उलूक टाइम्स: स्वागत है: शहर आपके कदमों की बस आहट से आबाद है

शनिवार, 19 नवंबर 2022

स्वागत है: शहर आपके कदमों की बस आहट से आबाद है

 


सबसे सही आदमी सुना है आज शहर में है
शहर सुना है मगर खुद कहीं बहर में है

ये सुनना सुनाना सुन लीजिये अच्छी बात नहीं है
सही आदमी है शहर मे है एक छोटी बात नहीं है

सारे बुद्धिजीवी हैं सुना है बुलाये गए हैं बड़ी बात है
सूची बनाई गयी है एक बुद्धिजीवियों की क्या बात है

सारे समाधान हो जाएँगे आज ही रात में कत्ल की रात है
एक ही के सर सजेगा ताज मरेगा कोई नहीं गज़ब की बात है

इस शहर में हर घर में होते हैं सुना लिखे पढ़े हर कोई बेबाक है
कुछ छांटने में लग लेते हैं कुछ सूची बनाते हैं उन्हे अंदाज है

कुछ होते हैं तेरे जैसे भी ‘उलूक’ आज से नहीं सदियों से बर्बाद हैं
करते कराते कुछ नहीं है बस हो रहे कुछ कहीं पर लिख लिखा कर आबाद हैं |

चित्र साभार: https://www.hindustantimes.com/

12 टिप्‍पणियां:

  1. करते कराते कुछ नहीं है
    बस हो रहे कुछ
    कहीं पर लिख लिखा कर
    आबाद हैं |
    सावधान...
    उलूक शहर में है
    सादर नमन

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा आज रविवार 20 नवम्बर, 2022 को     "चलता रहता चक्र"    (चर्चा अंक-4616)  पर भी होगी।--
    कृपया कुछ लिंकों का अवलोकन करें और सकारात्मक टिप्पणी भी दें।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'  

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी लिखी रचना  ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" सोमवार 21 नवम्बर 2022 को साझा की गयी है....
    पाँच लिंकों का आनन्द पर
    आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  4. करते कराते कुछ नहीं है बस हो रहे कुछ कहीं पर लिख लिखा कर आबाद हैं |
    उम्दा । आदरणीय ।

    जवाब देंहटाएं
  5. इस शहर में हर घर में होते हैं सुना लिखे पढ़े हर कोई बेबाक है

    -गजब

    जवाब देंहटाएं
  6. सारे समाधान हो जाएँगे आज ही रात में कत्ल की रात है
    एक ही के सर सजेगा ताज मरेगा कोई नहीं गज़ब की बात है
    कत्ल की रात में ही समाधान होते हैं😄

    जवाब देंहटाएं

  7. क्या बात है, उलूक ने बोली ही बदल ली
    जैसे भी हैं , उलूक के, अन्दाज़ अलग हैं !

    जवाब देंहटाएं
  8. वाह!बहुत खूब! समाधान कत्ल की रात में ..

    जवाब देंहटाएं
  9. सही आदमी और गलत जगह - कैसा आज का ताल-मेल है?

    जवाब देंहटाएं
  10. सारे बुद्धिजीवी हैं सुना है बुलाये गए हैं बड़ी बात है
    सूची बनाई गयी है एक बुद्धिजीवियों की क्या बात है
    वाह!!!!सही है

    जवाब देंहटाएं