चिट्ठा अनुसरणकर्ता

बुधवार, 26 अप्रैल 2017

लाश कीड़े और चूहों की दौड़

एक
सड़ रही
लाश को
ठिकाने लगा
रहे कीड़ों में

कुछ कीड़े
ऐसे भी
होते हैं
जो लाश के
बारे में
सोचना
शुरु कर
देते हैं
लाश को
दर्द नहीं
होता है
साले
कामचोर
होते हैं

आदत होती है
ऐसे कीड़ों की
ठेके लेना
अच्छाई के
संदेशों के बैनर
बनाने की

कीड़े
चूहा दौड़
में माहिर
होते हैं

जानते हैं
चूहों की
दौड़ को
दूर से
देखकर
उसपर
टिप्पणी
करने वाले
चूहे को कोई
भाव नहीं देता है

दौड़ में
शामिल होना
जरूरी होता है
चूहा होने
के लिये

अपने
आसपास की
हलचलों को
समझना बूझना
और फिर उसपर
कुछ कहने वाले
कुछ बेवकूफ चूहों
का काम होता है

चूहा दौड़
इसलिये
नहीं होती है
कि किसी को
कुछ जीतना
होता है

चूहा अपने
अगल बगल
आगे पीछे
दौड़ते हुऐ
चूहों को
देख कर
खुश होता है

और फिर
और जोर से
ताकत लगा कर
खुद भी दौड़ता है

रोज निकलते हैं
परीक्षाफल
चूहा दौड़ के

जीतने वाले
चूहे ही होते हैं

चूहे खुश होते हैं
फिर शुरु कर
देते हैं दौड़

क्योंकि चूहे
जीते होते हैं

लाश को नोचते
कीड़े अपना काम
कर रहे होते हैं

कीड़ों के भी
गिरोह होते हैं

‘उलूक’ समझ ले
दूर से बैठकर
तमाशा देखने
वाले कीड़े
कामचोर
कीड़े होते हैं

लाश के बारे में
सोचते हैं
और मातम
करते हैं
बेवकूफ होते  हैं
और रोते हैं । 


चित्र साभार: Kill Clip Art Illustrations.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें