चिट्ठा अनुसरणकर्ता

मधुमक्खी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
मधुमक्खी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शनिवार, 9 सितंबर 2017

किस बात की शर्म जमावड़े में शरीफों के शरीफों के नजर आने में

किस लिये
चौंकना
मक्खियों के
मधुमक्खी
हो जाने में

सीखना 
जरूरी
है 
बहुत
कलाकारी
कलाकारों से
उन्हीं के
पैमानों में

किताबें ही
किसलिये
दिखें हाथ में
पढ़ने वालों के

जरूरी नहीं
है नशा
बिकना
बस केवल
मयखाने में

शहर में हो
रही गुफ्तगू
पर कान
देने से क्या
फायदा

बैठ कर
देखा
किया कर
 घर पर ही
हो रहे मुजरे
जमाने में

दुश्मनों की
दुआयें साथ
लेना जरूरी
है बहुत

दोस्त मशगूल
हों जिस समय
हवा बदलवाने
की निविदा
खुलवाने में

‘उलूक’
सिरफिरों
को बात
बुरी लगती है

शरीफों की
भीड़ लगी
होती है
जिस बात को
शरीफों को
शराफत से
समझाने में ।

चित्र साभार: Prayer A to Z

बुधवार, 4 जनवरी 2012

दिल बहलाने

मधुमक्खी हर रोज
की तरह है भिनभिनाती
फूलों पर है मडराती
एक रास्ता है बनाती
बता के है रोज जाती
मौसम बहुत है सुहाना
इसी तरह उसको है गाना
भंवरा भी है आता
थोड़ा है डराता
उस डर में भी तो
आनन्द ही है आता
चिड़िया भी कुछ
नया नहीं करती
दाना चोंच में है भरती
खाती बहुत है कम
बच्चों को है खिलाती
रोज यही करने ही
वो सुबह से शाम
आंगन में चली है आती
सबको पता है रहता
इन सब के दिल में
पल पल में जो है बहता
हजारों रोज है यहाँ आते
कुछ बातें हैं बनाते
कुछ बनी बनाई
है चिपकाते
सफेद कागज पर
बना के कुछ
आड़ी तिरछी रेखाऎं
अपने अपने दिल
के मौसम का
हाल हैं दिखाते
किसी को किसी
के अन्दर का फिर भी
पता नहीं है चलता
मधुमक्खी भंवरे
चिड़िया की तरह
कोई नहीं यहां
है निकलता
रोज हर रोज है
मौसम बदलता
कब दिखें बादल और
सूखा पड़ जाये
कब चले बयार
और तूफाँ आ जाये
किसी को भी कोई
आभास नहीं होता
चले आते हैं फिर भी
मौसम का पता
कुछ यूँ ही लगाने
अपना अपना दिल
कुछ यूँ ही बहलाने ।