चिट्ठा अनुसरणकर्ता

बुधवार, 25 अक्तूबर 2017

कहने दीजिये कुछ कह देने से कहीं कुछ नहीं होता है

कल का
नहीं
खाया है
पता है
आज
फिर से
पकाया है
वो भी
पता है

कल भी
नहीं
खाना था
पता था
आज भी
नहीं
खाना है
पता है

कल भी
पकाया था
कच्चा था
पता था

पूरा पक
नहीं
पाया था
वो भी
पता था

किसी ने
कहाँ कुछ
बताया था
बताना ही
नहीं था

आज भी
पकाया है
पक नहीं
पाया है

कोई नहीं
खायेगा
जैसा था
रह जायेगा

सब को सब
पता होता है
कौन कब
कहाँ कितना
और क्यों
कहता है

सारा हिसाब
बहीखातों में
छोड़ कर
इधर भी
और
उधर भी
एक एक पाई
का सबके
पास होता है

ईश्वर और
कहीं भी
नहीं होता है

जो होता है
बस यहीं कहीं
आस पास
में होता है

दिखता है
मन्दिरों की
घन्टियाँ
बजाना
छोड़ कर

गले में
अपने ही
घन्टी
बाँध कर
यहीं पर
के किसी
एक के लिये

कोई
कितना
जार जार
सर
हिला हिला
कर रोता है

कल नहीं
पता था जिसे
उसे आज भी
पता नहीं होता है

‘उलूक’
इसलिये
कहीं भी
किसी डाल
पर नहीं
होता है

जो होते हैं
वो हर जगह
ही होते हैं

नहीं
होने वाले
नहीं हो पाने
के लिये
ही रोते हैं

पकता रहे
कुछ कुछ
जरूरी है

रसोई
के लिये
रसोईये
का काम
पकाना
और
पकाना
ही होता है

समझ में आने
के लिये नहीं
कहा होता है

जो लिखा
होता है
वो सब
समझ में
नहीं आया
होता है
इसीलिये
लिखा होता है

रोज पकाया
जाता है
कुछ ना कुछ

अधपकों के
बस में बस
इतना ही
तो होता है
जो पकाने
के बाद
भी पका
ही नहीं
होता है।

चित्र साभार: Encyclopedia Dramatica

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें