उलूक टाइम्स: पढ़ने वाला हर कोई लिखे पर ही टिप्पणी करे जरूरी नहीं होता है

चिट्ठा अनुसरणकर्ता

बुधवार, 23 अगस्त 2017

पढ़ने वाला हर कोई लिखे पर ही टिप्पणी करे जरूरी नहीं होता है

जो लिखता है
उसे पता होता है

वो क्या लिखता है
किस लिये लिखता है
किस पर लिखता है
क्यों लिखता है

जो पढ़ता है
उसे पता होता है
वो क्या पढ़ता है
किसका पढ़ता है
क्यों पढ़ता है

लिखे को पढ़ कर
उस पर कुछ
कहने वाले को
पता होता है
उसे क्या
कहना होता है

दुनियाँ में
बहुत कुछ
होता है
जिसका
सबको
सब पता
नहीं होता है

चमचा होना
बुरा नहीं होता है

कटोरा अपना
अपना अलग
अलग होता है

पूजा करना
बहुत अच्छा
होता है

मन्दिर दूसरे
का भी
कहीं होता है

भगवान तैंतीस
करोड़ बताये गये हैं

कोई
हनुमान
होता है
कोई राम
होता है

बन्दर
होना भी
बुरा नहीं
होता है

सामने से
आकर
धो देना
होली का
एक मौका
होता है

पीठ पीछे
बहुत करते हैं
तलवार बाजी

‘उलूक’
कहीं भी
नजर नहीं
आने वाले
रायशुमारी
करने वालों का
सारे देश में
एक जैसा एक ही
ठेका होता है ।

चित्र साभार: Cupped hands clip art

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें