उलूक टाइम्स: चल शुरू हो जा

बुधवार, 29 मार्च 2017

चल शुरू हो जा

लिखना
जरूरी है

पढ़ने
वालों
के लिये
मत

रुक ना

लिख
कुछ भी

काम
तमाम

कर ना

चल
शुरू होजा

जाड़े
निकल
चुके हैं
गरमी
शुरु हो
चुकी है

अब
फैल कर

लिख ना

चल
शुरू हो जा

जितना
सिकुड़ना
था जिसको
वो सिकुड़
चुका है

जितना
उखड़ना
था जिसको
वो उखड़
चुका है

मन
करता है
तेरा
उड़ने का
तो किसने
रोका है

उड़ ना

चल
शुरू हो जा

सबके वो
पहुँच चुके
हैं वहाँ
जहाँ
पहुँचना
था उनको

अब
किसका
क्या होगा

खाली पीली
में गिनती

मत गिन ना

सपने उनके
तुझे देखने
हैं किसलिये

दिन में
तारे गिन ना

चल
शुरू हो जा

सबकी
अपनी
ढपली है
सबके
अपने
राग हैं

किसी
को लगती
है मिर्ची
किसी को
लगती आग है

सारे ठंडे
कूल कूलों
को गिन ना

चल
शुरू हो जा

कुछ
कर मत
बस
पूरे दिन
सुबह से
लेकर
शाम तक
जप मंत्र
किसी
मनुष्य के

वीडियो
बना कर
फेस बुक
में डाल कर

लाईक
गिन ना

चल
शुरू हो जा

विद्वानों
को
सलाम कर
मूर्खों का
कत्ले
आम कर

जरूरी
होता है
देखना
प्रमाणपत्र
विद्वता का
किसने दिया
होता है

रहने
दे ना

अपना
काम कर

मूर्ख बनने
का अपना
मजा है

बन ना

चल
शुरू हो जा

बहुत कुछ
समझाते हैं

बहुत कुछ
बहुत
जगह पर
बहुत
सारे लोग

अपनी
अपनी
खुजली
सबको
खुजलानी
होती है

तू भी
अपनी
खुजला

अपना
काम

कर ना 


चल
शुरू हो जा ।

चित्र साभार: http://www.clipartkid.com/owl-writing-clipart-writing-owl-teacher-DiXTNs-clipart/

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें