चिट्ठा अनुसरणकर्ता

मंगलवार, 9 जुलाई 2019

खुद अपना मन्दिर बना कर खुद मूर्ती एक होना चाहता है साफ नजर आता है देखिये अपने आसपास है कोई ऐसा जो भगवान जैसा नजर आता है


"ब्लॉग उलूक पर पच्चीस  लाख कदमों  को शुक्रिया"


भगवान बस 
भगवानों से ही 

रिश्ते बनाता है 

किसी 
आदमी से 
बनाना चाह लिया 
रिश्ता कभी उसने तो 

सब से 
पहले उसे 
एक भगवान बनाता है 

एक 
आदमी 
उसे जरा 
सा दमदार 
अगर नजर 
आ भी जाता है 

उससे 
तार मिलाने 
की इच्छा को 
उभरता हुआ 
महसूस यदि 
कर ही जाता है 

सबसे पहले 
उस आदमी से 
आदमियत 
निकाल कर 
उसे भगवान 
बनाता है 

भगवानों की 
श्रँखलायें होती है 

इंसानियत 
के साये से 
बहुत दूर होती हैं 

भगवान 
इन्सान को 
पाल सकता है 

मौज में 
आ गया कभी 
तो कुत्ता भी 
बना ले जाता है 

हर 
इन्सान 
के आसपास 

कई 
भगवान होते हैं 

कौन 
कितना 
भगवान 
हो चुका है 

समय 
के साथ 
चलता हुआ 
आदमी का 
अच्छा बुरा 
समय ही 
उसे 
समझाता है 

कुछ 
आदमी 
भगवान ने 
भगवान 
बना दिये होते हैं 

भगवान 
से बहुत 
ज्यादा 
भगवान 

उनकी 
हरकतों से 
बहता हुआ 
नजर आता है 

धीरे धीरे 
हौले हौले 
हर तरफ 
हर जगह 
बस भगवान 
ही नजर आता है 

‘उलूक’ 
देखता 
चलता है 

आदमी के 
बीच से 
होते हुऐ 
भगवान 
कई सारे 

देखने 
में मजा 
भी आता है 

आदमी 
तो आदमी 
ही होता है 

भगवान 
बना भी दिया 
अगर किसी 
ने ले दे के 

औकात 
अपनी 
फिर भी 
आदमी 
की ही 
दिखाता है


 चित्र साभार: https://making-the-web.com

13 टिप्‍पणियां:

  1. भगवान
    बना भी दिया
    अगर किसी
    ने ले दे के

    औकात
    अपनी
    फिर भी
    आदमी
    की ही
    दिखाता है.... हा हा हा .. वाह! बहुत खूब!!!

    जवाब देंहटाएं
  2. वाह ! जादुई शब्द हैं या शब्दों का जादू ?

    शब्दों की भूलभुलैया में
    घुमाघुमाकर उलूक,
    जहाँ थे वहीं लाकर
    छोड़ जाता है कभी तो
    और कभी साथ
    बहा ले जाता है !!!
    सादर बधाई आदरणीय जोशी सर।

    जवाब देंहटाएं
  3. कुर्सी पर जो बैठा, वह भगवान हो गया,
    ज्यों उस से उतरा तो फिर, शैतान हो गया.
    वह उलूक है, जो कुर्सी का मोल न जाने,
    कुर्सी, क़ाबा-काशी, मानें, सभी सयाने.

    जवाब देंहटाएं
  4. आदरणीय
    "ब्लॉग उलूक पर
    पच्चीस लाख कदमों
    को शुक्रिया"
    शुभ कामनाएँ
    सादर नमन

    जवाब देंहटाएं
  5. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में गुरुवार 11 जुलाई 2019 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  6. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 11.7.19 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3393 में दिया जाएगा

    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  7. वाह!!बेहतरीन किस्सा कुर्सी का ।

    जवाब देंहटाएं
  8. भगवान
    बना भी दिया
    अगर किसी
    ने ले दे के

    औकात
    अपनी
    फिर भी
    आदमी
    की ही
    दिखाता है
    बहुत सुंदर और सटीक प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  9. बड़ी गहरी बात..जो समझ सके तो..

    जवाब देंहटाएं
  10. आदमी में आदमी वाली बातें रहे अच्छा हो तो है ...
    जलावाब लिखा है ...

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...