उलूक टाइम्स: सितंबर 2018

शनिवार, 29 सितंबर 2018

निशान किये कराये के कहीं दिखाये नहीं जाते हैं

शेर
होते नहीं हैं
शायर
समझ नहीं पाते हैं

कुछ इशारे
गूँगों के समझ में
नहीं आते हैं

नदी
होते नहीं हैं
समुन्दर
पहुँच नहीं पाते हैं

कुछ घड़े
लबालब भरे
प्यास नहीं बुझाते हैं

पढ़े
होते नहीं हैं
पंडित
नहीं कहलाते हैं

कुछ
गधे तगड़े
धोबी के
हाथ नहीं आते हैं

अंधे
होते नहीं हैं
सच
देखने नहीं जाते हैं

कुछ
आँख वाले
रोशनी में
चल नहीं पाते हैं

अर्थ
होते नहीं हैं
मतलब
निकल नहीं पाते हैं

कुछ भी
लिखने वाले को
पढ़ने नहीं जाते हैं

काम
करते नहीं हैं
हरामखोर
बताये नहीं जाते हैं

कुछ
शरीफों के
समाचार
बनाये नहीं जाते हैं

लिखते
कुछ नहीं हैं
पढ़ने
नहीं जाते हैं

करते
चले चलते हैं
बहुत कुछ

‘उलूक’
निशान
किये कराये के
दिखाये नहीं जाते हैं ।

चित्र साभार: www.fotolia.com

सोमवार, 24 सितंबर 2018

बेकार की ताकत फालतू में लगाकर रोने के लिये यहाँ ना आयें

पता नहीं
ये मौके
फिर

कभी और
हाथ में आयें

चलो
कुछ भटके
हुओं को

कुछ और
भटकायें

कुछ
शरीफ से
इतिहास

पन्नों में
लिख कर लायें

बेशरम सी
पुरानी
किताबों को

गंगा में
धो कर के आयेंं

करना कराना
बदसूरत सा
अपना ना बतायें

खूबसूरत तस्वीरें
लाकर गलियों
में फेंक आयें

अच्छा लिखा
अच्छे आदमी
अच्छी
महफिल सजायें

तस्वीरें
झूठी समय की

समय की
नावों में रख
कर के तैरायें

अपने थाने
अपने थानेदार

अपने गुनाह
सब भुनायें

कल बदलती
है तस्वीर

थोड़ा उधर
को चले जायें

मुखौटे ओढ़ें नहीं
बस मुखौटे
ही खुद हो जायें

आधार पर
आधार चढ़ा कर
आधार हो जायें

मौज में
लिखे को
समझने के
लिये ना आयें

सारी बातें
सीधे सीधे
लिखकर
बतायें

‘उलूक’
जैसों की
बकबक को
किनारे लगायें

सच
का मातम
मनाना भी
किसलिये

खुश होकर
मिलकर
झूठ का
झंडा फहरायें ।

चित्र साभार: https://www.colourbox.com/

रविवार, 23 सितंबर 2018

श्रद्धांजलि डाo शमशेर सिंह बिष्ट

1947- 22/09/2018

शब्द
नहीं होते हैं

सब कुछ
बताने के लिये
किसी के बारे में

थोड़ा
कम पड़ जाते हैं

थोड़े से
कुछ लोग

भीड़ में
होते हुऐ भी
भीड़
नहीं हो जाते हैं

समुन्दर के
पानी में
मिल चुकी

बूँद
होने के
बावजूद भी

दूर से
पहचाने जाते हैं

जिंदगी भर
जन सरोकारों
के लिये

संघर्ष करने
वालों के चेहरे ही

कुछ
अलग हो जाते हैं

अपने
मतलब के लिये
भीड़ खरीद/
बेच/ जुटा कर

कहीं से कहीं
पहुँच जाने वाले
नहीं पा सकते हैं

वो मुकाम

जो

कुछ लोग
अपनी सोच
अपने सत्कर्मों से
अपनी बीनाई
से पा जाते हैं

एक
शख्सियत

यूँ ही नहीं
खींचती है
किसी को
किसी
की तरफ

थोड़े से
लोग ही
होते हैं
कुछ अलग

बस
अपने लिये

नहीं जीने
वाले
ऐसे ही लोग

जब
महफिल से
अचानक

उठ कर
चले जाते हैं

सरकारी
अखबार
वालों को भी

कुछ
लिखने लिखाने
की याद
दिला कर जाते हैं

बहुत कमी
खलेगी आपकी

'डा0 शमशेर सिंह बिष्ट' 

