उलूक टाइम्स: समझना जरूरी नहीं होता है हमेशा पागलपन

चिट्ठा अनुसरणकर्ता

मंगलवार, 28 जनवरी 2020

समझना जरूरी नहीं होता है हमेशा पागलपन



एक
लम्बे अर्से
तक

टिक कर

अघोषित
अर्धविक्षिप्तता
के
अंधेरे में

की गयी
बड़बड़ाहट
को

सफेद
कागज के
ऊपर

काले
अक्षरों को
भैंस
बराबर

देखते
समझते
जानबूझ कर

रायते
की तरह
फैलाने की
कोशिश

जरूर
कामयाब
होती है

एक नहीं
कई
उदाहरण
सामने से
नजर आयेंगे

जरूरत
प्रयास
करने की है

अब

कौन
विक्षिप्त है

कौन
अर्धविक्षिप्त है

ये
तरतीब से
पहने हुऐ
कपड़े

या
दिखायी
जा रही

अच्छी
आदतों से

बताया
जा
सकता है
या
नहीं

अलग
प्रश्न पत्र
का
प्रश्न है

फर्क
बस
कोण का
होता है

होती
हर किसी में
है

ये
पक्का है

पर
पैमाना
किसका है

और
 नापा
क्या जा रहा है

ज्यादा
महत्वपूर्ण है

पहले पहले
चलना सीखते

सड़क
से
बाहर उतर जाना

उसी
तरह का है

जैसे
उछलते
कूदते फाँदते

बड़बड़ाहट
के
शब्दों का

कलम
से
निकलते निकलते

फिसल
कर
कागज से
बाहर हो जाना

और
बचा रह जाना

बस
शब्दों की
छीलन का
कागज पर

नहीं
आयेगा
समझ में

क्योंकि
नहीं समझ में
आया ही

बदल
जाता है
होंठों
के बीच

दाँतों से
निकलती
हवा में

रह
जाती हैंं
कुछ
आवाजें
फुस्स फिस्स
जैसी

और
आवाजों
के अर्थ

किसी
शब्दकोष
में
कहाँ
पाये जाते हैं

‘उलूक’

पागल
पागल होते हैं

पागल
कैसे
बनायेंगे
किसी को

समझना
जरूरी नहीं है
हमेशा
पागलपन।

चित्र साभार:
https://iai.tv/articles/is-it-irrational-to-be-rational-auid-1240

8 टिप्‍पणियां:

  1. पागल
    पागल होते हैं

    पागल
    कैसे
    बनायेंगे
    पागल फिर से
    सादर नमन..

    जवाब देंहटाएं
  2. शब्दकोश से सौ-दो सौ भारी-भारी शब्द लो फिर उन में गालियों की हींग, अश्लीलता का नमक और साम्प्रदायिकता की मिर्च मिलाकर, देशभक्ति के मटके में डालकर, ख़ूब हिलाओ. फिर इसको अगले इलेक्शन तक नफ़रत की धूप में सुखाओ.
    तुम विधायक या सांसद तो बनोगे ही और साथ में तुमको ज्ञानपीठ पुरस्कार नहीं मिले तो, जो चोर की सज़ा, वो मेरी !

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज बुधवार 29 जनवरी 2020 को साझा की गई है...... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  4. I have been browsing online more than 4 hours today, yet I never found any interesting article like yours.
    It's pretty worth enough for me. In my opinion, if all site owners and bloggers made good content as you did,
    the internet will be a lot more useful than ever before.


    latest news in hindi

    जवाब देंहटाएं
  5. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 30.1.2020 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3596 में दिया जाएगा । आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी ।

    धन्यवाद

    दिलबागसिंह विर्क

    जवाब देंहटाएं
  6. नमस्ते,

    आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में गुरुवार 30 जनवरी 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं