चिट्ठा अनुसरणकर्ता

मंगलवार, 23 जनवरी 2018

लावबाली होते हैं वबाल होते हैं कुछ सवाल बस सवाल होते हैं

एक
वबाल है
कुछ पूछने
वाला आज
इनकी उनकी
सबकी नजरों में

इनकी नजर है
कि एक सवाल है
हमेशा इसकी उसकी
सबकी नजरों में

नजर
उठती नहीं है
वबाल होती है
अपने लिये ही
अपने नखरों में

लावबाली होती है
बड़ी वबाल होती है
उठती है तो ठहर
जाती है नजरों में

वबाल
और भी होते हैं
कुछ बह जाते हैं
समय की लहरों में

वबाल से
झुकी होती है
कमर लावबाली
फिर भी लचक लेती है
जिन्दगी के मुजरों में

‘उलूक’
वबाल होते हैं
तो सवाल होते हैं
सवाल होते हैं
तो वबाल होते हैं

वबाल-ए-दोश
सवाल है
बड़ा ही वबाल है

सवाल है आज मगर
है सारे सवालों के पहरों में ।

वबाल = बोझ, मुसीबत,
लावबाली = लापरवाह
वबाल-ए-दोश = कंधे का भार

चित्र साभार: http://www.chrismadden.co.uk

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें