उलूक टाइम्स: अब तुम भी पूछोगी क्या?

सोमवार, 15 जुलाई 2013

अब तुम भी पूछोगी क्या?

क्यों पूछती हो
एक ही बात बार बार

ये किस पर 
लिखा है
क्या कुछ लिखा है

मैने कभी 
क्या तुमसे कहा है
मैं लिख रहा हूँ 
तुमको पढ़ भी लेना है समझना है

इतने लोग हैं 
यहाँ
कुछ ना 
कुछ लिखते हुऎ
शायद 
तुमको भी 
मेरी तरह ही नजर आ रहे हैं

किसी को 
कुछ लगता है अच्छा
किसी को लगता है कुछ बुरा

सब ही तो 
अपनी अपनी बात यहाँ समझा रहे हैं

अब जैसे 
कभी
चोर 
पर लिखा दिखता है कहीं अगर
तो कौन सा सिपाही लोग
उसको पकड़ने को जा रहे हैं

बस
लिख 
ले जा रहे हैं हम भी
कुछ कहीं 
करने को नहीं जा रहे हैं

करने वाले 
सब लगे हुऎ हैं करने में
वो कौन सा तुम्हारी तरह
पढ़ने 
को यहाँ आ रहे हैं

या तो
सीख 
लो उन से कुछ करना
नहीं तो 
बस पढ़ लिया करना

अगली बार 
से हम भी 
तुमको बताने ये नहीं जा रहे हैं

हम से 
होता तो है कुछ भी नहीं
सरे आम देख कर आते हैं वहाँ कुछ

अपनी
अंधेरी 
गली में
खम्बा नोचना तक अपना
किसी को भी नहीं दिखा पा रहे हैं ।

चित्र साभार: http://clipart-library.com/

4 टिप्‍पणियां: