चिट्ठा अनुसरणकर्ता

मट्ठा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
मट्ठा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शुक्रवार, 20 जनवरी 2012

बहुमत

बहुमत से
जीतना
अच्छा
होता होगा

जो आज हैं
वो भी
बहुमत से हैं
जो कल होंगे
वो भी
बहुमत से
ही होंगे

बहुमत
लोग ही
बनाया
करते हैं
फिर
बहुमत पर
लोग ही
गुर्राया
करते हैं

मैं तो अपने
आस पास के
बहुमत से
परेशान हूँ

बहुमत
लोग अपनी
सुविधा से
ही बनाते
आये हैं

मेरे
आसपास
मैंंने
महसूस
किया है
बहुमत को
बहुत
नजदीकी से

लोग
लगे हैं
मट्ठा
डालने में
बहुमत से

हमसे
नाराज भी
हो जाते हैं
लोग
बहुमत के

हमने
लेकिन हमेशा
अपने को
अल्पमत में
पाया है

बहुत से
लोग
बहुमत
के साथ
अभी भी
जा रहे हैं

अपने लिये
अल्पमत
का गड्ढा
सजा रहे हैं

क्या किया
जा सकता है
कुछ नहीं
कभी नहीं
कोई नहीं
जान पायेगा
कभी
कि
बहुमत
कितनी
चालाकी से
बनाया
जाता है

गलत
बातों को
इस तरह
से सजाया
जाता है
किसी को
भी पता
नहीं चल
कभी पाता है
कि
वो जा
रहा है
बहुमत
के साथ
अपने
लिये ही
एक कब्र
तैयार
करने
के लिए

जाग जाओ
ऎसा बहुमत
मत बनाओ।