उलूक टाइम्स: पञ्चतन्त्र में सुधार: कूदना छोड़ उड़ना सीख मेंढक

सोमवार, 11 फ़रवरी 2013

पञ्चतन्त्र में सुधार: कूदना छोड़ उड़ना सीख मेंढक

समुद्री जीव 
आक्टोपस
बना दिया गया एक कुऎं का राजा

मिलने जा पहुँचा 
मेंढकों से
जब सबने उससे बोला 
एक बार तो यहां आजा

कतार में खडे़ मेंढक
एक एक 
कर
अपना 
परिचय उसे देते ही जा रहे थे

कुछ
कुऎं ही में 
रहे हुऎ थे हमेशा
कुछ
अंदर बाहर 
भी
कभी कभी 
आ जा रहे थे

अपनी अपनी 
जीभों की लम्बाई
बता बता कर इतरा रहे थे
किस किस तरह के 
कीडे़ मकौडे़ मच्छर
वो कैसे कैसे खा रहे थे

महाराज लेकिन 
ये सब
कहाँ 
सुनने जा रहे थे

व्हेल एक 
पाल क्यों नहीं लेते
सब मेंढक मिल बाट कर
अच्छी तरह समझाये जा रहे थे

साथ में बता रहे थे
जिस समुद्र को
वो 
यहाँ के राज पाट के लिये
छोड़ 
के आ रहे थे

वहाँ
एक हजार 
समुद्री व्हेलों को 
खुद पाल के आ रहे थे

सारे समुद्र के 
समुद्री जन
व्हेल का तेल ही तेल बना रहे थे

कीडे़ मकौडे़ नहीं 
बड़ी मछली का मांस भी
साथ में खा रहे थे

वहाँ की
तरक्की का 
ये उपक्रम
वो मेंढकों 
से कुऎं में भी 
करवाना चाह रहे थे

मेंढक
शर्मा शर्मी 
हाँ में हाँ मिला रहे थे

मन ही मन
अपने 
कूदने की लम्बाई भी
भूलते जा रहे थे

बेचारों को
याद भी 
नहीं रह पा रहा था
कि
नम्बर एक और 
नम्बर दो करने भी 
अभी तक वो लोग
खेतों की ओर ही तो जा रहे थे

कितने कुऎं से 
बना होता होगा 
वो समुद्र
जहाँ 
से उनके राजा जी यहाँ आ रहे थे

कुंद हो रही थी 
बुद्धि अब 

सोच रहे थे
कुछ सोच भी क्योंं नहींं
 पा रहे थे ।

चित्र साभार: 
https://in.pinterest.com/

13 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया है भाई-

    व्हेल का तेल-

    समुद्र का रजा-

    बजे मेंढकों का बाजा ।।

    जवाब देंहटाएं
  2. नयी सोंच नया तंत्र ,नया पंच तंत्र ,जारी रखे,शुभकामनाये

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" सोमवार 22 फरवरी 2021 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  4. रूपकों का अच्छा प्रयोग किया है । बस यूं ही उछल कूद होती रहती , बाकी तो जो है सो है ।

    जवाब देंहटाएं
  5. अपना छोड़ दूसरों की राह चलने वाले न घर न घाट के रहते हैं

    बहुत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं