उलूक टाइम्स: मई 2016

बुधवार, 25 मई 2016

नोच ले जितना भी है जो कुछ भी है तुझे नोचना तुझे पता है अपना ही है तुझे सब कुछ हमेशा नोचना

कहाँ तक
और
कब तक

नंगों के
बीच में
बच कर
रहेगा

आज नहीं
कल नहीं
तो कभी
किसी दिन

मौका
मिलते ही
कोई ना
कोई

धोती
उतारने
के लिये
खींच लेगा

कुछ अजीब
सा कोई
रहे बीच
में उनके

इतने दिनों
तक आखिर
कब तक
इतनी
शराफत से

बदतमीजी
कौन ऐसी
यूँ सहेगा

शतरंज
खेलने में
यहाँ हर
कोई है
माहिर

सोचने
वाले प्यादे
को कब
तक कौन
यूँ ही
झेलता
ही रहेगा

कुत्ता खुद
आये पट्टा
डाल कर
गले में
अपने

एक जंजीर
से जुड़ा
कर देने
मालिक के
हाथ में

ऐसा कुत्ता
ऐसा मालिक
आज गली
गली में
इफरात
से मिलेगा

फर्जीपने
की दवाई
बारकोड

ले कर
आ रहे
हैं फर्जी
जमाने के
उस्ताद लोग

फर्जी आदमी
की सोच में
बारकोड
लगा कर
दिखाने को
कौन क्या और
किससे कहेगा

‘उलूक’
आज फिर
नोच ले
जितना भी
नोचना है
अपनी
सोच को

उसे भी
पता है
तू जो भी
नोचेगा

अपना ही
अपने आप
खुद ही
नोचेगा ।


चित्र साभार: worldartsme.com

सोमवार, 23 मई 2016

लिखना हवा से हवा में हवा भी कभी सीख ही लेना

कफन
मरने के
बाद ही
खरीदे
कोई

मरने
वाले के लिये
अच्छा है

सिला सिलाया
मलमल का
खूबसूरत सा
खुद पहले से
खरीद लेना

जरूरी है
थोड़ा सा कुछ
सम्भाल कर
जेब में उधर
ऊपर के लिये
भी रख लेना

सब कुछ इधर
का इधर ही
निगल लेने से
भी कुछ नहीं होना

अंदाज आ ही
जाना है तब तक
पूरा नहीं भी तो
कुछ कुछ ही सही
यहाँ कितना कुछ
क्या क्या
और किसका
सभी कुछ
है हो लेना

रेवड़ियाँ होती
ही हैं हमेशा से
बटने के लिये
हर जगह ही

अंधों के
बीच में ही
खबर होती
ही है

अंधों के
अखबारों में
अंधों के लिये ही

आँख वालों
को इसमें
भी आता है
ना जाने
किसलिये इतना
बिलखना रोना

लिखने वाले
लिख गये हैं
टुकडे‌ टुकड़े में
पूरा का पूरा
आधे आधे का
अधूरा भी
हिसाब सारा
सब कुछ कबीर
के जमाने से ही

कभी तो माना
कर जमाने के
उसूलों को
‘उलूक’

किसी एक
पन्ने में पूरा
ताड़ का पेड़
लिख लेने से
सब कुछ
हरा हरा
नहीं होना ।

चित्र साभार: www.fotosearch.com

बुधवार, 18 मई 2016

राजशाही से लोकतंत्र तक लोकतांत्रिक कुत्ते और उसकी कटी पूँछ की दास्तान

राजा राजपाट
प्रजा शाह
शहंशाह
कहानियाँ
एक नहीं हैं
कई कई हैं
किताबों में हैं
पोथियों में हैं
पुस्तकालयों में हैं
विद्यालयों में हैं
कोने कोने पर
फैली हुई हैं
कुछ जगी हुई हैं
कुछ आधी
नींद में हैं
उँनीदी हुई हैं
कुछ अभी
तक सोई हुई हैं
राजतंत्र कहते हैं
पुरानी कहानी है
राजा रानी होते थे
एक नहीं बहुत
सारी निशानी हैं
कहीं उनकी यादें हैं
कहीं उनके ना
होने की वीरानी है
सब को ये सब
पता होता है
‘उलूक’
तेरी बैचैनी
भी समझ के
बाहर होती है
जो नहीं होता है
उसके लिये ही तू
किसलिये हमेशा
इतना जार
जार रोता है
अब तक भी
समझता क्यों नहीं है
प्रजातंत्र हो चुका है
सारे प्रजा के तांत्रिक
प्रजा के लिये ही
तंत्र करते हैं
स्वाहा: स्वाहा:
कहते हुऐ
प्रजा की परतंत्रता
के लिये अपना
सब कुछ अर्पण
तुरंत करते हैं
केवल और केवल
एक सौ आठ बार
रोज सुबह और शाम
इसी पर आधारित
सारे के सारे
मंत्र करते हैं
तंत्र करते भी हैं
तो सिर्फ प्रजा
के लिये ही
तंत्र करते हैं
राजतंत्र होता
था पहले
बस एक
राजा होता था
अब हर कोने
कोने पर होता है
राजा होता है
नहीं होता है
राजा होते हैं होता है
राजा के नीचे भी
जो होता है
वो भी राजा होता है
राजाओं की
शृंखला होती है
शृंखला की कड़ी
में हर कड़ी के
सिर पर मुकुट होता है
दिखता नहीं है
नहीं दिखने वाली
हिलती हुई कुत्ते
की पूँछ होती है
ना कुत्ता होता है
ना मालिक होता है
मालिक तो होता
ही है कुत्ता भी
राजा होता है
ऐ मालिक तेरे
बंदे हम का
अहसास यहीं
और यहीं होता है
बिना पूँछ का कुत्ता
आँखों में आँसू
लिये होता है
कुत्ता होता है
पर कुत्तों की
श्रंखला से बाहर
अपने कुत्ते होने
पर रोता हुआ
अपनी कटी पूँछ
का मातम
कर रहा होता है ।

चित्र साभार: www.parispoodles.com

बुधवार, 11 मई 2016

किसे पड़ी है तेरे किसी दिन कुछ नहीं कहने की उलूक कुछ कहने के लिये एक चेहरा होना जरूरी होता है



लिखा हुआ
हो 
कहीं पर भी
हो 
कुछ भी
हो 

देख कर
उसे 
पढ़ना
और 
समझना 

हमेशा
जरूरी 
नहीं होता है 

कुछ कुछ 
खराब हो चुकी 
आँखों को 

खुली
रख कर 
जोर
लगा कर 
साफ साफ 
देखने
की 
कोशिश करना 

कुछ
दिखना 
कुछ
नहीं दिखना 

फिर
दिखा दिखा 
सब
 दिख गया
कहना 

कहने
सुनने सुनाने 
तक ही
ठीक होता है 

सुना गया
सब कुछ 
कितना
सही होता है 

सुनाई देने
के बाद 

सोचना
जरूरी 
नहीं होता है 



रोजाना
कान की 
सफाई करना 

ज्यादातर
लोगों 
की
आदत में 

वैसे भी
शामिल 
नहीं होता है 

लिखने लिखाने 
से
कुछ होना है 
या
नहीं होना है 

लिखने वाले 
कौन है

और 
लिखे को
पढ़ कर 

लिखे पर
सोचने 
लिखे पर
कुछ 
कहने वाले
कौन हैं 

या 
किसने
लिखा है 
क्या लिखा है 

लिख दिया है 
बताने वाले 
लोगों को 

सारा लिखा 
पता होना 
जरूरी 
नहीं होता है 

लेखक लेखिका 
का
पोस्टर 
लगा कर 
दुकान खोल 
लेने से 

किताबें
बिकना 
शुरु
होती भी हैं 

तब भी 
हर दुकान 
का
रजिस्ट्रेशन 

लेखक
के नाम से 
हर जगह होना 
होता है 

या 
नहीं होता है 
किसे
पता होता है 

लिखने 
लिखाने वाला 

लिखने
की 
दुकान के 
शटर खोलने
की 
आवाज
के 
साथ उठता है 

शटर
गिराने
की 
आवाज के 
साथ सोता है 

कौन
जानता है 

ऐसा
भी होता है 
या
नहीं होता है 

अपनी अपनी 
किताबें
संभाले 
हुए लोगों को 

आदत पड़ 
चुकी होती है 

अपना लिखा 
अपने आप 
पढ़नें की 

खुद
समझ कर 
खुद को
खुदी 
समझा ले जाना 

खुदा भी
समझ 
पाया है या नहीं 

खुदा
ही जानता है 

सब को
पता हो 
ये भी जरूरी 
नहीं होता है 

किसी के
कुछ 
लिखे को

नकार 
देने की हिम्मत 
सभी में 
नहीं होती है 

पूछने वाले 
पढ़ते हैं 
या नहीं 
पता नहीं 
भी
होता है 

प्रश्न करना 
इतना जरूरी 
नहीं होता है 

लिखना
कुछ भी 
कहीं भी
कभी भी 

इतना
जरूरी होता है  

दुनियाँ चलती है 
चलती रहेगी 

हर आदमी

खरीफ 
की
फसल हो 

जरूरी
कहीं 
थोड़ा सा होता है 

कहीं
जरा सा 
भी
नहीं होता है 

फारिग
हो कर 
आया हर कोई 
कहे

जरूरी है 
जमाने के 
हिसाब से 
खेत में जाना 

इस
जमाने में 
अब
जरूरी नहीं 

थोड़ा नहीं 


बहुत
ही 
खतरनाक 


होता है 

सफेद पन्ना 


दिखाने 
के लिये 

रख 

काफी है 

‘उलूक’ 

लिखा 


लिखाया 
काला 



सब 
सफेद 


होता है । 

 चित्र साभार: www.pinterest.com

गुरुवार, 5 मई 2016

भीख भिखारी कटोरे अपदस्थ सरकार के समय का सरकारी आदेश तैयार शिकार और कुछ तीरंदाज अखबारी शिकारी

संदर्भ: व्यक्तिगत और संस्थागत परीक्षार्थी। राज्यपाल की समझ में आयेगी बात क्योंकि परीक्षा निधी की लेखा जाँच गोपनीयता के मुखौटे के पीछे छिपा कर नहीं होने दी जाती है। पूरे देश को देखिये अरबों का झमेला है। आभार उनका ।

आता है 

एक सरकारी
आदेश


उस समय

जब
अपदस्त
होती है

जनता की
सरकार


आदेश
छीन लेने का


सारे कटोरे

सभी सफेदपोश
भिखारियों के

और

दे
दिये जाते हैं

उसी समय
उसी आदेश
के साथ


सारे कटोरे

कहीं और के
तरतीब के साथ

लाईन
लगाने

और
माँग कर

खाने वाले

पेट भरे हुऐ

भूखे
भिखारियों को


खबर
अखबार

ही देता है

रोज की
खबरों

की तरह

पका कर
खबर को

बिना नमक
मिर्च धनिये के

खुश होते हैं

कुछ लोग
जिनको

पता होता है

समृद्ध
पढ़े लिखे

बुद्धिजीवी
भिखारियों
के भीख

मांगने

और
बटोरने

के तरीकों

और

उनके
कटोरों का


उसी
समय लेकिन


समय भी
नहीं लगता है


उठ खड़ा
होता है

सवाल

अखबार

समाचार
और

खबर देने
वालों के

अखबारी
रिश्तेदारों

के कटोरों का

जिनका
कटोरा
कहीं ना कहीं


कटोरों से
जुड़ा होता है


पता
चलता है

दूसरे दिन

सुबह का
अखबार

गवाही देना
शुरु होता है


पुराने
शातिर
सीखे हुए

भिखारियों
की तरफ से

कहता है

बहुत
परेशानी

हो जायेगी

जब भीख

देने वालों
की जेबें

फट जायेंगी

दो रुपियों
की भीख

चार रुपिया
हो जायेगी


बात

उस
भीख की

हो रही
होती है
जो
करोड़ों
की होती है

अरबों की
होती है


जिसे नहीं
पाने से

बदहजमी

डबलरोटी

कूड़ेदान में
डालने
वालों को
हो रही होती है


जनता को
ना मतलब

कटोरे से
होता है


ना कटोरे
वालों से
होता है


अखबार
वालों को


अमीर
भिखारियों के

खिलाफ
दिये गये


फैसले से
बहुत
खुजली
हो रही होती है


पहले दिन
की खबर


दूसरे दिन
मिर्च मसाले

धनिये से
सजा कर

परोसी गई
होती है


‘उलूक’ से
होना
कुछ
नहीं होता है


हमेशा
की तरह

उसके पेट में
गुड़ गुड़ हो
रही होती है


बस ये
देख कर

कि

किसी को
मतलब
ही
नहीं होता है


इस बात से
कि
भीख
की गंगा

करोड़ो की

हर वर्ष

आती जाती
कहाँ है


और
किस जगह

खर्च हो
कर
बही
जा रही
होती है ।


 चित्र साभार: www.canstockphoto.com