उलूक टाइम्स: हिंदी दिवस तो हो गया

चिट्ठा अनुसरणकर्ता

शनिवार, 14 सितंबर 2013

हिंदी दिवस तो हो गया

हिंदी दिवस ही
तो था हो गया
कुछ को पता था
कुछ और को भी
चलो आज इसी
बहाने से और
पता हो गया
हिंदी के अखबार में
छोटा सा समाचार
हिंदी दिवस पर
दिखा कहीं कौने
पर एक वो भी
पढ़ते पढ़ते पता
ही नहीं चला
कंहा गया और
कहां खो गया
अब किसी सँत
वैलेंटाईन का
आदेश तो था नहीं
जो कह ले जाते
मनाना बहुत ही
जरूरी हो गया
चकाचौंध कभी
थी नहीं वैसे भी
हिंदी भाषा में
सीधी सादी एक
हीरोईन को छोटे
कपड़ों में आना
लगता है अब
बहुत ही जरूरी
सा कुछ हो गया
सबसे सुन्दर और
अलंकृत मात्र भाषा
की सुन्दरता को
उसके अपनो को ही
दिखाने के लिये
एक नजदीक का
चश्मा पहनाना
लगता है अब बहुत
ही जरूरी हो गया
ज्यादा क्या लिखना
हिंदी जैसे विषय पर
घर की मुर्गी का
स्वाद एक बार फिर
से जब मूंग की दाल
के बराबर हो गया ।

7 टिप्‍पणियां:

  1. आपको यह बताते हुए हर्ष हो रहा है के आपकी यह विशेष रचना को आदर प्रदान करने हेतु हमने इसे आज के ब्लॉग बुलेटिन - हिंदी को प्रणाम पर स्थान दिया है | बहुत बहुत बधाई |

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हिंदी दिवस के शुभ मौके पर हिंदी को एक ओर उपहार ---हिंदी तकनीकी दुनिया का शुभारंभ... कृपया पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें |

      हटाएं
  2. है जिसने हमको जन्म दिया,हम आज उसे क्या कहते है ,
    क्या यही हमारा राष्र्ट वाद ,जिसका पथ दर्शन करते है
    हे राष्ट्र स्वामिनी निराश्रिता,परिभाषा इसकी मत बदलो
    हिन्दी है भारत माँ की भाषा ,हिंदी को हिंदी रहने दो .....

    बेहतरीन प्रस्तुति के लिए ! बधाई सुसील जी

    RECENT POST : बिखरे स्वर.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हिंदी दिवस के शुभ मौके पर हिंदी को एक ओर उपहार ---हिंदी तकनीकी दुनिया का शुभारंभ... कृपया पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें |

      हटाएं
  3. हिंदी दिवस के शुभ मौके पर हिंदी को एक ओर उपहार ---हिंदी तकनीकी दुनिया का शुभारंभ... कृपया पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें |

    जवाब देंहटाएं
  4. बेहतरीन प्रस्तुति.
    हिंदी दिवस की शुभकामनाएं...

    जवाब देंहटाएं
  5. हिंदी दिवस पर बहुत बडिया व्यंग।

    जवाब देंहटाएं