चिट्ठा अनुसरणकर्ता

किया जाये लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
किया जाये लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

रविवार, 24 जून 2012

कुछ नया किया जाये

खुद के
मन के अंदर
घुमड़ रहा हो जो

जरूरी नहीं
उसका बादल
बनने दिया जाये

दूसरा बादल
कहीं और
बना के क्यों ना
बरसने दिया जाये

अपने चेहरे को
अपने आईने
में ही देखा जाये

जरूरी नहीं
जो दिखे खुद को

उसे किसी
और को
दिखाया जाये

अपने अपने
आईने को
पर्दों से
ढक दिया जाये

कोई क्या
देख रहा है
उनके अपने
आईने में
किसी से
ना पूछा जाये

वीराने
बुनने वालों को
किसी दिन
बिल्कुल भी
ना टोका जाये

एक दिन
तो ऎसा हो

जिस दिन
अपने गमलों
को बस
देखा जाये

उनकी
आवारगी
को आज
नजरअंदाज
कर दिया जाये

एक दिन
के लिये सही 

अपना ही
आवारा 
हो
लिया जाये

चुपचाप
आज दिन में ही
सो लिया जाये

कुछ पल
का ही सही
मौन ले
लिया जाये

अपनी
बक बक
की रेल को
लाल सिग्नल
दिया जाये

किसी
और का
सुरीला गीत
आज के लिये
सबको सुनने
को दिया जाये।