उलूक टाइम्स: सितंबर 2014

मंगलवार, 30 सितंबर 2014

तोते के बारे में तोता कुछ बताता है जो तोते को ही समझ में आता है

तोते
कई तरह
के पाये
जाते है

कई रंगों में
कई प्रकार के

कुछ छोटे
कुछ
बहुत ही बड़े

तोतों का
कहा हुआ
तोते ही
समझ पाते हैं

हरे तोते
पीले तोते
की बात
समझते हैं

या पीले
पीले की
बातों पर
अपना ध्यान
लगाते हैं

तोतों को
समझने
वाले ही

इस सब पर
अपनी राय
बनाते हैं

किसी किसी
को शौक
होता है
तोते पालने का

और
किसी को
खाली
पालने का
शौक दिखाने का

कोई मेहनत
कर के
तोतों को
बोलना
सिखा ले
जाता है

उसकी
अपनी सोच
के साथ
तोता भी
अपनी सोच
को मिला
ले जाता है

किसी घर से
सुबह सवेरे
राम राम
सुनाई दे
जाता है

किसी घर
का तोता
चोर चोर
चिल्लाता है

कोई
सालों साल
उल्टा सीधा
करने के
बाद भी
अपने तोते
के मुँह से
कोई आवाज
नहीं निकलवा
पाता है

‘उलूक’ को
क्या करना
इस सबसे

वो जब
उल्लुओं
के बारे में
ही कुछ
नहीं कह
पाता है

तो
हरों के हरे
और
पीलों के पीले
तोतों के बारे में
कुछ पूछने पर

अपनी पूँछ को
अपनी चोंच पर
चिपका कर

चुप
रहने का संकेत
जरूर दे जाता है

पर तोते तो
तोते होते हैं

और
तोतों को
तोतों का
कुछ भी
कर लेना

बहुत अच्छी
तरह से
समझ में
आ जाता है ।

चित्र साभार: http://www.www2.free-clipart.net/

सोमवार, 29 सितंबर 2014

सोच तो सोच है सोचने में क्या जाता है और क्या होता है अगर कोई सोच कर बौखलाता है

अपने
कुछ भी
सोचे हुऐ पर

कुछ नहीं
कह रहा हूँ

मेरे
सोचे गये
कुछ पर

कुछ
उसके
अपने
नजरिये से
सोच दिये गये पर

कुछ
सोच कर
कहने की
कोशिश कर
ले रहा हूँ

बड़ी
अजीब
सी पहेली है

एक
एक का
अपना
खुद का
सोचना है

और
दूसरा

एक के
कुछ सोचे हुऐ पर

किसी
दूसरे का
कुछ भी
सोच लेना है

अब
कुछ सोच
कर ही
कुछ लिखा जाता है

बिना सोचे
कुछ लिख
लेने वाला
होता भी है

ऐसा
सोचा भी
कहाँ जाता है

कहने को तो

अपनी
सोच के
हिसाब से
किसी पर भी
कोई भी
कुछ भी
कह जाता है

दूसरा
उस हिसाब पर
सोचने लायक भी हो

ये भी जरूरी
नहीं हो जाता है

इसलिये
सोचने पर
किसी के
रोक कहीं
लगाई भी
नहीं जाती है

सोच
सोच होती है
समझाई भी
नहीं जाती है

अपनी
अपनी
सोच में

सब
अपने हिसाब से
सोच ही ले जाते हैं

दूसरे की
सोच से
सोचने वाले भी
होते हैंं थोड़े कुछ
अजूबे होते भी हैं
और
इसी दुनियाँ
में पाये भी जाते हैं

‘उलूक’
तेरे सोच दिये गये कुछ पर

अगर
कोई अपने
हिसाब से कुछ
सोच लेना चाहता है

तो वो जाने
उसकी सोच जाने

उसके सोचने पर
तू क्यों अपनी
सोच की टाँग
घुसाना चाहता है

बिना सोचे ही
कह ले जो कुछ
कहना चाहता है

होना कुछ भी
नहीं है कहीं भी

किसी की
सोच में
कुछ आता है
या नहीं आता है ।

चित्र साभार: http://www.canstockphoto.com

रविवार, 28 सितंबर 2014

इसकी उसकी करने का आज यहाँ मौसम नहीं हो रहा है


किसी
छुट्टी के दिन 

सोचने की भी
छुट्टी कर लेने
की सोच लेने में
क्या बुरा हो रहा है 

सोच के
मौन हो जाने का
सपना देख लेने से 
किसी को कौन कहाँ रोक रहा है 

अपने
अंदर की बात 
अपने अंदर ही
दफन कर लेने से 
कफन की बचत भी हो जाती है 

दिल
अपनी जगह से
चेहरा अपनी जगह से 
अपने अपने हिसाब का 
हिसाब किताब
खुद ही अगर कर ले रहा है 

रोज ही
मर जाती हैं कई बातें सोच की
भगदड़ में दब दबा कर 

बच बचा कर
बाहर भी आ जाने से भी 
कौन सा उनके लिये
कहीं जलसा
स्वागत का कोई हो रहा है 

कई बार पढ़ दी गई 
किताबों के कपड़े
ढीले होना शुरु हो ही जाते हैं 

दिखता है
बिना पढ़े
सँभाल के रख दी गई 

एक किताब
का
एक एक पन्ना 

चिपके हुऐ एक दूसरे को
बहुत प्यार से छू रहा है 

जलने
क्यों नहीं देता
किसी दिन दिल को
कुछ देर के लिये यूँ ही ‘उलूक’ 

भरोसा रखकर
तो देख किसी दिन
राख
हमेशा नहीं बनती हर चीज 

सोचने में क्या जाता है
जलता हुआ दिल है
और पानी
बहुत जोर से कहीं से चू रहा है 

सोचने की छुट्टी
किसी एक छुट्टी के दिन 
सोच लेने से

कौन सा क्या 
इसका उसका कहीं हो रहा है । 

चित्र साभार: http://www.gograph.com

शनिवार, 27 सितंबर 2014

छोटी चोरी करने के फायदों का पता आज जरूर हो रहा है

                               

चोर होने की औकात है नहीं डाकू होने की सोच रहा है 
तू जैसा है वैसा ही ठीक है 
तेरे कुछ भी हो जाने से 
यहाँ कुछ
नया जैसा नहीं हो रहा है 

थाना खोल ले
घर के किसी भी कोने में 
और सोच ले
कुर्सी पर बैठा एक थानेदार 
मेज पर अपना सिर टिका कर सो रहा है 

देख नहीं रहा है दूरदर्शन आज का 
कुछ अनहोनी सी खबर कह रहा है 

चार साल के लिये अंदर हो जाने वाली है 
और ऊपर से
सौ करोड़ जमा करने का आदेश भी
न्यायालय
उसको साथ में दे रहा है 

बेचारी को
बहुत महँगा पड़ रहा है 
दोस्त देश के बाहर गया हुआ भी 
दो शब्द साँत्वना के नहीं कह रहा है 

समझ में
ये नहीं आ पा रहा है कि 
पुराना घास खा गया घाघ अभी तक अंदर है 
या बाहर कहीं किसी जगह अब मौज में सो रहा है 
खबर ही नहीं आती है उसकी कुछ भी मालूम नहीं हो रहा है 

आज कुछ कुछ
कोहरे के पीछे का मंजर
थोड़ा सा कुछ साफ जैसा हो रहा है 

बहुत समझदार है
मध्यम वर्गीय चोर मेरे आस पास का 
ये आज ही सालों साल सोचने के बाद भी बिना सोचे 
बस आज और आज ही पता हो रहा है 

हाथ लम्बे
होने के बाद भी 
लम्बे हाथ मारने का खतरा कोई फिर भी 
क्यों नहीं ले रहा है 

बस थोड़ा थोड़ा
खुरच कर दीवार का रंग रोगन 
अपने आने वाले भविष्य की संतानों के लिये
बनने वाले सपने के ताजमहल की पुताई का 
मजबूत जुगाड़ ही तो हो रहा है 

‘उलूक’ बैचेन है 
आज जो भी हो रहा है किसी के साथ 
इस तरह का बहुत अच्छा जैसा तो नहीं हो रहा है 

थोड़ी थोड़ी करती
रोज कुछ करती हमारी तरह करती 
तो पकड़ी भी नहीं जाती 
शाबाशियाँ भी कई सारी मिलती 
जनता रोज का रोज ताली भी साथ में बजाती 
सबकी नहीं भी होती
तो भी 
दो चार शातिरों की फोटो
खबर के साथ अखबार में 
रोज ही किसी कालम में नजर आ ही जाती 

दूध छोड़ कर
बस मलाई चोर कर खाने का 
बिल्कुल भी अफसोस 
आज जरा सा भी नहीं हो रहा है । 

चित्र साभार: http://www.canstockphoto.com/

शुक्रवार, 26 सितंबर 2014

करेगा कोई करे कुछ भी बता देगा वो उसी को एक साँस में और एक ही बार में

है कुछ भी
अगर पास तेरे
बताने को
क्यों रखता है
छिपा कर अपने
भेजे में संभाल के
देख ले क्या पता
कुछ हो ही जाये
कोशिश तो कर
छोटी सी ही सही
हिम्मत कर के
तबीयत से हवा में
ही ज्यादा नहीं तो
थोड़ा सा ही
ऊपर को उछाल के
तैरता भी रहेगा
माना कुछ कुछ
कुछ समय तक
समय की धार में
नहीं भी पकड़ेगा
कोई समझ कर
कबूतर का पंख
जैसा कुछ भी
अगर मान के
आकार में मिट्टी
या धूल का
एक गोला जैसा
ही कुछ देखेगा
कुछ देर के लिये
सामने अपनी
किसी दीवार के
खुश ही हो ले
दीवाना कोई
फुटबॉल ही समझ
लात मार कर
कहीं किसी गोल
में ले जा कर
ही डाल के
दो चार छ: आठ
बार में कुछ
करते करते
कई दिनों तक
कुछ हो ही जाये
यूँ ही कुछ कहीं
भी कभी एक दिन
किसी मंगलवार के
एक कहने वाला
कर जाये दो मिनट
में आकर बात फोड़
उस कमाल पर
करके धमाल
अपने जीभ की
तलवार की
तीखी धार के
तेरे कहने को
ना कहने से भी
होने जा रहा
कुछ नहीं है
निकलना है जब
तस्वीर का
उसके ही बोल
देने का
सब कुछ
पन्ने में
उसके ही किसी
अखबारों के
अखबार के
सोच ले ‘उलूक’
जमा करने पर
नहीं होना है
कुछ भी को
जमा कर लेने पर
कौड़ियों की सोच
का कोई खरीददार
नहीं मिलता है
इस जमाने की
दुकानों में
किसी भी
बाजार के ।

चित्र साभार: http://www.canstockphoto.com

गुरुवार, 25 सितंबर 2014

लिखा होता है कुछ और ही और इशारे कुछ और जैसे दे रहा होता है

कारवाँ कुछ ऐसे
जिनके शुरु होने
के बारे में पता
नही होता है
ना ही पता होता है
उनकी मंजिल का
बस यूँ ही होते होते
महसूस होता है
शामिल हुआ होना
किसी एक ऐसी
यात्रा में जहाँ कहीं
कुछ नहीं होता है
आसपास क्या
कहीं दूर दूर
बहुत दूर तक
घने जंगल के बीच
पेड़ों के बीच से
आती रोशनी की
किरणों से बनते
कोन या फिर
सरसराती
हवाओं का शोर
गिरते पानी की
छलछलाहट
या फिर झिंगुरों
की आवाज
सबका अलग
अलग अपना
अस्तित्व
समझने की
जरूरत कुछ भी
नहीं होती है
फिर भी अच्छा सा
महसूस होता है
कभी कभी गुजर
लेना कुछ दूर तक
बहुत सारे चलते
कारवाओं के बीच
से चुपचाप
बिना कुछ कहे सुने
लिखते लिखते
बन चुके शब्दों के
कारवाओं के बीच
निशब्द कुछ शब्द
भी यही करते हैं
मौन रहकर कुछ
कहते भी हैं और
नहीं भी कहते हैं
समझने की कोशिश
करना हमेशा जरूरी
भी नहीं होता है
कभी कभी किसी का
लिखा कुछ नहीं भी
कह रहा होता है
पढ़ने वाला बस
एक नजर कुछ
देर बिना पढ़े
लिखे लिखाये
को बस देख
रहा होता है
समझ में कुछ
नहीं भी आये
फिर भी एक
सुकून जैसा कहीं
अंदर की ओर
कहीं से कहीं को
बह रहा होता है
महसूस भी कुछ
हो रहा होता है ।

चित्र साभार: http://www.clipartpanda.com

बुधवार, 24 सितंबर 2014

बहुत कुछ है तेरे पास सिखाने के लिये पुराना पड़ा हुआ कुछ नई बाते नये जमाने की सिखाना भी सीख


सीख क्यों नहीं लेता 
बहुत कुछ है सीखने के लिये सीखे सिखाये से इतर भी 
कुछ इधर उधर का भी सीख 

ज्यादा लिखी लिखाई पर
भरोसा करना ठीक नहीं होता 
जिसे सीख कर
ज्यादा से ज्यादा 
माँगना शुरु कर सकता है भीख 

भीख भी
सबके नसीब में नहीं होती मिलनी 
पहले कुछ इधर भी होना सीख 

इधर आकर सीखा जायेगा बहुत कुछ इधर का 
उसके बाद इधर से उधर होना भी कुछ सीख 

बेनामी आदमी हो लेना उपलब्धि नहीं मानी जाती 
किसी नामी आदमी का खास आदमी होना भी सीख 

लाल हरी नीली गेरुयी पट्टियाँ ही अब होती हैं पहचान 
कुछ ना कुछ होने की सतरंगी सोच से निकल 
किसी एक रंग में खुद को रंगने रंगाने की सीख 

रोज गिरता है अपनी नजरों से 
लुटेरों की सफलता की दावतें देख कर 
कभी सब कुछ अनदेखा कर
अपनी चोर नजर उठाना भी सीख 

जो सब सीख रहे हैं सिखा रहे हैं 
कभी कभी उन की शरण में जाना भी सीख 

अपना भला हो नहीं सकता तुझसे 
तेरे सीखे हुऐ से किसी और का भला 
उनकी सीख को सीख कर ही कर ले जाना सीख 

कितना लिखेगा
कब तक लिखेगा इस तरह से ‘उलूक’ 
कभी किसी दिन खाली सफेद पन्नों को
थोड़ी सी साँस लेने के लिये भी
छोड़ जाना भी सीख । 

चित्र साभार: http://www.clipartpal.com/

मंगलवार, 23 सितंबर 2014

सब कुछ सब की समझ में आना जरूरी नहीं पर एक भोगा हुआ छाँछ को फूँकने के लिये हवा जरूर बनाता है

मकड़ी की
फितरत है
क्या करे

पेट भरने के लिये
खून चूस लेती है

उतना ही खून
जितनी उसकी
भूख होती है

मकड़ियाँ मिल कर
जाल नहीं बुनती हैं

ना ही शिकार को
घेरने के लिये कोई
षडयंत्र करने की
उनको कोई
जरूरत होती है

हर आदमी मकड़ी
नहीं होता है
ना ही कभी होने
की ही सोचता है

कुछ आदमी जरूर
मकड़ी हो जाते हैं
खून चूसते नहीं है
खून सुखाते हैं

शायद ये सब उन्हे
उनके पूर्वजों के
खून से ही
मिल जाता है

विज्ञान का सूत्र भी
कुछ ऐसा ही
समझाता है

खून सुखाने के लिये
कहीं कोई यंत्र
नहीं पाया जाता है

एक खून सुखाने वाला
दूसरे खून सुखाने वाले
की हरकतों से उसे
पहचान जाता है

सारे खून सुखाने वाले
एक दूसरे के साथ
मिल जुल कर
भाई चारा निभाते हैं

हजारों की भीड़ भी हो
कोई फर्क नहीं पड़ता है

अपने बिछुड़े हुऐ
खून की गंध बहुत
दूर से ही पा जाते हैं

अकेले काम करना
इनकी फितरत में
नहीं होता है

किसी साफ खून वाले
को सूँघते ही जागरूक
हो कर शुरु हो जाते हैं

यंत्र उनका
एक षडयंत्र होता है
पता ही नहीं चलता है
खून सूखता चलता है

क्या ये एक गजब
की बात नहीं है

‘उलूक’ भी
ये सब
देख सुन कर
सोचना शुरु करता है

ऐसा कारनामा
जिसमें
ना जाल होता है
ना मक्खी फंसती है
ना खून निकलता है

मकड़ी और मक्खी
आमने सामने होते हैं
मकड़ी मुस्कुराती है
मक्खी के साथ बैठी
भी नजर आती है

खून बस सूख जाता है
किसी को कुछ भी
पता नहीं चल पाता है

मकड़ियाँ कब से
पकड़ रही हैं
मक्खियों को

और इससे ज्यादा
उनसे कई जमानों तक
और कुछ नया जैसा
नहीं हो पाता है

पर उनका सिखाया
पाठ आदमी के लिये
वरदान हो जाता है

होता हुआ कहीं कुछ
नजर नहीं आता है
लाठी भी नहीं टूटती है
और साँप भी मर जाता है ।

चित्र साभार: http://faredlisovzmesy.blogspot.in

सोमवार, 22 सितंबर 2014

सब कुछ नीचे का ही क्यों कहा जाये जब कभी ऊपर का भी होना होता है

ऊपर
पहुँचने पर

अब
ऊपर
कहने पर

पूछ
मत बैठना

कौन सा ऊपर

वही ऊपर
जहाँ से ऊपर

सुना है
कुछ भी
नहीं होता है

बचा कुचा
बाकी जो
भी होता है

सब
उस ऊपर
के नीचे
ही होता है

हाँ
तो उस ऊपर

अब
मुझे ही
कुछ संशय
यहाँ होना
यहीं से
शुरु होता है

ऊपर
अगर पहुँच
भी गया तो

कहाँ
भेजा जायेगा

दो जगह

यहाँ
नीचे वालों को
समझाई
गई होती हैंं 

जिंदा
रहते रहते

एक
ऊँची जगह
पर स्वर्ग

और
एक
नीची जगह
पर नरक
होता है

अब
ऐसी बात
पूछी भी
किससे जाये

पता नहीं
किस किस को
उस ऊपर
के बारे में

क्या क्या
पता होता है

यहाँ के
हिसाब से
इस जमाने में
सही ही
सही होता है

और
सही का ही
बहुमत होता है

अल्पमत वाला
हमेशा ही
गलत होता है

सही को
देख देख कर
खुंदक में
कुछ ना कुछ
कहता रहता है

उसी को
कहना होता है
उसी कहने को
उसी को
सुनना भी होता है

याद
ना रह जाये कहीं
बहुत दिनों तक

इसलिये
लिख लिखा के
कहीं पर
रख देना होता है

इस सब
लिखे लिखाये
के
हिसाब किताब
पर ही

ऊपर
जा कर के
कर देना होता है

‘उलूक’
नीचे के सारे
स्वर्गवासियों के साथ

जिसे
नहीं रहना होता है

उसे
ऊपर जाकर भी

ऊपर के
नीचे वाले में
ही रहना होता है ।

चित्र साभार: http://theologyclipart.com/

रविवार, 21 सितंबर 2014

बीमार सोच हो जाये तो एक मजबूत शब्द भी बीमार हो जाता है

शब्दों का
भी सूखता
है खून
कम हो
जाता है
हीमोग्लोबिन

शब्द भी
हमेशा
नहीं रह
पाते हैं
ताकतवर

झुकना शुरु
हो जाते हैं
कभी
लड़खड़ाते हैं
कई बार
गिर भी
जाते हैं

बात इस
तरह की
कुछ पचती
नहीं है
अजीब सी
ही नहीं
बहुत ही
अजीब सी
लगती है

पर क्या
किया जाये
कई बार
सामने वाले
के मुँह से
निकलते
मजबूत
शब्द भी
मजबूर
कर देते हैं
विवश
कर देते हैं
सोचने के लिये
कि
बोलने वाला
बहुत ही
खूबसूरत
होता है
सभ्य भी
दिखता है
उम्र पक
गई होती है
और
सलीका
इतना कि
जूते की
सतह में
सामने
वाले का
अक्स
दिखता है

फिर भी
बोलना
शुरु करता
है तो
गिरना
शुरु हो
जाते हैं
वो शब्द भी
जो बहुत
मजबूत
शब्द माने
जाते हैं

इतिहास
गवाह
होता है
किसी एक
खाली धोती
पहनने वाले
शख्स के
द्वारा
मजबूती से
पूरी देश
की जनता
से बोले
जाते हैं

सुनने वाले
को देते
हैं उर्जा
बीमार
से बीमार
को खड़े
होने की
ताकत
दे जाते हैं
और
 वही शब्द
निकलते
ही किसी
के मुँह से
खुद ही
बीमार
हो जाते हैं
लड़खड़ाने
लगते हैं
और
कभी कभी
गिरना
भी शुरु
हो जाते हैं

एक
शब्द ही
जैसे खुद
अपनी ऊर्जा
को पचा
जाता है
अर्थी के
साथ चल
रहे लोगों के
मुँह से
निकलता
 ‘राम नाम सत्य है’
जैसा हो
जाता है ।

चित्र साभार: http://expresslyspeaking.wordpress.com/

शनिवार, 20 सितंबर 2014

खाना पीना और सोना ही बस जरूरी होता है

रजिस्टर में
जैसे करने हों
उपस्थिति
के हस्ताक्षर

और डालना हो
समय और दिँनाक भी

लिखने का
मतलब
बस इतना ही
नहीं होता है

हाँ
कभी कभी
अवकाश
सरकारी
भी होता है

सरकारी
ना सही
गैर सरकारी
भी होता है

बहुत से
कारण
भी होते हैं

बहुत से लोग
कभी भी कुछ भी
नहीं लिखते हैं

किसने कह दिया
लिखना बहुत ही
जरूरी होता है

दवाईयाँ भी होती हैं
मरीज भी होता है
मर्ज भी होता है
मौत भी होती है

जिंदा
दिखता भी है
और मरा हुआ
भी होता है

सोच में
रोक टोक
नहीं होती है
सोचने वाला ही
घोड़ा होता है

उसके
हाथ में ही
चाबुक होता है
लगाम भी वही
लगाता है

किसी और को
कुछ भी पता
नहीं होता है

किसी के
सोच का
यही सरपट
दौड़ने वाला घोड़ा

किसी के लिये
बस एक धोबी का
लद्दू गधा होता है

और
गधे को कैसे
पाला जाता है

उस पर
बहुत कुछ
बताने के लिये
उसके पास
बहुत कुछ होता है

ऐसे सभी
घुड़सवारों का
अपना एक
गिरोह होता है

जिनके पास
ना तो घोड़ा होता है
ना कोई गधा होता है

इन सब का काम
सोच के घोड़े
दौड़ाने वालों के
घोड़ों को

उनकी
सोच में ही
दौड़ा दौड़ा कर
बेदम कर
गिरा देना होता है

और इस
सब के लिये
उनके पास
सोच में
दौड़ते घोड़ों
को गिराने का
हथौड़ा होता है

‘उलूक’ तू जाने
तेरी सोच जाने
पता नहीं
किस डाक्टर ने
कह दिया
है तुझसे

कि
ऊल जलूल
भी हो सोच में
कुछ भी

तब भी
लिखना
जरूरी होता है ।

चित्र साभार: http://www.briskpost.com/

शुक्रवार, 19 सितंबर 2014

कुर्सियों में बैठ लेने का मतलब बातें करना ही नहीं होता है हमेशा

एक तरफ
रोज ही
आकर
बैठ जाना
कुछ लोगों का
एक दूसरे के
अगल बगल
की कुर्सियों में


और सेंकना
दोपहर की
तेज धूप में
सीमेंट के खम्बों
की छाँव को

वो इसलिये नहीं
कि कुर्सियाँ
खाली हैं
और कहीं
बैठने की जगह
भी नहीं है 
उनके लिये 

या फिर वो
सब मित्र हैं
एक दूसरे के

उनकी
मजबूरी है
एक दूसरे के
साथ बैठना

और करना
देश और
देशभक्ति
की बातें

या बताना
अपनी अपनी
ईमानदारी की
परी कथाऐं
एक दूसरे को

कोई नहीं
सुनता है
किसी की

सबको
कुछ ना कुछ
कहना होता है
कहते रहना होता है

और
सबके कान
लगे होते हैं
एक दूसरे के
मुँह से निकलती
हुई बातों में

जैसे पता नहीं
किसी एक क्षण
किसी की जबान
फिसल जाये

और
उसके अपने
मतलब का
कुछ
निकल कर
हाथ में आ जाये

और दूसरी ओर
कुछ लोग
और होते हैं

जिनको
कहीं बैठना
नहीं होता है

बस
देखना होता है
कुर्सियों को

पहले खाली
फिर कुछ बैठे
हुऐ लोगों के साथ
रोज ही

जैसे उनके
भविष्य की चिंता
का बोझ लिये हुऐ
कुर्सियाँ लगी होती हैं

बहुत सी खाली
जगहों पर
या इसी तरह
कई और दूसरी
जगहों पर भी

जो रोज रख
दी जाती हैं
सुबह सुबह बाहर

और संभाल
दी जाती है
शाम को
आने वाले कल
के दिन के लिये
फिर से बाहर
निकाल कर
रखने के लिये ।

चित्र साभार: http://www.canstockphoto.com/

गुरुवार, 18 सितंबर 2014

“जीवन कैसा होता है” अभी कुछ भी नहीं पता है सोचते ही ऐसा कुछ आभास हो जाता है

बिना
सोचे समझे
कुछ पर
कुछ भी
लिख देने
की आदत

लिख भी
दिया जाता है
कुछ भी

बात अलग है

कुछ दिनों बाद

फिर से
बार बार
कई बार
पढ़ने पर
उस कुछ को

खुद को भी
कुछ भी
समझ में
नहीं आता है

किसी को
लगने लगता है
शायद

सरल नहीं
कुछ गूढ़
कहा जाता है

कौऐ पर
मोर पंख
लगा दिया जाये
तो ऐसा ही
कुछ हो जाता है

और ऐसे में
अनजाने में
उससे पूछ
लिया जाता है
ऐसा प्रश्न
जिसे समझने
समझने तक
अलविदा कहने का
वक्त हो जाता है

और प्रश्न
प्रश्न वाचक चिन्ह
का पहरा
करते हुऐ जैसे
कहीं खड़ा रह जाता है

“जीवन कैसा होता है ?”
कुछ कहीं सुना हुआ
जैसा कुछ ऐसा
नजर आता है

जिसपर सोचना
शुरु करते ही
सब कुछ
उल्टा पुल्टा
होने लग जाता है

कुछ दिमाग में
जरूर आता है
थोड़ी सी रोशनी
भी कर जाता है

फिर सब वही
धुँधला सा
धूल भरा
नीला आसमान
भूरा भूरा हो जाता है

बताया भी
नहीं जाता है
कि सामने से कभी
एक परत दर परत
खुलता हुआ प्याज
आ जाता है

कभी
एक साबुन
का हवा में
फूटता हुआ
बुलबुला हो जाता है

कभी
भरे हुऐ पेटों
के द्वारा
जमा किया हुआ
अनाज की बोरियों का
जखीरा हो जाता है

क्या क्या नहीं
दिखने लगता है
सामने सामने

एक मरे शेर का
माँस नोचते कुत्तों
पर लगा सियारों का
पहरा हो जाता है

अरे
नहीं पता चल
पाया होता है
कुछ भी
‘उलूक’ को
एक चौथाई
जिंदगी गुजारने
के बाद भी

एक तेरे प्रश्न से
जूझते जूझते
रात पूरी की पूरी

अंधेरा ही
अंधेरे पर
सवार होकर
जैसे सवेरा
हो जाता है

फिर कभी
देखेंगे पूछ कर
किसी ज्ञानी से
“जीवन कैसा होता है”

सभी प्रश्नों का
उत्तर देना
किस ने कह दिया
हर बार बहुत ही
जरूरी हो जाता है

पास होना ठीक है
पर कभी कभी
फेल हो जाना भी
किसी की एक बड़ी
मजबूरी हो जाता है ।

चित्र साभार: http://ado4ever.overblog.com/page/2

बुधवार, 17 सितंबर 2014

सात सौ सतत्तरवीं बकवास नहीं कही जा सकती है बिना कुछ भी देखे सुने अपने आसपास

आप बीती
कह लीजिये
या जग बीती

जब
देखी सुनी
महसूस की
जाती हैं

तभी कही
और लिखी
भी जाती है

कहानियाँ
राजा रानी
राजकुमारी की
कह लीजिये
या परियों की
ऐसे वैसे भी
बुनी जाती हैं

सबको ही
दिखाई देता है
कुछ ना कुछ
अपने आस पास
देखने वाले की
नजर पर होता है

होने ना होने
में से कौन सी
चीज उसको
उसके काम की
नजर आती है

सभी पढ़ते हैं
एक ही किताब
से एक ही नज्म
हर किसी के
लिये नहीं होता
बन जाना
उसका एक गीत
किसी किसी को
दूर दूर तक
वही एक काली
भैंस की सींग
नजर आती है

‘उलूक’
सभी एक मत से
कह रहे होते हैं
जहाँ कुछ नहीं है
तेरी फितरत का
क्या किया जाये

समझ में
नहीं आता है
तुझे वहाँ पर भी
कुछ लिख लिखा
देने के लिये
एक तस्वीर
नजर आती है

हर कोई बजा
रहा है तालियाँ
हवा में उनके
हवा महल की
हवा में हो रही
हवा बाजी पर

कह क्यों नहीं
पाता उन सब की
हवा की तारीफ
करने में तेरी
खुद की हवा
निकल जाती है ।

चित्र साभार: http://blogs.msdn.com/

मंगलवार, 16 सितंबर 2014

बात करने का सलीका बातें करते करते ही आ पाता है

अपने
मतलब
की बातें
करने के
लिये ही
हर कोई
बात करने
के लिये
आता है

नहीं भी
करना चाहो
अगर बात
कोई अपनी
तरफ से
अपनी बात
को घुमा
फिरा कर
उसी तरह
की बातों
की तरफ
खींच तान
कर सारी
बातों का
रास्ता
बनाता है

सब को
आती है
होशियारी
अपने अपने
हिसाब की
दूसरे के
हिसाब के
घाटे के
बारे में
कौन जानना
चाहता है

पता रहता है
उबल रही है
कोई चाय
दिमाग के अंदर

पत्तियों को
छानने के
लिये छलनी
अपनी
अपने घर
से ही ले
आता है

खुदगर्ज
जितना
होता है बड़ा
खुद उतनी
ही बड़ी
बातों में उसे
सामने वाले
को उलझाना
आता है

उसकी
इसकी
बातों की
बातें ही
बस बातें
होती है
अपनी बात
करने में
बात ही
बात में
बातों से
कन्नी काट
जाता है

बातों ही
बातों में
बातों से
बातों को
खोदना भी
बात करने
वालों से
ही सीखा
जाता है

और
कोई ऐसा
भी होता
है कहीं
करता है
खुद की
बातें खुद
से ही
पर क्यों

‘उलूक’
देखता है
किसी के
बुदबुदाने
को बरसों
से अपने
सामने से
पर समझ ही
नहीं पाता है

खुद से
खुद की
बातें
करने वाला
उसे बात
ही नहीं
मानता है
कवि की
कविता
कहने पर
कुछ दाँत
दिखाता है।

चित्र साभार : http://galleryhip.com/kids-conversation-clipart.html

सोमवार, 15 सितंबर 2014

बात एक नहीं है अलग है वो इधर से उधर जाता है और ये उधर से इधर आता है

कितना कुछ ही नहीं
बहुत कुछ बहुत अच्छा
लिखा हुआ बहुत सी
जगहों पर नजर आता है
सोच में पढ़ जाती है
खुद की सोच ही
वैसा ही सब कुछ
मुझसे भी क्यों नहीं
लिखा जाता है
लिखना शुरु करो नहीं
कि दिन भर का देखा सुना
सामने से आ जाता है
दूरदर्शन रेडियो अखबार
में भी आता है बहुत कुछ
मगर हमेशा और ही
और कुछ आता है
उन सबकी होती है
अपनी अपनी सोच पर पकड़
फिसलती हुई सोच को
पकड़ कर जकड़ना भी
जिनको अच्छी तरह आता है
कोशिश हमेशा ही होती है
चलने की सीधे सीधे ही
पता ही नहीं चलता
कौन सा मोड़ सोच में
मोच ले आता है
कहीं भी किसी भी
पन्ने में वो सब
नहीं लिखा दिखता है
जो लगभग हर चेहरे के
पारदर्शी मुखौटे के
पीछे नजर आता है
लगने लगता है
ऐसे ही समय में
जैसे बस ‘उलूक’ ही
दिवास्वपनों का
खोमचा जानबूझ
कर लगाता है
अपनी अपनी
प्रायिकता होती है
होनी भी चाहिये
कोई खाने पीने और
कोई पीने खाने को
अच्छा बताता है
किसी को आदत
हो जाती है
नशा करने की
किसी पीने की
या खाने की चीज से
किसी को लिखने
लिखाने से ही
नशा हो जाता है
नशा होना ही
इस तरह का
कलम को कहाँ से
कहाँ बहका ले जाता है
फूल की सोचता है सोच में
मगर कलम तक आते आते
गाजर का हलुआ हो जाता है
समझ में आ ही गया होगा
उससे अच्छा कुछ मुझसे
कभी क्यों नहीं लिखा जाता है ।

चित्र साभार: http://wecort.com/

रविवार, 14 सितंबर 2014

इस पर लिख उस पर लिख कह देने से ही कहाँ दिल की बात लिखी जाती है



डबलरोटी
और
केक 
की
लड़ाई
लड़ने वालों 
की
सोचते सोचते 

तेरी
खुद की सोच 
क्यों
घूम जाती है 

रोटी
मिल तो 
रही है तुझको 
क्या
वो भी तुझसे 
नहीं
खाई जाती है 

कल
लिखवा गया 
कुछ
उस्तादों के 
उस्ताद
और
उसके 
धूर्त शागिर्दों पर 

आज
बाबाओं और 
भक्तों पर
कुछ 
लिखने की
तेरी 
फरमाईश
सामने 
से आ जाती है 

बदल रही है 
दुनियाँ
बड़ी तेजी से 

घर घर में
खुलती 
बाजार पर
तेरी 
नजर
क्यों
फिर 
भी नहीं जाती है 

आदमी
बेच रहा है 
आज आदमी को 

इंसानियत
सबसे 
आसानी से 
जगह जगह 
बेची जाती है 

बाबा चेले गुरु शिष्य 
हुआ करते होंगे 
किसी जमाने 
की
परम्पराऐं 

आज
हर किसी की 
नजर
हजारों करोड़ों 
की
सम्पति होने 
पर ही
भक्तिभाव
और 
चमक दिखाती है 

ग्रंथ
श्रद्धा के प्रतीक 
हुआ करेंगे
सोच कर 
लिख गये योगी 

देखते
आज सामने 
से ही अपने 
मनन चिंतन
की 
सीमाओं को तोड़कर 

कैसे पाठकगण 
उपभोक्ता

और 
कल्पनाऐं
उपभोग 
की
वस्तु हो जाती हैं 

अच्छी सोच की 
कोपलें भी हैं 
बहुत सी डालों पर 
जैसे एक तेरी 

हर जगह अलग अलग 
रोज ही खिलती हैं
और 
रोज के रोज ही 
मुरझा भी जाती हैं 

‘उलूक’ देखता है 
सब कुछ अंधेरे में 

रोज का रोज 
लिखना लिखाना 
उसके लिये

बस एक 
आवारगी
हो जाती है ।
  
चित्र साभार: http://www.illustrationsof.com/

शनिवार, 13 सितंबर 2014

मित्र “अविनाश विद्रोही” आपके आदेश पर इतना ही कुछ मुझ से आज कहा जायेगा

मित्र आपने
आदेश दिया है

उस पर
और उसके
चित्र के पाँव
सड़क पर
दिखा दिखा कर
धो कर पीने
वालों पर
कुछ लिखने
को कहा है

आपके
आदेश का
पालन करने
जा रहा हूँ

मैं आपके
उस सबसे
बड़े महान
के ऊपर
आज कुछ
लिखने ही
जा रहा हूँ

नाम
इसलिये नहीं
ले पा रहा हूँ

कहीं
इस बदनामी
का फायदा भी वो
उठा ले जायेगा

बहुत दिन
पोस्टरों में
रहा है गली गली
इस देश की

आने वाले
समय के
मंदिरों की
मूर्ति हो जायेगा

आज
साईं बाबा
को बाहर
फेंका जा रहा है

कल
हर उस
खाली जगह
पर वो
खुद ही जाकर
अपना बैठ जायेगा

उसके
चमचों की
बात कर के क्यों
अपना दिमाग
खराब करते हो

अभी
बहुत सालों तक
हर गली हर पेड़ पर
वो ही लटका हुआ
नजर आयेगा

इस देश
की किस्मत
अच्छी कही जाये
या बुरी

तेरी मेरी
किस्मत में
फुल स्टोप
उसके चमचे
का कोई चमचा
ही लगायेगा

सोच कर
आया था
‘उलूक’

पाँच साल
पूरे हो चुके
ब्लाग पर

अब शायद
गली की
बातों को छोड़
घर की रोशनी पर
कुछ लिखा जायेगा

किसे
मालूम था
फेस बुक के
संदेश बक्से में

तेरा संदेश
उस पर
और
उसके चमचों पर
कुछ ना कुछ
लिख ले जाने
को उकसायेगा

उसके
पाँच सालों पर है
तेरी काली नजर

पर
अगले पाँच साल भी
उसका कोई ना कोई

चमचा
तुझे जरूर
कहीं ना कहीं रुलायेगा

क्या पता

उसकी
हजार फीट
की प्रतिमा
बनाने के
नाम पर
कुछ लोहा
माँगने ही
तेरे घर ही
आ जायेगा ।

चित्र साभार: http://www.canstockphoto.com/

शुक्रवार, 12 सितंबर 2014

आज ही पाँच साल पहले शुरु किया था यहाँ आ कर कबूतर उड़ाना


च्यूइंगम को चबा चबा कर
मुँह के अंदर ही अंदर
लम्बा खींच कर बाहर ले आना

फिर लपेटते हुऐ उसे फिर से
मुँह के अंदर कर ले जाना फिर चबाना

कुछ इसी तरह का
लिखने लिखाने के साथ हो जाना

छोटी सी बात का
बतंगड़ बनाते बनाते
बातें बनाने की आदत हो जाना

कुछ ऐसी ही बीमारी का
एक छोटा सा कीटाणु
अंदर ही कहीं सोया हुआ किसी के
किसी को नजर आ जाना

मौका मिलते ही 
उसे काँटा चुभा कर चम्पत हो जाना

एक खतरनाक लेखक का
एक नासमझ के हाथ में
लिखने लिखाने की पिचकारी थमा जाना

एक अनाड़ी का
खिलाड़ियों के खेल पर कमेंटरी
रोज का रोज देकर जाना शुरु हो जाना

खेल का मैदान पर चलते रहना
मैदान की पुरानी घास का
नई हो कर उग जाना

खिलाड़ियों का अनाड़ियों को
रोज पागल बना ले जाना

शुरु होना 
एक भड़ास का कागज पर उतरना

शरम छोड़ कर
भड़ास का ही खुद बेशरम हो जाना

बेबस ‘उलूक’ के हाथ से
बात का निकल जाना

पांंच साल की हर बात का
अपनी जगह पर चले जाना

फिर से एक पुराने उधड़ चुके
कफन का झंडा डंडे पर लगा
अगले पाँच साल की सोचना शुरु हो जाना

ज्यादा नहीं भी 
दो चार के रोज का रास्ता
चलता रहेगा आना जाना

बस यही सोच कर कब्र के ऊपर
दो चार फूलों के बीज छिड़क कर
वापस यहीं आ जाना

च्यूइंगम चबाना
कुछ लम्बा खींच लेना
कुछ गोले मुँह से बनाना ।

चित्र साभार: http://www.illustrationsof.com/

गुरुवार, 11 सितंबर 2014

बीमार था आदतन भरे पेट रोटियों पर झपट रहा था


कई सालों से
जिसे 
एक चिराग मान कर 
उसके कुछ फैलाने को रोशनी समझ रहा था 

पता नहीं क्या क्या था 
और क्या क्या नहीं था
किस को क्या और किस को क्या
कोई 
क्यों समझ रहा था 

चिराग है वो एक 
उसने ही कहा था 
सभी से और मुझ से भी 

एक बड़े झूठ को 
उसके कहने पर
जैसे 
सच मुच का सच मैं समझ रहा था 

रुई की लम्बी बाती 
बस एक ही नहीं थी
और बहुत सारी अगल और बगल में भी रख रहा था 
सिरा उसके पास ही था सभी का
और 
पूँछ से जिनकी कई और चिरागों से 
कुछ ना कुछ चख रहा था 

अपने तेल के स्तर 
को बराबर
उसी 
स्तर पर बनाये भी रख रहा था 
भूखे चिरागों के लड़ने की ताकत को
उनके तेल के 
स्तर के घटने से परख रहा था 

रोशनी की बातों को 
रोशनी में
बहुत जोर 
दे दे कर सामने से 
जनता के रख रहा था 

एक खोखला चिराग 
रोशन चिराग का पता
अपनी छाती 
पर चिपकाये 
पता नहीं कब से कितनों को ठग रहा था 

अंधा ‘उलूक’ 
अंधेरे में बैठा दोनों आँख मूँदे 
ना जाने कब से रोशनी ही रोशनी 
बस बक रहा था । 


चित्र साभर: http://www.shutterstock.com/

बुधवार, 10 सितंबर 2014

सुबह की सोच कुछ हरी होती है शाम लौटने के बाद पर लाल ही लिखा जाता है

सैलाब में
बहुत कुछ
बह गया

उसके
आने की
खबर
हुई भी नहीं

सुना है
उसके
अखबार में ही
बस
छपा था कुछ

सैलाब
के आने
के बारे में

मगर
अखबार
उसी के
पास ही कहीं
पड़ा रह गया

कितने कितने
सैलाब
कितनी मौतें
कितनी लाशें

सब कुछ
खलास

कुछ
दिन की खबरें

फिर
उसके बाद
सब कुछ सपाट

और
एक सैलाब
जो अंदर कहीं
से उठता है

कुछ बेबसी का
कुछ मजबूरी का

जो
कुछ भी
नहीं बहा पाता है

अंदर
से ही कहीं
शुरु होते होते

अंदर
ही कहीं
गुम भी हो जाता है

जब
नजर आता है

एक नंगा
शराफत के साथ
कुछ लूटता है

खुद
नहीं दिखता है

कहीं
पीछे से कहीं

गली से
इशारे से
बिगुल फूँकता है

कुछ
शरीफों के
कपड़े उतरवा कर

कुछ
बेवकूफों को
कबूतर बना कर

लूट
करवाता है

लूट
के समय
सूट पहनता है

मंदिर
के घंटे
बजवाता है

पंडित जी
को दक्षिणा
दे जाता है

दक्षिणा
भी उसकी
खुद की कमाई
नहीं होती है

पिछ्ली
लूट से
बचाई हुई होती है

लूट
बस नाम
की होती है

और
बहुत
छोटी छोटी
सी ही होती हैं

चर्चा में
सरे आम
कहीं नहीं होती हैं

अच्छी
जाति का
कुत्ता होने से जैसे
कुछ नहीं हो जाता है

घर में
कितनी भी
मिले अच्छी
डबलरोटी

सड़क में
पड़ी हड्डी को
देख कर झपटने से
बाज नहीं आ पाता है

सैलाब
की बात से
शुरु हुई थी बात
सैलाब कहीं भी
नजर नहीं आता है

गीत
लिखने की
सोचना सच में
बहुत मुश्किल
काम होता है

ऐसे
समय में ही
समझ में
आ पाता है

नंगई को
नंगई के
साथ ही चलना है

‘उलूक’
बहाता रहता है
सैलाब कहीं
अंदर ही अंदर अपने

एक नहीं
हजारों बार
समझा भी
दिया जाता है

चुल्लू भर
अच्छी सोच
का पानी

बहना
शुरु होने
से पहले ही
नंगई की आँच से
सुखा दिया जाता है ।

चित्र साभार: http://dst121.blogspot.in/

मंगलवार, 9 सितंबर 2014

वैसे तो फेसबुक पर जो भी चाहे एक खाता खुलवा सकता है

लिखने लिखाने
के विषयों पर

क्या कहा
जा सकता है

कुछ भी कभी भी
खाली दिमाग को

फ्यूज होते
बल्ब के जैसे
चमका सकता है

कभी
घर की
एक बात
उठ सकती हैं

कभी
पड़ोसी का
पड़ोसी से पंगा

एक मसालेदार
मीनू बना सकता है

काम करने
की जगह पर
एक नहीं
कई पाकिस्तान
बनते बिगड़ते ही हैं

रोज का रोज
नवाज शरीफ
के भेजे आम
एक आम आदमी
कहाँ पचा सकता है

घर पर
आता भी हो
अगर
अखबार रोज

सामने के पन्ने
की खबरों पर
ज्यादा कुछ नहीं
कहा जा सकता है

उल्टी खोपड़ी वाले
उल्टा शुरु करते हैं
पढ़ना अखबार को

हमेशा ही
पता होता है
बस उन्हें ही

पीछे का पन्ना
कुछ ना कुछ
नया गुल
जरूर खिला
सकता है

‘अमर उजाला’
के पेज सोलह पर
आज ही छ्पी
शोध की खोज से
अच्छा विषय
क्या हो सकता है

लगा

ये तो
अच्छे खासों से
कुछ नया
कुछ करवा
सकता है

भारत
की खबरें
पकते पकाते
कच्ची पक्की
भले ही
रह सकती हैं

अमेरिका
से पका कर
भेजा हुआ ही
बिना जले भुने
भी आ सकता है

कहा गया है
बहुत दावे के साथ

‘शर्मीले लोग
फेसबुक पर बिताते
हैं ज्यादा वक्त’

दो सौ
प्रतिशत
सत्य है

और
बेशरमों को
ये
वक्तव्य
बहुत
बड़ी
राहत भी

दिलवा
सकता है


‘उलूक’
बेशरम
भी है


और

फेसबुक
पर भी

बिताता है
ज्यादा समय

किसी ने
कहाँ
किया

है शोध

कि
शोध
करने वालों
का हर तीर

निशाने
पर
जा
कर
ठिकाना
बना सकता है । 



चित्र: गूगल से साभार ।  

सोमवार, 8 सितंबर 2014

जो भी उसे नहीं आता है उसे पढ़ाना ही उसको बहुत अच्छा तरह से आता है

रसोईया नहीं है
पर कुछ ना कुछ
जरूर परोसता है
मेरे आस पास ही है
कोई बिना मूँछ का
जो अपनी
मूँछे नोचता है
उसे देख कर ही
मुझे पता नहीं
क्या हो जाता है
और वो है कि
मेरे पास ही
आ आ कर
कुछ ना कुछ
गाना शुरु
हो जाता है
महिलाओं को
देखते ही उसकी
बाँछे खिल जाती हैं
बहुत अच्छी तरह
पता होता है उसे
बीबी उसकी
घर पर ही दिन में
दिन भर के लिये
सो जाती है
सारी दुनियाँ के
ईमानदारों में
उसका जैसा ईमान
नहीं पाया जाता है
बस यही बात जोर
जोर से बताता है
और बाकी बातों
को दूसरों की बातों
के शोर में दबाता है
दुकान बातों की
कहीं भी खोल
कर बैठ जाता है
उसकी दुकान के
तराजू के पलड़े
के नीचे चिपकाया
हुआ चुम्बक
वैसे भी कोई नहीं
देख पाता है
उसकी हरकतों का
पता इसको भी है
और उसको भी है
जानते बूझते हुऐ भी
इसके साथ मिलकर
वो भी उसके गिरोह में
शामिल हो जाता है
दुनियाँ के दस्तूर
रोज बदल रहे हैं
बड़ी तेजी के साथ
एक चार सौ बीस
चार सौ बीस को
बस मोरल पढ़ाता है
जयजयकार होती है
आजकल कुछ ऐसे ही
सफेदपोशों की सब जगह
सबको पता होता है
बंदर ही बिल्लियों को
लड़ा लड़ा कर
रोटियाँ कुतर जाता है
‘उलूक’ तेरी किस्मत
ही है खराब कई सालों से
गुलशन उजाड़ता है
कोई और ही हमेशा
और उल्लू को फालतू में ही
बदनाम कर दिया जाता है ।

चित्र साभार: https://www.etsy.com

रविवार, 7 सितंबर 2014

लिखा हुआ पढ़ते पढ़ते नहीं लिखा पढ़ने से रह गया था

कुछ था
जरूर
उन सब
जगहों पर

जहाँ से
गुजरा
था मैं

एक नहीं
हजार बार
जमाने के
साथ साथ

और
कुछ नहीं
दिखा था
कभी भी

ना मुझे

ना ही
जमाने को

कुछ दिखा
हो किसी को

ऐसा
जैसा ही
कुछ लगा
भी नहीं था

अचानक
जैसे बहुत
सारी आँखे
उग आई थी
शरीर में

और
बहुत कुछ
दिखना शुरु
हो गया था

जैसे
कई बार
पढ़ी गई
किताब के

एक खाली
पड़े पन्ने को

कुछ नहीं
लिखे होने
के बावजूद

कोई पढ़ना
शुरु
हो गया था

आदमी
वही था

कई कई
बार पढ़ा
भी गया था

समझ में
हर बार
कुछ
आया था

और
जो आया था

उसमें
कभी कुछ
नया भी
नहीं था

फिर
अचानक

ऐसा
क्या कुछ
हो गया था

सफेद पन्ना
छूटा हुआ
एक पुरानी
किताब का

बहुत कुछ
कह गया था

एक
जमाने से

जमाना भी
लगा था
पढ़ने
पढ़ा‌ने में

लिखा
किताब का

और
एक खाली
सफेद पन्ना

किसी का
सफेद
साफ चेहरा
हो गया था

‘उलूक’
आँख
ठीक होने
से ही
खुश था

पता ही
नहीं चला
उसको

कि
सोच में
ही एक
मोतियाबिंद
हो गया था ।

चित्र साभार: http://www.presentermedia.com/

शनिवार, 6 सितंबर 2014

किसी एक दिन की बात उसी दिन बताता भी नहीं हूँ

ऐसा नहीं है कि
दिखता नहीं है
ऐसा भी नहीं है
कि देखना ही
चाहता नहीं हूँ
बात उठने
उठाने तक
कुछ सोचने
सुलझाने तक
चाँद पूरा
निकल कर
फैल जाता है
तारा एक
बहुत छोटा सा
पीली रोशनी में
कहीं खो जाता है
रोज छाँटता हूँ
अपने बाग में
सुबह सुबह
एक कली और
दो पत्तियाँ
शाम लौटने तक
पूजा कि धुली
थालियों के साथ
किसी पेड़ की
जड़ में पड़ा
उन्ही और उन्ही
को पाता भी हूँ
और दिन भर में
होता है कुछ
अलग अलग सा
इसके साथ भी
उसके साथ भी
कुछ होता भी
है कही और
क्या कुछ होता है
समझने समझाने
तक सब कुछ ही
भूल जाता भी हूँ
उसके रोज ही
पूछने पर मुझसे
मेरे काम की
बातों को
बता सकता
नहीं हूँ कुछ भी
बता पाता भी नहीं हूँ
उसके करने कराने
से भर चुका है
दिल इतना ‘उलूक’
ऐसा कुछ करना
कराना तेरी कसम
चाहता भी नहीं हूँ
लिख देना
कुछ नहीं करने
की कहाँनी रोज
यहाँ आ कर
काम होता
ही है कुछ कुछ
फिर ना कहना
कभी कुछ कुछ
सुनाता ही नहीं हूँ ।

चित्र साभार: http://thumbs.dreamstime.com/

शुक्रवार, 5 सितंबर 2014

एक दिन शिक्षक होने का अहसास कुछ सवाल और कुछ जवाब हो जाते हैं

तीन सौ पैंसठ
दिनों में
वैसे देखें तो
गिनती से ज्यादा
दिन भी हो जाते हैं
हर नये दिन
सूरज उगने के साथ
दिन को एक नाम
देने के बहाने
कई मिल जाते हैं
रोज ही आते जाते हैं
जिन रास्तों पर
उन्हीं रास्तों के लोग
किसी दिन कुछ
अलग तरीके से
पेश आते हैं
दो एक बच्चे
मोहल्ले के
सुबह सुबह
शुभकामनाऐं
किसी रोज जब
दे के जाते हैं
याद आता है
एक दिन के
लिये ही सही
और मास्साब की
कमीज के कॉलर
खड़े हो जाते है
शुरु होता है
आकलन खुद का
खुद ही के
अंदर से कहीं
पर्दे गिरना
उसी समय
नाटक के शुरु
होने से पहले
ही शुरु हो जाते हैं
याद आती है
प्रथम गुरु 'माँ'
पहली सोच में
शीश झुकाना और
नमन करने का
खयाल ही बस
सोच में ला पाते हैं
नौ महीने पेट में
रहने के बाद भी उसके
अभिमन्यु की छाया
भी तो हो नहीं पाते हैं
बाद उसके
याद करते हैं
गुरुओं की जगाई
चेतना को
जमाना हो गया
उठे हुऐ कब से
चलते फिरते
देखते हैं लोग
लेकिन जानते हैं
अच्छी तरह
खुली आँखो
की नीँद में
क्या देखा क्या नहीं
बताना दूर की बात है
रात के देखे
सपने की तरह
भूल जाते हैं
शाम होते
डूबते सूरज के साथ
अगले किसी दिन
के आने की बाट
जोहने की
आदत के साथ
हम ‘शिक्षक दिवस’
पर कुछ सुनने
के लिये ‘दूरदर्शन’
के रिमोट का
बटन इस बार
पहली बार
जोर से दबाते हैं ।

गुरुवार, 4 सितंबर 2014

कम बोला से बड़ बोला तक बम बोला हमेशा बम बम बोलता है

क्या होता है
अगर एक
कुछ भी
कभी भी
नहीं बोलता है

क्या होता है
अगर एक
हमेशा ही
कुछ ना कुछ
बोलता है

सालों गुजर
जातें हैं
खामोशी में
एक के कई

बस सन्नाटा
ही सन्नाटा
होता है
हर तरफ

कोई इधर
डोलता है
और
कोई उधर
डोलता है

बोलने वाला
बोलना शुरु
होता है

ये भी
बोलता है
और
वो भी
बोलता है

कुछ भी नहीं
कह पाने से
कुछ भी
कभी भी
कहीं भी
कह ले जाने
के बीच में

बहुत कुछ
होता है
जो अँधों की
आँखें खोलता है

बहरे
वैसे ही
हमेशा खुश
रहते है

अपने आप में
कोई बोलता है
या
नहीं बोलता है

लूला खुद ही
बोलना चाहता
है हमेशा
कुछ ना कुछ

ऊपर वाला
बेचारों का मुँह
ही नहीं खोलता है

दुनियाँ के दस्तूर
यही हैं ‘उलूक’

तुझे क्या करना
इस सब से जब

ये भी तुझे
‘उलूक’
और
वो भी तुझे
‘उलूक’
बोलता है ।

चित्र साभार : http://www.shutterstock.com/

बुधवार, 3 सितंबर 2014

कतार बनाना सीख जाता तो तेरा भी बेड़ा पार हो जाता

कतार में
लगी हो
कोई भी चीज

तो
सभी को
बहुत अच्छी
लगती है

और
हर जगह के

कुछ लोग
बहुत माहिर होते हैं
कतार बनवाने में

ऐसे सभी
कतार
बनाने वाले

जानते हैं
बहुत अच्छी तरह
एक दूसरे को

इन सब
कतार बनाने
वालों की
रिश्तेदारियाँ

कभी जात
हो जाती है

कभी इलाका
हो जाता है

कभी धर्म
हो जाता है

मजे
की बात है
कभी कभी
सकर्म
हो जाता है

कतार
बनाने वाले
पहचानते हैं

कौन
सबसे अच्छी
कतार बनाता है

कतार
बनाने
की इच्छा
पूरी करने
के लिये

एक
कतार
बनाने वाला

दूसरे
कतार
बनाने
वाले के पास
ही जाता है

कतारें
देख कर
कतार
बनाने वाले

कभी
सीखते हैं
कतार बनाना

और
अपनी अपनी
कतार की
कमिंयों को
दूर कर ले जाना

लेकिन
ये सारे
कतारें
बनाने वाले
कभी किसी
कतार में
नहीं होते हैं

सही बात भी है

हलवाई भी
कहाँ खाता है
अपनी बनाई
हुई मिठाई

और
इसमें कहाँ
कहा जा सकता है
कि है कोई भी बुराई

पता नहीं
तुम्हारे
जमाने में
क्या होता होगा

पर
मेरे जमाने में

हर
दूसरा आदमी

जो
अपनी
जिंदगी में
कभी भी

किसी
कतार में
शामिल नहीं
हो पाता है

कतार
बना ही
ले जाता है

और
जो कतार में
चला जाता है

पूरी जिंदगी
कतार से
बाहर नहीं
आ पाता है

उसके लिये

लैफ्ट
लैफ्ट रह जाता है

और राईट
राईट
रह जाता है

‘उलूक’ को
अपने चारों ओर
दिखाई देते हैं

बस
और बस
कतार बनाने वाले

और
फिर भी बेचारा
ना कतार बनाना
सीख पाता है

ना ही
किसी कतार में
शामिल ही हो पाता है ।

चित्र साभार: http://www.shutterstock.com/

मंगलवार, 2 सितंबर 2014

देखता कुछ और है बताता कुछ और चला जाता है

दिल
की बातें

कहाँ उतर
पाती हैं

इतनी
आसानी से
जबान से

कागज के
पास तक
पहुँच कर
भी फिसल
जाती हैं

दिल में
कुछ और होता है
लिखना
कुछ और होता है
जबान तक
कुछ और आता है
लिखा
कुछ और ही जाता है

बहुत कुछ होता है
आस पास की
हवा को हमेशा
बताने के लिये

पर हवा है कि
उससे रुका ही
कहाँ जाता है

उसे भी
कहाँ है
फुरसत
अपने गम
और खुशी
जमाने को
दिखाने के लिये

उसकी
बातों को भी
कहाँ कौन
सुन पाता है

कुछ आवाज
जैसी जरूर
सुनाई देती है

जिसे हल्के होने 

पर एक सरसराहट
कह दिया जाता है

कुछ तेजी से
चलना चाहती है
कभी तो

तूफान आने का
हल्ला मचा
दिया जाता है

‘उलूक’ भी
जानता है
समझता है

उसके खाने के
दाँतो को भी
कोई नहीं
देख पाता है

सबकी
आदत और
संगत का असर
उस पर भी होता है

बहुत बार वो भी
एक हाथी होने से
अपने को नहीं
बचा पाता है

मान लेना बहुत
मुश्किल होता है

अपना ही कर्म
अपनी ही आँखों में
बहुत आसानी से
बहुत बार धूल
झोंक ले जाता है ।

चित्र साभार : http://www.shutterstock.com/

सोमवार, 1 सितंबर 2014

उनकी खुजली उनकी अपनी खुजली खुद ही खुजलाने की

कोई ऐसी बात भी
नहीं है बताने की
बातों बातों में ही
बात उठ गई कहीं
लिखने लिखाने की
खबर रखते हैं कुछ
लोग सारी दुनियाँ
सारे जमाने की
बात बात पर होती है
आदत किसी की
बिना बात के भी
यूँ ही मुस्कुराने की
लिखते नहीं हैं कभी
बस पूछ लेते हैं
बात कहीं पर भी
लिखने लिखाने की
बीच बाजार में
कर देते हैं गुजारिश
कुछ लिखा कुछ पढ़ा
जोर से सुनाने की
‘उलूक’ मिटाता है
खुजली खुद ही
अपनी हमेशा
कुछ लिख
लिखा के जरा
ऐसी बातें होती
ही कहाँ हैं किसी
को इस तरह
से बताने की।
 
चित्र: साभार http://www.clipartpanda.com/