उलूक टाइम्स: अच्छे लोग और उनके उनके लिये मिमियाते बकरे

चिट्ठा अनुसरणकर्ता

शुक्रवार, 19 अगस्त 2016

अच्छे लोग और उनके उनके लिये मिमियाते बकरे

बकरे कटने
के लिये ही
होते हों
या
बकरे हर समय
हर जगह कटें ही
जरूरी नहीं है
हर कोई
बकरे नहीं
 काटता है
कुछ लोग
जानते हैं
बहुत ही
अच्छी तरह
कुछ बकरे
शहर में
मिमियाने
के लिये
छोड़ने भी
जरूरी होते हैं
जरूरी नहीं
होता है उन्हें
कुछ खिलाना
या पिलाना
कुछ बकरे
खुद अपनी
हरी पत्तियाँ
खाये हुए
पेट भरे होते हैं
बकरे शहर
में छोड़ना
इस लिये भी
जरूरी होता है
ताकि सनद रहे
और
बकरे भी हमेशा
खुद के लिये ही
नहीं मिमियाते हैं
बकरे वो सब
बताते हैं जो
उन्हें खुद
मालूम नहीं
होता है
बकरों को
गलत फहमी
होती है अपने
खुलेआम
आजादी से
घूमने की
वजह की
जानकारी
होने की
अच्छे लोग
बकरों को
कभी काटा
नहीं करते हैं
बकरे हमेशा
बताते हैं
अच्छे लोगों की
अच्छाइयाँ
शहर की
गलियों में
मिमिया
मिमिया कर
देश को भी
बहुत ज्यादा
जरूरत होती है
ऐसे अच्छे
लोगों की
जिनके पास
बहुत सारे
बकरे होते हैं
सारे शहर में
मिमिया लेने वाले
बिना हरी घास
की चिंता किये हुऐ
‘उलूक’
कब से पेड़ पर
बैठा बैठा
गिनती भूलने
लगा है
अच्छे लोगों
और उनके
उनके लिये
मिमियाते
बकरों को
गिनते गिनते ।

चित्र साभार: www.speakaboos.com

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें