उलूक टाइम्स: मन प्रदूषण

सोमवार, 18 जनवरी 2010

मन प्रदूषण

मेरे मन
के
ग्लेशियर
से

निकलने
वाली गंगा

तेरे प्रदूषण
को
घटते बढ़ते

हर पल
हर क्षण
महसूस किया
है मैंने

भोगा है
तेरे गंगाजल
के
काले भूरे
होते हुवे 
रंग को

विकराल 
होते हुवे 

तेरी शांत 
लहरों को

बदलते हुवे
सड़ांध में

तेरी
भीनी भीनी
खुश्बू को

और ऎसे
में अब

मेरी 
सांस्कृ्तिक
धरोहर

मैं खुद
ही चाहूंगा

ये
ग्लेशियर
खुद बा खुद
सूख जाये

ताकि मेरे
मन से 
बहने वाली
पवित्र गंगे

तू मैली
ना कहलाये ।

18 टिप्‍पणियां:

  1. bahut shiddat se mehsoos kiya hai aapne ganga ko... ganga ke bahane aapne prakriti ke prati ho rahe durvyavhar ki oar aapne dhyan aakrshit kiya hai... sundar aur saarthak rachna !

    जवाब देंहटाएं
  2. Bahut khoob. Behtareen rachna hai. Ganga ke pratee yah asstha koi Prakriti Anuragee hi rakh sakta hai.

    जवाब देंहटाएं
  3. मगर फिर भी जुमला यही दोहराते हैं......
    हम उस देश के वासी हैं जिस देश में गंगा बहती है......बहुत अच्छा लेख.....

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह बहुत सुन्दर रचना लिखा है आपने! हर एक पंक्तियाँ दिल को छू गयी! इस उम्दा रचना के लिए ढेर सारी बधाइयाँ!

    जवाब देंहटाएं
  5. आपको और आपके परिवार को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!

    जवाब देंहटाएं
  6. comment ke liye sabd chahiye, jo mere pas nahi hain so main to yahi kahunga ki 'no comment'

    जवाब देंहटाएं
  7. ...taaki Pachouree jaise fraud are amerika jaise dhadhebaajon ko mauka hee n mile. bahut khoob!!!!

    जवाब देंहटाएं
  8. वाह...क्या कहने. मन के ग्लेशियर से निकलने वाली गंगा.अच्छी कल्पना है

    जवाब देंहटाएं
  9. क्‍या इसके लिए अब किसी डिटर्जेन्‍ट की तलाश कर ली है

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (30-08-2014) को "गणपति वन्दन" (चर्चा मंच 1721) पर भी होगी।
    --
    श्रीगणेश चतुर्थी की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  11. Study MBBS in Philippines
    Students are mostly confused now with all the countries and consultancies offering attractive fees and exaggerating all the conditions available in the universities. When it comes to all the other countries that are offering “study MBBS abroad” for years have their own Pros and cons. Every single student willing to study MBBS abroad should have personal research and a thorough understanding of the various countries and universities in general.

    जवाब देंहटाएं
  12. after translation, it was easy for me to understand the topic, also my answer will be yes if you ask me whether one should trust

    Dr Fone Trustworthy
    its totally trust worthy and easy to use

    जवाब देंहटाएं