चिट्ठा अनुसरणकर्ता

शनिवार, 26 मई 2012

वकील साहब काश होते आज

मेरे शहर अल्मोड़ा
की लाला बाजार

ऎतिहासिक शहर
बुद्धिजीवियों की
बेतहाशा भरमार

बाजार में लगा
ब्लैक बोर्ड पुराना

नोटिस बोर्ड की
तरह जाता है
अभी तक भी जाना

छोटा शहर था
हर कोई शाम को
बाजार घूमने जरूर
आया करता था

लोहे के शेर से
मिलन चौक तक
कुछ चक्कर जरूर
लगाया करता था

शहर
का आदमी
कहीं ना कहीं
दिख ही जाता था

शहर की
गतिविधियाँ
यहीं आकर पता
कर ले जाता था

मेरे शहर में
मौजूद थे
एक वकील साहब

वकालत
करने वो कहीं
भी नहीं जाते थे
हैट टाई लौंग कोट
रोज पहन कर
बाजार में चक्कर
लगाते चले जाते थे

बोलने
में तूफान
मेल भी साथ
साथ दौड़ाते थे
लकडी़ की छड़ी
भी अपने हाथ
में लेके आते थे

कमप्यूटर उस
समय नहीं था
कुछ ना कुछ
बिना नागा
ब्लैक बोर्ड
पर चौक
से लिख
ही जाते थे

उस समय
हमारी समझ
में उनका
लिखा
कुछ भी
नहीं आता था

पर
लिखते गजब
का थे उस समय
के बुजुर्ग लोग
हमें बताते थे

बच्चे
उनको
पागल
कह कर
चिढ़ाते थे

आज
वकील साहब
ना जाने
क्यों याद
आ रहे हैं

भविष्य
की कुछ
टिप्पणियां
दिमाग
में आज
ला रहे हैं

मास्टर
साहब एक
कमप्यूटर
पर रोज
आया  करते थे

कुछ ना कुछ
स्टेटस पर
लिख ही
जाया करते थे।


2 टिप्‍पणियां: