चिट्ठा अनुसरणकर्ता

शनिवार, 15 दिसंबर 2018

जरूरी नहीं है लिखा जाये हमेशा काँव काँव

तीन अक्षर

शब्द
शिशिर

दिशाहीन
की
कोशिश

लिखने की

दिशायें
धवल उज्जवल

प्रयास

लिखे में
दिखाने की

कड़ाके की ठण्ड

सिकुड़ती सोच

शब्द
वाक्यों पर
बनाता हुआ
एक बोझ

कम होता
शब्दों
का तापमान

दिखती
कण कण
में सोच

ओढ़े
सुनहली ओस

वसुन्धरा
अम्बर
होते
एकाकार

आदमी
के मौसम
होने की

जैसे हो
उन्हें दरकार

लिये हुऐ
सूर्य
की तरह

अमृत
बरसाने
की चाहत

सभी
पूर्वाग्रह
छोड़ कर

लिखने
लिखाने
को कुछ
दे कर
राहत

प्रकृति
के नियम
से बंधे

मौसम के
गुनगुने भाव

बर्फीले
शब्द के
साथ देते

शब्द ही

अहसास

जलते हुऐ
कुछ
मीठे अलाव

‘उलूक’
कोई नहीं

होता है

कभी
धारा के साथ

कभी
धारा के विपरीत

चलाता चल

अपनी

बिना
चप्पुओं की

खचड़ा सी नाव ।

चित्र साभार: https://www.gograph.com

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...