चिट्ठा अनुसरणकर्ता

शनिवार, 13 जुलाई 2019

एक भीड़ को देखते देखते भीड़ में शामिल हो लेने का खामियाजा भुगतना ही पड़ता है मुस्कुराना ठीक है रोने ले से भी वैसे कुछ नया होना भी नहीं है


लिखना लिखाना
ठीक है

सब लिखते हैं

लिखना भी
जरूरी है

सही है

गलत
कुछ कहीं

वैसे भी

होता ही नहीं है

वहम है

है कह लेने में

कोई बेशर्मी
भी नहीं है

कुछ
लेखक होते हैं
पैदायशी होते हैं

बुरा भी नहीं है

कुछ
लेखक पैदा
नहीं होते है

माहौल
बना देता है

क्या किया
जा सकता है

कहना
नहीं चाहिये

कहना भी नहीं है

परेशानी

बकवास
करने वाले
के लिये है

बकबक
लिख लिखा कर

लेखकों की
भीड़ के बीच में

खो जाना

बहुत
बुरी बात है

समझ में
आने के दिन
आ जाने चाहिये

कई
सालों तक

इस तरह
भटकना

ठीक
भी नहीं है

गालियाँ
पड़ती हैं

अच्छा है

पड़नी भी
जरूरी हैं

किसने
कहा होता है

औकात
के बाहर
निकल कर
समझाना

बेबात में बात को

हर किसी की
समझ की

सीमा है

समझाने वाला
बेसमझ
नहीं है

किससे
पूछा जाये

समझने
समझाने की

किताबें
भी नहीं हैं

‘उलूक’

बकवास
करने में

बुराई
कुछ नहीं है

बकवास कर
लिख लिखा
देने से अच्छा

कुछ नहीं है

लिखा लिखाया
देख कर

किताब
हो जाने का
वहम हो जाये

बुरी बात है

इससे
निकल जाना

सबसे
अच्छी बात है

सालों
लग भी गये

कोई
नयी बात
भी नहीं है

देर आयद दुरुस्त आयद

सटीक मुहावरा है

वहम
टूटने
के लिये
 ही होते हैं

टूट जाये
अच्छा है

बने रहना
बस
इसी एक का

अच्छा नहीं है

और

बिल्कुल
भी नहीं है ।

चित्र साभार:
https://in.one.un.org

9 टिप्‍पणियां:

  1. आपका लिखा देख कर श्री नरेन्द्र मोहन की लिखाई याद आती है । बड़े सारे साल पहले उनकी लिखी कविताओं को पढ़ के मेरे अंदर लिखने का कीड़ा जाएगा था ☺️

    उत्तर देंहटाएं
  2. सार..
    देर आयद दुरुस्त आयद

    सटीक मुहावरा है

    वहम
    टूटने
    के लिये
    ही होते हैं

    टूट जाये
    अच्छा है

    बने रहना
    बस
    इसी एक का

    अच्छा नहीं है
    सादर नमन..

    उत्तर देंहटाएं
  3. नमस्कार !
    आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" 15 जुलाई 2019 को साझा की गई है......... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (15-07-2019) को "कुछ नया होना भी नहीं है" (चर्चा अंक- 3397) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  5. निराला है आपका अंदाज..
    कुछ समझ में
    आता है
    कुछ नहीं आता
    फिर भी पढ़ लिया जाता है..

    उत्तर देंहटाएं
  6. समझ की हर किसी की सीमा है ... यही तो समझना मुश्किल है ...
    अच्छा व्यंग ...

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...