कुछ
सरोकार
रखने वालों
को हमेशा

अल्विदा नमन
विनम्र श्रद्धांजलि

‘उलूक’
कुछ लोग
बना ही
जाते हैं
कुछ रास्ते
अलग से

जिसपर
सोचने वाले
सरोकारी

हमेशा ही

आने वाले
समय में

आते हैं
और जाते हैं । 


गुरुवार, 20 सितंबर 2018

चूहों से बचाने के लिये बहुत कुछ को थोड़े कुछ को कुछ चूहों पर दाँव पर लगाना ही होता है

होता है

निगाहें
कहीं और

को लगी होती हैं

और
निशाना

कहीं और को
लगा होता है

इस
सब के लिये

आँखों का
सेढ़ा होना

जरूरी
नहीं होता है


ये भी होता है

बकवास को
पढ़ना नहीं होता है

बढ़ती
आवत जावत
की घड़ी की सूईं
पढ़ने पढ़ाने का
पैमाना नहीं होता है

ये मजबूरी होता है

हरी भरी
कविताओं से भरी
क्यारियों के बीच में
पनपती हुयी भुर भुरी
खरपतवार को
उखाड़ने के लिये
ध्यान देना
बहुत जरूरी होता है

इसे होना होता है

देर रात
सड़क पर
दल बल सहित
निकले पहरेदार को

सायरन
बजाना ही होता है

किनारे हो लो
जहाँ भी 
हो

सेंध में लगे 
चोर भाईयों को
सन्देश दूर से
पहुँचाना होता है

ये जरूरी होता है

ज्यादा चूहों से
अनाज को
बचाने के लिये
दिमाग
लगाना होता है

कुछ चूहों की
एक समीति बनाकर

सारे अनाज को
उनकी देखरेख में
थोड़ा थोड़ा कर
कुतरवाना होता है

इसका
कुछ नहीं होता है

गाय की तरह
बातों की घास को
दिनभर निगल कर

‘उलूक’ ने
रातभर
जुगाली
करने में
बिताना ही
होता है।

चित्र साभार:
https://www.deviantart.com

मंगलवार, 18 सितंबर 2018

तू समझ तू मत समझ राम समझ रहे हैं उनकी किसलिये और क्यों अब कहीं भी नहीं चल पा री

मानना
तो
पड़ेगा ही
इसको

उसको
ही नहीं

पूरे
विश्व को

तुझे
किसलिये
परेशानी
हो जा री

टापू से
दूरबीन
पकड़े
कहीं दूर
आसमान में
देखते हुऐ
एक गुरु को

और
बाढ़ में
बह रहे
मुस्कुराते हुऐ
उस गुरु के
शिष्य को

जब
शरम नहीं
थोड़ा सा
भी आ री

एक
बुद्धिजीवी
के भी
समझ में
नहीं आती हैंं
बातें
बहुत सारी

उसे ही
क्यों
सोचना है
उसे ही
क्यों
देखना है
और
उसे ही
क्यों
समझना है

उस
बात को
जिसको

उसके
आसपास
हो रहे पर

जब
सारी जनता
कुछ भी
नहीं कहने को

कहीं भी
नहीं जा री

चिढ़ क्यों
लग रही है
अगर
कह दिया

समझ में
आता है
डी ए की
किश्त इस बार

क्यों और
किसलिये
इतनी
देर में आ री

समझ तो
मैं भी रहा हूँ

बस
कह कुछ
नहीं रहा हूँ

तू भी
मत कह

तेरे कहने
करने से

मेरी तस्वीर
समाज में
ठीक नहीं
जा पा री

कहना
पड़ता है
तेरी
कही बातें
इसीलिये
मेरी समझ
में कभी भी
नहीं आ री

‘उलूक’
बेवकूफ

उजड़ने के
कगार पर
किसलिये

और
क्यों बैठ
जाता होगा
किसी शाख
पर जाकर
गुलिस्ताँ के

जहाँ बैठे
सारे उल्लुओं
के लिये

एक आदमी
की सवारी
राम जी की
सवारी हो जा री ।

चित्र साभार: https://store.skeeta.biz

शुक्रवार, 14 सितंबर 2018

कितनी छलक गयी कितनी जमा हुई बूँदें बारिश की कुछ गिनी गयी कुछ गिनते गिनते भी यूँ ही कहीं और ही रह गयी

कितनी

शरमा
शरमी से
यहाँ तक
पहुँच ही गयी

कितनी

बेशरमी से
कहीं बीच में
ही छूट गयी

कुछ

कबाड़ सी
महसूस हुयी

फाड़ कर
बेखुदी में
फेंक भी
दी गयी

कुछ

पहाड़ सी
कही
जानी ही थी

बहुत

भारी हो गयी
कही ही नहीं गयी

कुछ

आधी अधूरी सी
रोज की आवारा
जिन्दगी सी

पिये
खायी हुयी सी
किसी कोने में
उनींदी हो
लुढ़क ही गयी

खुले
पन्ने में
सामने से
फिलम की
खाली एक रील

एक नहीं

कई बार
खाली खाली ही
खाली चलती
ही चली गयी

कहाँ

जरूरी है
सब कुछ
वही कहना

जो दिखे

बाहर बाजार
में बिकता हुआ
रोज का रोज
‘उलूक’

किसी दिन

आँखें बन्द
कर के
झाँक भी
लिया कर

अपनी ही

बन्द
खिड़कियों
की दरारों के पार

कभी

छिर के गयी
थोड़ी सी रोशनी

अभी तक
बची भी है

या

यूँ ही

देखी
अनदेखी में
बुझ भी गयी।

चित्र साभार: https://wewanttolearn.wordpress.com

बुधवार, 12 सितंबर 2018

'उलूक’ तख़ल्लुस है



साहित्यकार कथाकार कवि मित्र 
फरमाते हैं 

भाई 
क्या लिखते हो 
क्या कहना चाहते हो 
समझ में ही नहीं आता है 

कई बार तो 
पूरा का पूरा 
सर के ऊपर से 
हवा सा निकल जाता है 

और 
दूसरी बला 
ये ‘उलूक’ लगती है 
बहुत बार नजर आता है 

है क्या 
ये ही पता नहीं चल पाता है 

हजूर 

साहित्यकार अगर 
बकवास समझना शुरु हो जायेगा 
तो उसके पास फिर क्या कुछ रह जायेगा 

‘उलूक’ तखल्लुस है 
कई बार बताया गया है 
नजरे इनायत होंगी आपकी 
तो समझ में आपके जरूर आ जायेगा 

इस ‘उलूक’ के भी 
बहुत कुछ समझ में नहीं आता है 

किताब में 
कुछ लिखता है लिखने वाला 
पढ़ाने वही कुछ और 
और समझाने 
कुछ और ही चला आता है 

इस 
उल्लू के पट्ठे के दिमाग में 
गोबर भी नहीं है लगता है 

हवा में 
लिखा लिखाया 
कहाँ कभी टिक पाता है 

देखता है 
सामने सामने से होता हुआ 
कुछ ऊटपटाँग सा 

अखबार में 
उस कुछ को ही 
कोई
आसपास 
का सम्मानित
ही 
भुनाता हुआ नजर आता है 

ऐसा बहुत कुछ 
जो समझ में नहीं आता है 

उसे ही 
इस सफेद श्यामपट पर 
कुछ अपनी 
उलझी हुई लकीर जैसा बना कर 
रख कर चला जाता है 

हजूर

आपका 
कोई दोष नहीं है 

सामने से 
फैला गया हो 
कोई दूध या दही 

किसी को 
शुभ संदेश 
और किसी को 
अपशकुन नजर आता है 

आँखें 
सबकी एक सी 
देखना सबका एक सा 

बस
यही 
अन्तर होता है 

कौन
क्या चीज 
क्यों और किस तरह से देखना चाहता है 

‘उलूक’ ने 
लिखना है लिखता रहेगा 
जिसे करना है करता रहेगा 

इस देश में 
किसी के बाप का कुछ नहीं जाता है 

होनी है जो होती है 
उसे अपने अपने पैमाने से नाप लिया जाता है 

जो जिसे 
समझना होता है 
वो कहीं नहीं भी लिखा हो 
तब भी समझ में आ जाता है

'उलूक’
तख़ल्लुस  है 

कवि नहीं है 
कविता लिखने नहीं आता है 

जो उसे 
समझ में नहीं आता है 
बस उसे
बेसुरा गाना शुरु हो जाता है 
। 

चित्र साभार: www.deviantart.com

रविवार, 9 सितंबर 2018

कबूतर का जोड़ा कबूतर पकड़ना कबूतर उड़ाना सिखाने को फिर से सुना है नजर आना शुरु हो जायेगा

