http://blogsiteslist.com

बुधवार, 25 अप्रैल 2012

बदल जमाने के साथ चल

जमाने के साथ आ
जमाना अपना मत बना
इमानदारी कर मत
बस खाली दिखा
अन्ना की तरफदारी
भी कर ले
कोई तेरे को कहीं
भी नहीं रोक रहा
सफेद टोपी भी लगा
शाम को मशाल जलूस
अगर कोई निकाले
अपने सारे गिरोह को
उसमें शामिल करा लेजा
"सत्य अहिंसा भाईचारा
कुछ नये प्रयोग"
पर सेमिनार करा
संगोष्ठी करा वर्कशोप करा
इन सब कामों में हम से
कुछ भी काम तू करवा
हमें चाहे एक धेला
भी ना दे जा
पर हमारे लिये
परेशानी मत बन
कल उसने कुत्ते को
देख कर बकरी कहा
कोई कुछ कर पाया
हमने कुत्ते को कागज
पर "एक बकरी दिखी थी"
का स्टेटमेंट जब लिखा
अब भी संभल जा
उन नब्बे लोगों में आ
जिन्होने कुत्ते को बकरी
कहने पर कुछ भी नहीं कहा
बस आसमान की तरफ
देख कर बारिश
हो सकती है कहा
बचे दस पागलों का
गिरोह मत बना जिनको
कुत्ता कुता ही दिखा
गाड़ी मिट्टी के तेल
से घिसट ही रही हो
पहुंच तो रही है कहीं
पैट्रोल से चलाने का
सुझाव मत दे जा
जाके कहीं भी आग लगा
और हमारी तरह सुबह के
अखबार मे अपनी फोटो पा
बधाई ले लडडू बंटवा।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...