उलूक टाइम्स: बकवास करना भी कभी एक नशा हो जाता है अपने लिखे को खुद ही पढ़ कर अन्दाज कहाँ आता है

चिट्ठा अनुसरणकर्ता

सोमवार, 22 अक्तूबर 2018

बकवास करना भी कभी एक नशा हो जाता है अपने लिखे को खुद ही पढ़ कर अन्दाज कहाँ आता है

कहावतें भी 
समय
के साथ
बह जाती हैं

चिंता
चिता के
समान
होती होंगी
कभी

अब
मगर
चितायें भी
बहा ले
जायी
जाती हैं

लकड़ियाँ
रह भी
गयी अगर
जलाती
नहीं है

बस
थोड़ा
थोड़ा सा
सुलगाती हैं

इसलिये

लगा रह

चिंता कर

लेकिन
कभी कभी
बकवास भी

पढ़
लिया कर

अंगरेजी
में कहते हैं

फॉर ए चेंज

बकवास
लिखने के
कई फायदे
जरूर हैं

फिर भी
बकवास
लिखने के
कायदे
भी होते हैं

कभी
कोशिश
कर के
देख ले
लिखने की

कोई भी
बकवास

देख कर
समझ कर
कुछ भी

अपने ही
अगल बगल
अपने ही
आसपास

बकवास
कभी इतिहास
नहीं
हो पाती है

ध्यान रहे

एक दिन
के बाद
दूसरे दिन
साँस भी
नहीं ले
पाती है

कोई
देखने नहीं
आता है

कोई नहीं

हाँ तो

मतलब

देखना
पड़ता है

जो किया
जाता है

उसको
कितनों
के द्वारा

नजर के
दायरे में
लिया
जाता है

सोचो जरा

कूड़े के
ढेर में
कौन
कौन सा
किस
प्रकार का
कैसा कैसा

कूड़ा
गेरा गया है

कौन
इतना
ध्यान
लगाता है

सारा
मिलमिला कर
सब
एक जैसा
सार्वभौमिक
हो जाता है

एक तरह से

ईश्वरीय
हो जाता है

सर्वव्यापी
क्या होता है

महसूस
करा जाता है

अब
सब लोग
कूड़ा क्यों
देखेंगे भला

अच्छा
भी तो
बहुत सारा
होता है

जिस पर
सबका
हिस्सा
माना
जाता है

और
जो
मिलजुल कर
साथ साथ
कूड़े को
पाँव के नीचे
दबाकर

उँचे स्वर में
गाया जाता है

दुर्गंध
क्या होती है

जब
सड़ाँध है
को
होने के
बावजूद

सर्वसम्मति से
नकार
दिया जाता है

मतलब
इस सब
के बीच

कोई
लिखने में
लग जाता है

ऊल जलूल
लिखा हुआ
किसी को

कविता
कहानी
जैसा

नजर
आना शुरु
हो जाता है

क्या
किया जाये

अंधा लूला
लंगड़ा काना
किस
दिशा में
किस चीज में
रंगत
देख ले जाये

कौन
बता पाता है

अब
‘उलूक’
इस सब
के बीच

बकवास
करने के
धंधें में
कब
पारंगत
हो जाता है

उसे भी
तब अन्दाज
आता है

जब कोई
कहना शुरु
कर देता है

अबे तू
किसलिये
फटे में
टाँग अड़ा कर

इतना
खिलखिलाता है

सार ये है
कि

ठंड रखना
सबसे अच्छा
हथियार
माना जाता है

कुछ दिन
चला कर
देख ले

कितना
मजा आता है ।



***********************************************

कुरेदना राख को उसका देखिये जनाब बबाल कर गया
आग बैठी देखती रह गयी बहुत दूर से कमाल कर गया । ***********************************************

चित्र साभार: http://www.i2clipart.com

1 टिप्पणी: