझन
से प्यार होता है
सारी जिंदगी
उलझने यूं ही
उलझने रह जाती हैं
सबकी अपनी
अपनी होती हैं
कहाँ फंसा पाती हैं
अपनी जुल्फों को
देखने के लिये
आईना जरूरी होता है
सामने वाले की जुल्फ
साफ नजर आती है
आसानी से
सुलझाई जाती हैं
अपनी उलझन
अपने में ही
उलझी रह जाती है ।

रविवार, 10 नवंबर 2013

सोच तो होती ही है सोच

अपनी अपनी
होती है सोच

सुबह होते
अंगडाई सी
लेती है सोच

सुबह की
चाय के कप
से निकलती
भाप होती
है सोच

दूध की
दुकान की
लाईन में
हो रही
भगदड़
से उलझ रही
होती है सोच

दैनिक
समाचार
पत्रों के प्रिय
हनुमानों की
हनुमान
चालीसा
पढ़ रही
होती
है सोच

काम पर
जाने के
उतावले पन
में कहीं
खो रही
होती है सोच

दिन
होते होते
पता नहीं क्यों
बावली हो रही
होती है सोच

कहां कहां
भटक रही
होती है
बताने
की बात
जैसी नहीं हो
रही होती है सोच

शाम
होते होते
जैसे कहीं
कुछ खुश
कहीं
कुछ उदास
कहीं
कुछ थकी
कहीं
कुछ निराश
हो रही
होती है सोच

जब घर
को वापस सी
लौट रही
होती है सोच

रात
होते होते
ये भी होता है
जैसे किसी की
किसी से
घबरा रही
होती है सोच

कौन
बताता है
अगर बौरा रही
होती है सोच

सुकून
का पल
बस वही होता है

जब यूं ही
उंघते उंघते
सो जा रही
होती है सोच

पता किसे
कहाँ होता है
सपनों में क्या
आज की रात
दिखा रही है सोच

मुझे
अपनी समझ
में कभी भी
नहीं आती

क्या
तुझे समझ
में कुछ आ
रही है सोच ।

शनिवार, 9 नवंबर 2013

कई बार होता है लम्हे का पता लम्हे को नहीं होता है

कुछ तो जरूर होता है
हर किसी के साथ
अलग अलग सा
कितने भी अजीज
और कितने भी पास हों
जरूरी नहीं होता है
एक लम्हे का
हो जाना वही
जैसा सोच में हो
एक लम्हे को
होना ही होता है
किसी लिये कुछ
और किसी के लिये
कुछ और ही
अपने खुश लम्हे
को उसके उदास
लम्हे में बदल लेना
ना इसके हाथ
में होता है
ना ही उसके
हाथ में होता है
कहते हैं आत्मा में
हर एक के
भगवान होता है
और जब इसके हाथ में
उसका हाथ होता है
एक दूसरे के बहुत ही
पास में होता है
लम्हा एक होता है
इसके लिये भी
और उसके लिये भी
बस इसका लम्हा
उसके लम्हे के पास
कहीं नहीं होता है
ना इसे पता होता है
ना उसे पता होता है
एक लम्हे को अपने
से ही कैसा ये
विरोधाभास होता है ।

शुक्रवार, 8 नवंबर 2013

फसल तो होती है किसान ध्यान दे जरूरी नहीं होता है

ना कहीं खेत होता है
ना ही कहीं रेत होती है
ना किसी तरह की खाद की
और ना ही पानी की कभी
कहीं जरूरत होती है
फिर भी कुछ ना कुछ
उगता रहता है
हर किसी के पास
हर क्षण हर पल
अलग अलग तरह से
कहीं सब्जी तो कहीं फल
किसी को काटनी
आती है फसल
किसी को आती है
पसंद बस घास उगानी
काम फसल भी आती है
और उतना ही घास भी
शब्दों को बोना हर किसी के
बस का नहीं होता है
इसके बावजूद कुछ ना कुछ
उगता चला जाता है
काटना आता है जिसे
काट ले जाता है
नहीं काट पाये कोई
तब भी कुछ नहीं होता है
अब कैसे कहा जाये
हर तरह का पागलपन
हर किसे के बस
का नहीं होता है
कुकुरमुत्ते भी तो
उगाये नहीं जाते हैं
उग आते हैं अपने आप
कब कहाँ उग जायें
किसी को भी
पता नहीं होता है
पर कुछ कुकुरमुत्ते
मशरूम हो जाते हैं
सोच समझ कर अगर
कहीं कोई बो लेता है
रेगिस्तान हो सकता है
कैक्टस दिख सकता है
कोई लम्हा कहा जा सके
कहीं एक बंजर होता है
बस शायद ऐसा ही
कहीं नहीं होता है ।

गुरुवार, 7 नवंबर 2013

पता कहाँ होता है किसे कौन कहाँ पढ़ता है

साफ सुथरी
सफेद एक
दीवार के
सामने
खड़े होकर
बड़बड़ाते हुऐ
कुछ कह
ले जाना
जहाँ पर
महसूस
ही नहीं
होता हो
किसी
का भी
आना जाना
उसी तरह
जैसे हो एक
सफेद बोर्ड
खुद के पढ़ने
पढ़ाने के लिये
उस पर
सफेद चॉक से
कभी कुछ
कभी सबकुछ
लिख ले जाना
फर्क किसे
कितना
पड़ता है
लिखने वाला
भी शायद ही
कभी इस
पर कोई
गणित 
करता है
भरे दिमाग
के कूड़े के
बोझ को
वो उस
तरह से
तो ये
इस तरह
से कम
करता है
हर अकेला
अपने आप
से किसी
ना किसी
तरीके से
बात जरूर
करता है
कभी समझ
में आ
जाती हैं
कई बातें
इसी तरह
कभी बिना
समझे भी
आना और
जाना पड़ता है
दीवार को
शायद पड़
जाती है
उसकी आदत
जो हमेशा
उसके सामने
खड़े होकर
खुद से
लड़ता है
एक सुखद
आश्चर्य से
थोड़ी सी झेंप
के साथ
मुस्कुराना
बस उस
समय पड़ता है
पता चलता है
अचानक
जब कभी
दीवार के
पीछे से
आकर
तो कोई
हमेशा ही
खड़ा हुआ
करता है ।

बुधवार, 6 नवंबर 2013

तुझे पता है ना तेरे घर में क्या चल रहा है !

वो जब भी
मिलता है
बस ये
पूछ लेता है
कैसा
चल रहा है
वैसा ही है या
कहीं कुछ
बदल रहा है
हर बार मेरा
उत्तर होता है
भाई ठीक
कुछ भी तो
नहीं चल रहा है
वैसा अब
यहाँ पर तो
कहीं नहीं
दिख रहा है
उसका
वैसे से क्या
मतलब होता
आया है
मैं आज
तक नहीं
समझ
पाया हूँ
उसके यहाँ
ऐसा लगता
रहा है हमेशा
कुछ स्पेशियल
ही हमेशा
चल रहा है
हम दोनो
जब साथ
साथ थे तो
हमने एक
दूसरे से कभी
नहीं पूछा
कैसा चल
रहा है
लगता था
मुझे पता
है जो कुछ
इसको भी
पता होगा
जो चल
रहा है
वो बैठा है
या कहीं
उछल रहा है
अब मैं
यहाँ हूँ
और वो
कहीं और
चल रहा है
उसके यहाँ
का ना मैंने
पूछा कभी
ना ही मुझे
कुछ कहीं से
कुछ पता
चल रहा है
और वो
हमेशा ही
मौका मिलते
ही पूछ लेता
है यूं ही
कैसा चल
रहा है
मुझे मेरे
देश से बहुत
प्यार है और
वो बहुत ही
सही चल
रहा है
लेकिन
क्या करूं
कहीं एक
पतला उछल
रहा है
कहीं दूसरा
मोटा उछल
रहा है
दोनो के
बीच में
कहीं पिस
ना जाये मेरा
हिन्दुस्तान
सोच सोच
कर मेरा
दिल उछल
रहा है
वो सब कृपया
ध्यान ना दें
जिनके यहाँ
सब कुछ
हमेशा ठीक
चलता है
और अभी
भी सब कुछ
ठीक चल
रहा है ।

मंगलवार, 5 नवंबर 2013

उस पर क्यों लिखवा रहा है जो हर गली कूंचे पर पहुंच जा रहा है

लिख तो
सकता हूँ
बहुत कुछ
उस पर
पर नहीं
लिखूंगा
लिख कर
वैसे भी
कुछ नहीं
होना है
इसलिये
मुझ से
उस पर
कुछ लिखने
के लिये
तुझे कुछ
भी नहीं
कहना है
सबके अपने
अपने फितूर
होते हैं
मेरा भी है
सब पर कुछ
लिख सकता हूँ
उसपर भी
बहुत कुछ
पर क्यों लिखूं
बिल्कुल
नहीं लिखूंगा
अब पूछो
क्यों नहीं
लिखोगे भाई
जब एक
पोस्टर जो
पूरे देश की
दीवार पर
लिखा जा
रहा है और
हर कोई
उसपर
कुछ ना कुछ
कहे जा रहा है
तो ऐसे पर
क्या कुछ
लिखना जिसे
देख सब रहे हैं
पर पढ़ कोई भी
नहीं पा रहा है
मेरा इशारा उसी
तरफ जा रहा है
जैसा तुझ से
सोचा जा रहा है
उसे देखते ही मुझे
अपने यहाँ का वो
याद आ रहा है
होना कुछ
नया नहीं है
पुराने पीतल
पर ही सोना
किया जा रहा है
कुछ दिन
जरूर चमकेगा
उसके बाद
सब वही
जो बहुत
पुराने से
आज के नये
इतिहास तक
हर पन्ने में
कहीं ना कहीं
नजर आ रहा है
गांधी की
मूर्तियों से
काम निकलना
बंद हो भी
गया तो परेशान
होने की कोई
जरूरत नहीं
उन सब को
कुछ दिन
के लिये
आराम दिया
जा रहा है
खाली जगह
को भरने
के लिये
सरदार पटेल
का नया
सिक्का
बाजार में
जल्दी ही
लाया जा
रहा है | 

सोमवार, 4 नवंबर 2013

लक्ष्मी को व्यस्त पाकर उलूक अपना गणित अलग लगा रहा था

निपट गयी जी
दीपावली की रात
पता अभी नहीं चला
वैसे कहां तक
पहुंची देवी लक्ष्मी
कहां रहे भगवन
नारायण कल रात
किसी ने भी नहीं करी
अंधकार प्रिय
उनके सारथी
उलूक की
कोई बात
बेवकूफ हमेशा
उल्टी ही
दिशा में
चला जाता है
जिस पर कोई
ध्यान नहीं देता
ऐसा ही कुछ
जान बूझ कर
पता नहीं
कहां कहां से
उठा कर
ले आता है
दीपावली की
रात में जहां
हर कोई दीपक
जला रहा था
रोशनी चारों तरफ
फैला रहा था
अजीब बात
नहीं है क्या
अगर उसको
अंधेरा बहुत
याद आ रहा था
अपने छोटे
से दिमाग में
आती हुई एक
छोटी सी बात
पर खुद ही
मुस्कुरा रहा था
जब उसकी समझ
में आ रहा था
तेज रोशनी
तेज आवाजें
साल के
दो तीन दिन
हर साल
आदमी कर
उसे त्योहार
का एक नाम
दे जा रहा था
इतनी चकाचौंध
और इतनी
आवाजों के बाद
वैसे भी कौन
देख सुन पाने की
सोच पा रहा था
अंधा खुद को
बनाने के बाद
इसीलिये तो
सालभर
अपने चारों
तरफ अंधेरा
ही तो फैला
पा रहा था
उलूक कल
भी खुश नहीं
हो पा रहा था
आज भी उसी
तरह उदास
नजर आ रहा था
अंधेरे का त्योहार
होता शायद
ज्यादा सफल
उसे कभी कोई
क्यों नहीं
मना रहा था
अंधेरा पसंद
उलूक बस
इसी बात को
नहीं पचा
पा रहा था । 

रविवार, 3 नवंबर 2013

एक बच्चे ने कहा ताऊ मोबाइल पर नहीं कुछ लिखा

अपने पास है नहीं
भाई ऐसी चीज पर
लिखने को
कह जाता है
अभी तक पता नहीं
हाथ ही में क्यों है
दिमाग के अंदर ही
क्यों नहीं फिट कर
दिया जाता है
मर जायेगा
अगर नहीं पायेगा
हर कोई ऐसा जैसा
ही दिखाता है
छात्र छात्राओं की
कापी पैन और
किताब हो जाता है
पंडित मंत्र
पढ़ते पढ़ते
स्वाहा करना ही
भूल जाता है
पढ़ाना शुरु बाद
में होता है शिक्षक
कक्षा के बाहर
पहले चला जाता है
लौट कर आने
तक समय ही
समाप्त हो जाता है
मरीज की सांस
गले में अटकाता है
चिकित्सक आपरेशन के
बीच में बोलना जब
शुरु हो जाता है
बड़ी बड़ी मीटिंग होती है
कौन कितना बड़ा आदमी है
घंटी की आवाज से ही
पता चल जाता है
टैक्सी ड्राइवर मोड़ों पर
दिल जोर से धड़काता है
आफिस के मातहत को
साहब का नंबर साफ
बिना चश्में के दिख जाता है ‌‌
जवाब नहीं देना चाहता है
जेब में होता है पर
घर छोड़ के आया है
कह कर चला जाता है
कामवाली बाई से
बिना बात किये
नहीं रहा जाता है
बर्तनो में बचा साबुन
खाने को जैसे
मुंह के अंदर ही
धोना चाहता है
सड़क पर चलता
आदमी एक सिनेमाघर
अपना खुद हो जाता है
सब की बन रही होती है
अपनी ही फिल्म
दूसरे की कोई नहीं
देखना चाहता है
बहुत काम की चीज है
सब की एक
राय बनाता है
होना अलग बात है
नहीं होना
ज्यादा फायदेमंद
बस एक गधे को
ही नजर आता है
धोबी के पास होने
पर भी वो बहुत
खिसियाता है
गधा खुश हो कर
बहुत मुस्कुराता है
धोबी ढूँढ रहा था
बहुत ही बेकरारी से
जब कोई आकर
उसे बताता है
इससे भी लम्बी
कहानी हो सकती है
अगर कोई
मोबाइल पर
कुछ और भी
लिखना चाहता है ।

शनिवार, 2 नवंबर 2013

कुछ भी कभी भी कहीं भी प्रेरणा दे जाता है

कमप्यूटर स्क्रीन पर ब्लिंक
करता हुआ कर्सर
दिल की धड़कन के साथ
आत्मसात हो जाता है
पता चलता है ये
जब कभी अचानक
महसूस होने लग जाता है
जैसे शब्द खुद वही
गड़ता चला जाता है
टंकित हाथ की अंगुलियों
से उसे करवाता है
हौले से कुछ दिल और
दिमाग पर छा जाता है
दिखता है सामने से
लिखता हुआ जैसे
कलम की एक
नोक हो जाता है
लिखने वाला जैसे
उसके इशारे का बस
गुलाम हो जाता है
कमप्यूटर में सामने से
खुले एक पन्ने पर
झपझपाता हुआ
कर्सर दिल
अजीज हो जाता है
स्वागत करता है
खुले हुऐ पन्ने में
सबसे पहले मिलने
को चला आता है
बात शुरु
भी करता है
लिखनेवाला
थक जाता है
और वो एक बात
के पूरी होते ही
उतनी ही उर्जा के
साथ फिर से
झपझपाना
शुरु हो जाता है
कुछ और कहो ना
जैसे कहना चाहता है ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...