चल
फिर से ढूँढें
नयी
कुछ किताबें

पढ़ना पढ़ाना
लिखना लिखाना
पुराना हो चुका

सुना है
आगे से अब
नहीं काम आयेगा

किसका लिखा है
कब का लिखा है
किसका पढ़ाया है
किसने पढ़ा है

लिखकर बताना
बस कुछ ही दिनों में
जरूरी हो जायेगा

लिखने
लिखाने की
पढ़ने पढ़ाने की

सीखने
सिखाने की
दुकानों के
इश्तिहारों में

फिर से
जोड़ा एक
कबूतर का
साथ नजर आयेगा

लड़ने लड़ाने को
भिड़ने भिड़ाने को
जीतने हराने को

सारे के सारे
सोये कबूतरों को

कबूतर
पकड़ने वाले
जाबाँज बाज बनायेगा

लिखते लिखाते
पढ़ते पढ़ाते
किसी एक दिन

‘उलूक’
भी
संगत में
कबूतरों की

कबूतरबाजी
थोड़ा बहुत तो
सीख ही ले जायेगा


स्याही एक रंगीन
एक झंडे के रंग की
रंगीन एक कलम में

सालों से भरना
कभी ना कभी
किसी का किसी के
तो जरूर काम आयेगा।

चित्र साभार: http://joyreactor.cc

शुक्रवार, 7 सितंबर 2018

चिट्ठागिरी करने का भी उसूल होता है लिखना लिखाना कहाँ बेफजूल होता है

अपनी
आँखों
से देखता है

कुछ भी
समझ
लेता है

और भी
होती हैं
आंखें

देखती हुई
आसपास में

उन
आँखों में
पहले क्यों नहीं
देख लेता है

किसी को
कुछ भी
समझ में
नहीं आया
हर कोई
कह देता है

तेरे देखे हुऐ में
उनका देखा हुआ
कभी भी
कुछ कहाँ होता है

सब की समझ में
सब की कहीं बातें
आती भी नहीं हैं

बेवकूफ
बक देता है
कुछ भी कहीं भी

फिर
सोचता भी है
उसके बाद
क्यों पास
नहीं होता है

ये
लिखना भी
अजब होता है

लिखने
के बाद भी
बहुत कुछ होता है

टाँग देता है
कोई और
कहीं ले जा कर
लिखा हुआ

बस
उसे पढ़ने वाला
कहीं और को
गया होता है

टिप्पणी
देने और
टिप्पणी लेने
का भी कुछ
उसूल होता है

इतना
आसान नहीं है
समझ लेना
इस बात को

इस खेल को
समझने के लिये
लगातार कई साल
खेलना होता है

पता नहीं
कितनी विधायें हैं
समाहित
लिखने लिखाने में

बकवास
को विधा
बता देने वाला
खुद एक
बहुत बड़ा
बेवकूफ होता है

लिखना
सब को आता है
सब लिखते हैं
जो कुछ भी होता है

तेरा
लिखा हुआ जैसा
और किसी के
लिखे में
कहीं भी
क्यों नहीं होता है

‘उलूक’
करता चला है
बकवास
कई सालों से

एकसी
दो बकवास
कभी
कर भी दी गयी हों
हजारों बकवासों में

कौन सा
किसने
कहीं जा कर
इसे संगीत
देना होता है

कौन सा
किसी ने
इसे गा भी
देना होता है।


चित्र साभार: http://clipartstockphotos.com

बुधवार, 5 सितंबर 2018

लिखना जरूरी हो जा रहा होता है जब किसी के गुड़ रह जाने और किसी के शक्कर हो जाने का जमाना याद आ रहा होता है

नमन
उन सीढ़ियों को
जिस पर चढ़ कर
बहुत ऊपर तक
कहीं पहुँच लिया
जा रहा होता है

नमन
उन कन्धों को
जिन को
सीढ़ियों को
टिकाने के लिये
प्रयोग किया
जा रहा होता है

नमन
उन बन्दरों को
जिन्हेंं हनुमान
बना कर
एक राम
सिपाही की तरह
मोर्चे पर
लगा रहा होता है

नमन
उस सोच को
जो गाँधी के
तीन बन्दरों
के जैसा

एक में ही
बना ले जा
रहा होता है

नमन
और भी हैं
बहुत सारे हैं
करने हैं

आज ही
के शुभ दिन
हर साल की तरह

जब
अपना अपना सा
लगता दिन
बुला रहा होता है

कैसे करेगा
कितने करेगा
नमन ‘उलूक’

ऊपर
चढ़ गया
चढ़ जाने के बाद
कभी नीचे को
उतरता हुआ
नजर ही नहीं
आ रहा होता है

गुरु
मिस्टर इण्डिया
बन कर ऊपर
कहीं गुड़
खा रहा होता है

चेलों
का रेला

वहीं
सीढ़ियाँ पकड़े
नीचे से

शक्कर
हो जाने के
ख्वाबों के बीच

कहीं
सीटियाँ बजा
रहा होता है।

चित्र साभार: www.123rf.com

सोमवार, 3 सितंबर 2018

कुछ बरसें कुछ बरसात करें बात सुनें और बात सुनायें बातों की बस बात करें

किसी को
लग पड़ कर
कहीं पहुचाने
की बात करें

रास्ते
काम चलाऊ
उबड़ खाबड़
बनाने की
बात करें

कौन सा
किसी को
कभी कहीं
पहुँचना होता है

पुराने
रास्तों के
बने निशान
मिटाने की
बात करें

बात
करने में
संकोच
भी नहीं
करना होता है

पुरानी
किसी
बात को
नयी बात
पहनाने की
बात करें

बात है
कि छुपती
ही नहीं है
दूर तक
चली जाती है

बेशरम
बात को कुछ
शरम सिखाने
की बात करें

खुद के
धंधों में

कुछ
बेवकूफ होते हैं
लगे ही रहते हैं

किसी और
के धंधे को
अपनी दुकान
से पनपाने
की बात करें

अपने घर के
अपने बच्चे
खुद ही बहुत
समझदार होते हैं

दूसरों के
बच्चों को
अपनी
बात से
चलाने की
बात करें

बातों का
सिलसिला है
सदियों से
इसी तरह
चलता है

कुछ बात की
बरसात करें
कुछ बरसात
की बात करें

‘उलूक’
देर रात गये
बैठ कर
उजाले की
बात लिखता है

रहने भी दें
किसलिये
एक बेवकूफ
की गफलतों
की बात करें।

चित्र साभार: http://cliparting.com

शनिवार, 1 सितंबर 2018

देश बहुत बड़ी चीज है खुद के आस पास देख ‘कबूतर’ ‘साँप’ ही खुद एक ‘नेवला’ जहाँ पाल रहा होता है

लिखे लिखाये में
ना तेरे होता है
ना मेरे होता है

सब कुछ उतार
के खड़ा होने
वाले के सामने
कोई नहीं होता है

जिक्र जरूर होता है
डरे हुऐ इंसानो के बीच

 शैतान की बात ही
अलग होती है
वो सबसे अलग होता है

आदमी तो बस
किसी का
एक कुत्ता होता है
आप परेशान ना होवें
कुत्ता होने से पहले
आदमी होना होता है

कोई नहीं लिख रहा है
कोई भी सच कहीं पर भी
झूठ लिखने वाला भी
हमेशा ही सच से डरा होता है

बड़ी तमन्ना है
देखने की
शक्ल बन्दूक की
और गोली की भी
वहाँ जहाँ
हर कोई बन्दूक है
और गोली ठोक रहा होता है

बहुत इच्छा है
‘उलूक’ की
किसी दिन
नंगा होकर नाचने की
देखकर
साथ के एक नंगे को
जो नंगई कर के भी
नाच रहा होता है |

चित्र साभार: https://www.123rf.com