चिट्ठा अनुसरणकर्ता

रविवार, 14 अप्रैल 2019

कुछ भी करिये कैसा भी करिये घर के अन्दर करिये बाहर गली में आ कर उसके लिये शरमाना नहीं होता है

गिरोहों
से घिरे हुऐ
अकेले को

घबराना
नहीं होता है

कुत्तों
के पास

भौंकने
के लिये

कोई
बहाना
नहीं होता है

लिखना
जरूरी है

सच
ही बस
बताना
नहीं होता है

झूठ
बिकता है

घर की
बातों को
कभी भी
कहीं भी

सामने से
लाना नहीं
होता है

जैसा
घर में होता है

और
जैसा
बताना
नहीं होता है

नंगई को
टाई सूट
पहना कर
नहलाना
नहीं होता है

भगवान के
एजेंटों को
कुछ भी
समझाना
नहीं होता है

मन्दिर
में ही हो पूजा

अब
उतनी
जरूरी 

नहीं होती है

भगवान
का ही जब
अब कहीं
ठिकाना 

नहीं होता है

कुछ
भी करिये

कैसा
भी करिये

करने
कराने को

देशभक्ति से

कभी भी
मिलाना
नहीं होता है

कुछ
पाने के लिये

किसी को
कुछ दे
कर आ जाना

हमाम में
नंगा होकर
नहाना
नहीं होता है

कुछ
पीटते हैं

ढोल

ईमानदारी का

ठेका लेकर

सारे
ईमानदारों
की ओर से

भगवान
और उनके
ऐजेंटों को

कुछ
बताना
नहीं होता है

उनसे कुछ
पूछने के लिये

इसीलिये
किसी को भी

कहीं आना
कहीं जाना
नहीं होता है

चोरों
उठाईगीरों
बे‌ईमानों को

खड़े
रहना होता है

उनके
सामने से
तराजू के
दूसरे पलड़े पर

 ईमानदारी को
तोलने के लिये

बे‌ईमानी
का बाँट

रखवाना 

ही होता है

इसीलिये

सजा
देकर उनको

जेल में
डालने के लिये

कहीं
जेलखाना
नहीं होता है 


‘उलूक’
देशद्रोही
की चिप्पियाँ

दूसरों में
चेपने के लिये

खुद
हमाम में
जा कर नहाना
नहीं होता है

कुछ
भी करिये

कैसा
भी करिये

घर के अन्दर करिये

बाहर
गली में
आ कर

उसके लिये
शरमाना
नहीं होता है

चित्र साभार: https://www.youtube.com/watch?v=hzefdiwf-dg

12 टिप्‍पणियां:

  1. कुत्तों
    के पास

    भौंकने
    के लिये

    कोई
    बहाना
    नहीं होता है . ..वाह !बेहतरीन आदरणीय
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी ब्लॉग पोस्ट को आज की ब्लॉग बुलेटिन प्रस्तुति राष्ट्रीय अग्निशमन सेवा दिवस और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान जरूर बढ़ाएँ। सादर ... अभिनन्दन।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुछ
    भी करिये

    कैसा
    भी करिये

    करने
    कराने को

    देशभक्ति से

    कभी भी
    मिलाना
    नहीं होता है
    सादर नमन..

    उत्तर देंहटाएं
  4. उलूक का काम, देशभक्तों की करतूतों को, दुनिया भर को जताना नहीं होता
    और
    कोई बेचारा इतनी मेहनत से आग लगाए तो झट जाकर उसे बुझाना नहीं होता

    उत्तर देंहटाएं
  5. सच कहा है सुशील जी ... जब झूठ बिकता है तो सच क्यों बेचो ... पहले उसी से काम चलाओ ... आग लगी रहनी जरूरी है ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (16-04-2019) को "तुरुप का पत्ता" (चर्चा अंक-3307) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  7. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना मंगलवार १६ अप्रैल २०१९ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बिना लाग लपेट के अभिव्यक्ति का सरल प्रवाह ।
    यथार्थ रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  9. भगवान के
    एजेंटों को
    कुछ भी
    समझाना
    नहीं होता है
    ...........वाह! बिलकुल सही!

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह सही है¡
    भगवान के एजेंट तो जीवन बीमा के ऐजेंटो से हमे ही समझाने आते है।
    बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...