http://blogsiteslist.com

सोमवार, 9 अक्तूबर 2017

यूँ ही हो गये पंद्रह लाख पद चिन्ह पन्ने पर आज ‘उलूक’ के हो गया कुछ पास उसके भी बेचने के लिये

यूँ हीं देख
लिया कर
कुछ कभी भी
बस देखने के लिये

जिंदगी
कट जाती है
उसकी भी
जिसने आँखे
ताड़ कर पूरे को
पूरा ही घूरा हो
अपनी आँखे
सेकने के लिये

यूँ हीं कह
दिया कर
कुछ भी कभी भी
बस फेंकने के लिये

पता कर
ही लेता है
पता करने वाला
अन्दर की बातें
सारी सामने
वाले की खुद
समेटने के लिये

यूँ ही झुक
लिया कर
थोड़ा सा
कभी भी
बस लपेटने
के लिये

आती हैं
कलाबाजियाँ जिसे

कर 
ही लेता
है मजबूर
दुश्मन को
घुटने
टेकने के लिये

यूँ ही लिख
लिया कर
कबाड़

कुछ भी
कभी भी
कहीं भी
भेजने के लिये

देखने
आते ही हैं
‘उलूक’
की हरकतें
कुछ लोग
हमेशा ही
देखने के लिये ।

चित्र साभार: Hypergrid Business

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...